Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


शिल्पा शेट्‌टी के दिवंगत पिता ने लिया था 21 लाख का कर्ज, नहीं चुकाने पर शेट्‌टी फैमिली पर केस दर्ज      |      विराट को आखिरी दो वनडे और टी-20 सीरीज के लिए आराम      |      महात्मा गाँधी के विचारों को व्यवहारिक जीवन में आत्मसात करना जरूरी      |      आगामी खेलो इंडिया यूथ गेम्स के मैडल में हो चार गुना बढ़ोतरी      |      प्लेसमेंट के लिए योग्य विद्यार्थियों को ही रोजगार मेले में बुलाएँ      |      पेस-स्टोसुर की जोड़ी हारी, टूर्नामेंट में भारतीय चुनौती समाप्त      |      डेब्यू / अनुराग कश्यप कर रहे परेश रावल के बेटे को लाॅन्च, बम्फाड से बॉलीवुड में एंट्री करेंगे आदित्य      |      बंगाल / ममता को डर था- भाजपा की रथ यात्रा निकलती तो उनकी सरकार की अंतिम यात्रा होती      |      दावोस में विश्व आर्थिक मंच पर मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ      |      वाराणसी / मोदी ने कहा- भारत जल्द ही चिप आधारित ई-पासपोर्ट जारी करेगा      |      अंकिता रैना सिंगापुर ओपन चैम्पियन बनीं      |      दिशा वकानी ने कहा तारक मेहता का उल्टा चश्मा को अलविदा कह दिया है      |      जनसम्पर्क मंत्री द्वारा सुश्री दिव्या पंवार सम्मानित      |      अंतिम व्यक्ति तक पहुँचे योजनाओं का लाभ - ऊर्जा मंत्री श्री सिंह      |      मंत्री श्री जयवर्द्धन सिंह ने केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री पुरी से की भेंट      |      मुसीबत में पड़ी सुशांत की फिल्म राइफल मैन      |      प्रदेश के खिलाड़ियों ने जीते 8 स्वर्ण, 8 रजत और 15 कांस्य पदक      |      किसान भाइयों को मिलेगी सर्वोच्च प्राथमिकता - श्री जयवर्धन सिंह      |      घुमक्कड़, अर्द्धघुमक्कड़ और विमुक्त समुदाय को मिलेंगे रोजगार के अवसर      |      साहो में प्रभास के साथ थिरकेंगे इंटरनेशनल डांसर्स लॉरेंट-लैरी निकोलस      |      सेरेना 15वीं बार चौथे दौर में पहुंचीं      |      किसानों की फसल ऋण माफी की कार्यवाही तत्परता पूर्वक करें सहकारी बैंक      |      प्रयागराज कुंभ में होगा प्रदेश का मण्डप : मंत्री श्री शर्मा      |      दिगौड़ा को दिया जायेगा पूर्ण तहसील का दर्जा: राजस्व मंत्री श्री राजपूत      |      साइना मलेशिया मास्टर्स के सेमीफाइनल में      |      करणी सेना को कंगना ने दी चेतावनी; परेशान करना नहीं छोड़ा तो तबाह कर दूंगी      |      आगामी लोकसभा निर्वाचन, 2019 की तैयारियों की बैठक सम्पन्न      |      आँगनवाड़ियों में बिजली, पानी की व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करें : मंत्री श्रीमती इमरती देवी      |      एक डाक्टर सहित चार मेडिकल स्टॉफ के विरुद्ध कार्यवाही के निर्देश      |      मेघालय में नेवी टीम ने 35 दिन बाद 200 फीट की गहराई से एक शव निकाला      |      

आनंद की बात

25 December, Christmas Day 2018: 25 दिसंबर को पूरी दुनिया में क्रिसमस डे (Christmas Day) के तौर पर मनाया जाता है. इसे बड़ा दिन (Bada Din) भी कहते हैं. क्रिसमस
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
आपने अक्सर लोगों के घरों में लाफिंग बुद्धा की छोटी-बड़ी मूर्तियां या तस्वीरें देखी होंगी। लोग इसे सुख-समृद्धि का प्रतीक मानते हैं और गुड लक लाने के लिए अपने-अपने घरों में रखते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि लाफिंग बुद्धा थे कौन और कहां के रहने वाले थ ...
आगे पढ़ें
साल का वह समय आ गया है जब सभी लोग पार्टी के मूड में होते हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं क्रिसमस और न्यू ईयर की। क्रिसमस का त्यौहार भले ही प्रभु यीशू के जन्मदिन के तौर पर मनाया जाता हो लेकिन इस त्यौहार को सिर्फ ईसाई धर्म को मानने वाले ही नहीं बल्कि दु...
आगे पढ़ें
ओरछाBookmark and Share

 भारत के इतिहास में झांसी के पास स्थित ओरछा का एक अपना महत्व है। इससे जुड़ी तमाम कहानियां और किस्से पिछली कई दशकों से लोगों की जुबान पर हैं।

