Today Visitor :
Total Visitor :


पहले 2 वनडे मैचों के लिए भारतीय टीम का ऐलान      |      परिणिती की 10 इंडो-वैस्टर्न ड्रेसेज      |      देश को ‘बकबक करने वाले ब्लॉगर नहीं, वित्त मंत्री की जरूरत: कांग्रेस      |      मैं नीरव मोदी से कभी नहीं मिला: अरुण जेतली      |      मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने मीडिया मॉनीटरिंग कक्ष का निरीक्षण किया      |      मी टू-सुष्मिता सेन ने कहा- आपको सुनना होगा, उस पर विश्वास करना होगा      |      जब हम पृथ्वी शाॅ की उम्र के थे तो हम उसके 10 प्रतिशत भी नहीं थेः कोहली      |      उद्धव ठाकरे का भाजपा पर तंज      |      चुनाव के समय ही पेट्रोल-डीजल पर विचार करते हैं मोदी : कांग्रेस      |      मतदाता पर्चियों का अनाधिकृत वितरण और कब्जे में पाये जाने पर दण्डनीय कार्यवाही होगी - मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी      |      INDvsWI: दूसरे टेस्ट में शानदार जीत के साथ टीम इंडिया का सीरीज पर कब्जा      |      डिफरेंट एक्सेसरीज से बनाएं स्टाइल स्टेटमेंट      |      सिद्धू के पाक प्रेम पर भाजपा का तंज      |      मी टू: दिल्ली में पत्रकारों का प्रदर्शन      |      24 घंटे में तीन गुना बढ़ा दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण      |      पंजाबी सिंगर गुरु के साथ रैंप पर उतरी उर्वशी रौतेला      |      IND vs WI 2nd Test: भारत ने बनाए 4 विकेट खोकर 308 रन      |      सबसे बड़ा रक्षा घोटाला है राफेल सौदा : प्रशांत भूषण      |      रावण पर लगा GST का ग्रहण, छोटा हुआ कद      |      सम्पत्ति विरूपण के 5 लाख 12 हजार से अधिक प्रकरण दर्ज      |      MeToo: दिल्ली HC ने कहा, सोशल मीडिया पर न करें पहचान उजागर      |      आईसीसी ने शुरू की महिला टी20 टीम रैंकिंग, भारत पांचवें स्थान पर      |      घोड़े पर सवार माता रानी के दर्शन करने पहुंची सारा अली खान      |      अन्य चुनावों से कम नहीं है स्थानीय निर्वाचन की चुनौतियाँ-श्री परशुराम      |      सबको शाकाहारी बनने का आदेश नहीं दे सकते: सुप्रीम कोर्ट      |      मुख्य चयनकर्ता ने तोड़ी चुपी- बताया क्यों पंत को चुना वनडे टीम में      |      रैंप पर ब्लैक ड्रेस पहनकर उतरी सोनाक्षी      |      भारत के साथ जल्द होंगी और डील- रूस      |      सम्पत्ति विरूपण के 3 लाख 44 हजार से अधिक प्रकरण दर्ज      |      राज्यपाल ने राजभवन में गरबा महोत्सव का उदघाटन किया      |      

आनंद की बात

इम्यून सिस्टम यानि रोग प्रतिरोधक क्षमता हमें कई बीमारियों से सुरक्षित रखती है। छोटी-मोटी इंफैक्शन से शरीर खुद ही निपट लेता है लेकिन अगर प्रतिरोधक क्षमता ही कमज
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
नवरात्रि के छठे दिन माता दुर्गा के कात्यायनी स्वरूप की पूजा की जाती है। इस दिन माता की पूजा शाम के समय करने का विशेष विधान है। माता की पूजा में पीले वस्त्र, पीले फूल और शहद चढ़ाया जाता है। मिट्टी या चांदी के बर्तन में शहद रखकर माता को भोग लगाना चाहिए ...
आगे पढ़ें
मूली का इस्तेमाल हर घर में स्लाद, सब्जी या परांठे बनाने के लिए किया जाता है। बेशक खाने में यह थोड़ी तीखी हो लेकिन सेहत के लिए यह किसी औषधि से कम नहीं है। आयुर्वेद में तो इसे लीवर और पेट के लिए 'प्राकृतिक प्यूरीफायर' माना गया है। इतना ही नहीं, इसका से...
आगे पढ़ें
पांच घंटे तक फेसबुक के मालिक से चली पूछताछ की नौ बड़ी बातेंBookmark and Share

  फेसबुक के मालिक मार्क ज़करबर्ग केम्ब्रिज एनालिटिका मामले में यूएस कांग्रेस के सामने पेश हुए. उन्होंने एक बार फिर से डेटा लीक मामले में माफी मांगी और कहा, "ये मेरी ग़लती थी और मैं माफी के साथ इसे स्वीकार करता हूं." इस दौरान उन्होंने 2016 में हुए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में रूसी हस्तक्षेप पर बोलते हुए कहा कि रूस के साथ अब ऑनलाइन प्रोपेगेंडा का मामला 'हथियारों की दौड़' के जैसा हो गया है और दुनियाभर में चुनावों में होने वाली दखलअंदाजी को रोकना उनकी सबसे बड़ी प्राथमिकता होगी. सुनवाई के दौरान 44 सीनेटरों ने उनसे सवाल जवाब किए. इस दौरान करीब 200 अन्य लोग भी मौजूद थे.