कुछ लोग कहते हैं कि सबसे पहले लोगों ने बुंदेलखंड में रहना शुरू किया था। यही वजह है कि इस इलाके के हर गांव और शहर के पास सुनाने को कई कहानियां हैं। बुंदेलखंड की दो खूबसूरत और दिलचस्प जगहें हैं ओरछा और कुंढार। भले ही दोनों जगहों में कुछ किलोमीटर का फासला हो, लेकिन इतिहास के धागों से ये दोनों जगहें बेहद मजबूती से जुड़ी हुई हैं। ओरछा झांसी से लगभग आधे घंटे की दूरी पर स्थित है।

 

इसका इतिहास 8वीं शताब्दी से शुरू होता है, जब गुर्जर प्रतिहार सम्राट मिहिर भोज ने इसकी स्थापना की थी। इस जगह की पहली और सबसे रोचक कहानी एक मंदिर की है। दरअसल, यह मंदिर भगवान राम की मूर्ति के लिए बनवाया गया था, लेकिन मूर्ति स्थापना के वक्त यह अपने स्थान से हिली नहीं। इस मूर्ति को मधुकर शाह के राज्यकाल (1554-92) के दौरान उनकी रानी गनेश कुवर अयोध्या से लाई थीं। चतुर्भुज मंदिर बनने से पहले इसे कुछ समय के लिए महल में स्थापित किया गया। लेकिन मंदिर बनने के बाद कोई भी मूर्ति को उसके स्थान से हिला नहीं पाया। इसे ईश्वर का चमत्कार मानते हुए महल को ही मंदिर का रूप दे दिया गया और इसका नाम रखा गया राम राजा मंदिर। आज इस महल के चारों ओर शहर बसा है और राम नवमी पर यहां हजारों श्रद्धालु इकट्ठा होते हैं। वैसे, भगवान राम को यहां भगवान मानने के साथ यहां का राजा भी माना जाता है, क्योंकि उस मूर्ति का चेहरा मंदिर की ओर न होकर महल की ओर है।

मंदिर के पास एक बगान है जिसमें स्थित काफी ऊंचे दो मीनार (वायू यंत्र) लोगों के आकर्षण का केन्द्र हैं। जि्न्हें सावन भादों कहा जाता है कि इनके नीचे बनी सुरंगों को शाही परिवार अपने आने-जाने के रास्ते के तौर पर इस्तेमाल करता था। इन स्तंभों के बारे में एक किंवदंती प्रचलित है कि वर्षा ऋतु में हिंदु कलेंडर के अनुसार सावन के महीने के खत्म होने और भादों मास के शुभारंभ के समय ये दोनों स्तंभ आपस में जुड़ जाते थे। हालांकि इसके बारे में पुख्ता सबूत नहीं हैं। इन मीनारों के नीचे जाने के रास्ते बंद कर दिये गये हैं एवं अनुसंधान का कोई रास्ता नहीं है।

इन मंदिरों को दशकों पुराने पुल से पार कर शहर के बाहरी इलाके में 'रॉयल एंक्लेव' (राजनिवास्) है। यहां चार महल, जहांगीर महल, राज महल, शीश महल और इनसे कुछ दूरी पर बना राय परवीन महल हैं। इनमें से जहांगीर महल के किस्से सबसे ज्यादा मशहूर हैं, जो मुगल बुंदेला दोस्ती का प्रतीक है। कहा जाता है कि बादशाह अकबर ने अबुल फज़ल को शहजादे सलीम (जहांगीर) को काबू करने के लिए भेजा था, लेकिन सलीम ने बीर सिंह की मदद से उसका कत्ल करवा दिया। इससे खुश होकर सलीम ने ओरछा की कमान बीर सिंह को सौंप दी थी। वैसे, ये महल बुंदेलाओं की वास्तुशिल्प के प्रमाण हैं। खुले गलियारे, पत्थरों वाली जाली का काम, जानवरों की मूर्तियां, बेलबूटे जैसी तमाम बुंदेला वास्तुशिल्प की विशेषताएं यहां साफ देखी जा सकती हैं।

अब बेहद शांत दिखने वाले ये महल अपने जमाने में ऐसे नहीं थे। यहां रोजाना होने वाली नई हलचल से उपजी कहानियां आज भी लोगों की जुबान पर हैं। इन्हीं में से एक है हरदौल की कहानी, जो जुझार सिंह (1627-34) के राज्य काल की है। दरअसल, मुगल जासूसों की साजिशभरी कथाओं के कारण् इस राजा का शक हो गया था कि उसकी रानी से उसके भाई हरदौल के साथ संबंध हैं। लिहाजा उसने रानी से हरदौल को ज़हर देने को कहा। रानी के ऐसा न कर पाने पर खुद को निर्दोष साबित करने के लिए हरदौल ने खुद ही जहर पी लिया और त्याग की नई मिसाल कायम की।