फेसबुक के 33 साल के इस अरबपति मालिक से यूएस कांग्रेस के सदस्यों ने पांच घंटे तक पूछताछ की. आपको बता दें कि फेसबुक ने क्रेम्ब्रिज एनालिटिका हैकिंग मामले में ये बात स्वीकार की है कि 87 मिलियन फेसबुक यूज़र्स के डेटा की चोरी हुई है. आपको ये भी बता दें कि आम तौर पर टी-शर्ट और जींस में नज़र आने वाले ज़करबर्ग ने इस दौरान सूट पहन रखा था. वहीं सुनवाई की शुरुआत में वो नर्वस नज़र आए लेकिन जैसे-जैसे सुनवाई आगे बढ़ी उनका आत्मविश्वास बढ़ता चला गया.

  • मेक्सिको के एक सेनेटर के एक सवाल के जवाब में ज़करबर्ग ने कहा कि उनकी सबसे बड़ी प्राथमिकता ये है कि वो साल 2018 में दुनियाभर में होने वाले चुनावों को प्रभावित होने से रोक सकें.

  • जकरबर्ग ने भारत में अगले साल होने वाले आम चुनाव के बारे में कहा कि हम पूरी कोशिश करेंगे कि भारत में होने वाले आगामी चुनाव में पूरी ईमानदारी बरतें.

  • जब ज़करबर्ग से पूछा गया कि क्या वो भविष्य में चुनावों को प्रभावित होने से पूरी तरह से रोक पाएंगे. इसके जवाब में उन्होंने कहा, "नहीं, मैं इसकी गारंटी नहीं दे सकता क्योंकि ये हथियारों की उस दौड़ की तरह है जो जारी है." उन्होंने आगे कहा कि जब तक रूस में ऐसे लोग बैठे हैं जिनका काम दुनियाभर के चुनावों को प्रभावित करना है, ये संघर्ष जारी रहेगा.

  • उन्होंने ये भी कहा कि फेसबुक को एक कंपनी के तौर पर चलाने के दौरान उन्हें जिस बात पर सबसे ज़्यादा खेद है वो ये है कि उन्होंने चुनाव के दौरान रूसी ट्रोल्स के मामले में एक्शन लेने में देरी कर दी.

  • इस सुनवाई के दौरान सेनेटर बिल नेलसन भड़क गए और कहा, "अगर फेसबुक और बाकी की सोशल मीडिया कंपनियां चीज़ें ठीक नहीं करती तो हमारे पास किसी तरह की प्राइवेसी नहीं रह जाएगी. अगर फेसबुक और बाकी की कंपनिया निजता में घुसपैठ के मामले को ठीक नहीं करतीं तो हम, कांग्रेस वाले इसे ठीक कर देंगे."

  • एक और सेनेटर ने कहा कि फेसबुक का पूरा मॉडल इस बात पर आधारित है कि यूज़र को उसके निजी डेटा के बदले फ्री सर्विस दी जाएगी. ऐसी डील की स्थिति में दोनों पार्टियों के लिए ये समझना ज़रूरी है कि किस चीज़ के बदले क्या दिया जा रहा है. उन्होंने कहा, "मुझे पूरा यकीन है कि फेसबुक इस्तेमाल कर रहे लोगों को इसके इस्तेमाल से जुड़े फैसले लेने के लिए जो जानकारी होनी चाहिए, वो जानकारी उनके पास नहीं है."

  • सवाल-जवाब के दौरान ही उन्होंने कहा कि फेसबुक हर उस ऐप की पूरी तरह से जांच कर रहा है जिनके पास इसके यूज़र्स का डेटा है. इन ऐप्स की संख्या लाखों में है. उन्होंने कहा, "अगर जांच में किसी ऐप के खिलाफ ज़रा भी गड़बड़ी पाई जाती है तो हम उसे बैन कर देंगे."

  • पूछताछ के दौरान पहले तो ज़करबर्ग ने कहा कि 2015 तक केम्ब्रिज एनालिटिका फेसबुक के माध्यम से प्रचार नहीं करता था, बाद में उनके कंपनी के लोगों ने उन्हें बताया कि 2015 में केम्ब्रिज एनालिटिका फेसबुक के माध्यम से प्रचार कर रहा था. इस जानकारी के मिलने के बाद ज़करबर्ग ने अपने बयान में सुधार करते हुए कहा कि नियमों के तहत इसे बैन किया जा सकता था.

  • सुनवाई के दौरान एक मोड़ पर सेनेटर जॉन केनेडी भड़क उठे और कहा कि फेसबुक का यूज़र एग्रीमेंट वाहियात है. इसके बाद उन्होंने ज़करबर्ग की प्राइवेसी से जुड़ा एक सवाल किया कि बीती रात वो जिस होटल में ठहरे थे क्या उसका नाम वो सबके साथ शेयर करना चाहेंगे? इसके जवाब में ज़करबर्ग ने कहा, "नहीं." इसके बाद रूम में मौजूद लोग ठहाके लगाने लगे.


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description