बुंदेलाओं का राजकाल 1783 में खत्म होने के साथ ही ओरछा भी गुमनामी के घने जंगलों में खो गया और फिर यह स्वतंत्रता संग्राम के समय सुर्खियों में आया। दरअसल, स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आजाद यहां के एक गांव में आकर छिपे थे। आज उनके ठहरने की जगह पर एक स्मृति चिन्ह भी बना है।

जहांगीर महल

बुन्देलों और मुगल शासक जहांगीर की दोस्ती की यह निशानी ओरछा का मुख्य आकर्षण है। महल के प्रवेश द्वार पर दो झुके हुए हाथी बने हुए हैं। तीन मंजिला यह महल जहांगीर के स्वागत में राजा बीरसिंह देव ने बनवाया था। वास्तुकारी से दृष्टि से यह अपने जमाने का उत्कृष्ट उदाहरण है।

राज महल

यह महल ओरछा के सबसे प्राचीन स्मारकों में एक है। इसका निर्माण मधुकर शाह ने 17 वीं शताब्दी में करवाया था। राजा बीरसिंह देव उन्हीं के उत्तराधिकारी थे। यह महल छतरियों और बेहतरीन आंतरिक भित्तिचित्रों के लिए प्रसिद्ध है। महल में धर्म ग्रन्थों से जुड़ी तस्वीरें भी देखी जा सकती हैं।

रामराजा मंदिर

यह मंदिर ओरछा का सबसे लोकप्रिय और महत्वपूर्ण मंदिर है। यह भारत का एकमात्र मंदिर है जहां भगवान राम को राजा के रूप में पूजा जाता है। माना जाता है कि राजा मधुकर को भगवान राम ने स्वप्न में दर्शन दिए और अपना एक मंदिर बनवाने को कहा।

राय प्रवीन महल

 
राय प्रवीण महल

यह महल राजा इन्द्रमणि की खूबसूरत गणिका प्रवीणराय की याद में बनवाया गया था। वह एक कवयित्री और संगीतकारा थीं। मुगल सम्राट अकबर को जब उनकी सुंदरता के बार पता चला तो उन्हें दिल्ली लाने का आदेश दिया गया। इन्द्रमणि के प्रति प्रवीन के सच्चे प्रेम को देखकर अकबर ने उन्हें वापस ओरछा भेज दिया। यह दो मंजिला महल प्राकृतिक बगीचों और पेड़-पौधों से घिरा है। राय प्रवीन महल में एक लघु हाल और चेम्बर है।

लक्ष्मीनारायण मंदिर

यह मंदिर 1622 ई. में बीरसिंह देव द्वारा बनवाया गया था। मंदिर ओरछा गांव के पश्चिम में एक पहाड़ी पर बना है। मंदिर में सत्रहवीं और उन्नीसवीं शताब्दी के चित्र बने हुए हैं। चित्रों के चटकीले रंग इतने जीवंत लगते हैं जसे वह हाल ही में बने हों। मंदिर में झांसी की लड़ाई के दृश्य और भगवान कृष्ण की आकृतियां बनी हुई हैं।

चतुर्भुज मंदिर

 
चतुर्भुज मंदिर, ओरछा

राज महल के समीप स्थित चतुभरुज मंदिर ओरछा का मुख्य आकर्षण है। यह मंदिर चार भुजाधारी भगवान विष्णु को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण 1558 से 1573 के बीच राजा मधुकर ने करवाया था। अपने समय की यह उत्कृष्ठ रचना यूरोपीय कैथोड्रल से समान है। मंदिर में प्रार्थना के लिए विस्तृत हॉल है जहां कृष्ण भक्त एकत्रित होते हैं। ओरछा में यह स्थान भ्रमण के लिए बहुत श्रेष्ठ है।

फूलबाग[संपादित करें]

बुन्देल राजाओं द्वारा बनवाया गया यह फूलों का बगीचा चारों ओर से दीवारों से घिरा है। पालकी महल के निकट स्थित यह बाग बुन्देल राजाओं का आरामगाह था। वर्तमान में यह पिकनिक स्थल के रूप में जाना जाता है। फूलबाग में एक भूमिगत महल और आठ स्तम्भों वाला मंडप है। यहां के चंदन कटोर से गिरता पानी झरने के समान प्रतीत होता है।

सुन्दर महल

इस महल को राजा जुझार सिंह के पुत्र धुरभजन के बनवाया था। राजकुमार धुरभजन को एक मुस्लिम लड़की से प्रेम था। उन्होंने उससे विवाह कर इस्लाम धर्म अंगीकार कर लिया। धीर-धीर उन्होंने शाही जीवन त्याग दिया और स्वयं को ध्यान और भक्ति में लीन कर लिया। विवाह के बाद उन्होंने सुन्दर महल त्याग दिया। धुरभजन की मृत्यु के बाद उन्हें संत से रूप में जाना गया। वर्तमान में यह महल काफी क्षतिग्रस्त हो चुका है।


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description