Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


अब उन्मुक्त घरेलू सीजन में अब उत्तराखंड के लिए खेलते नजर आएंगे      |      पहले हफ़्ते में ड्रीम गर्ल पर बरसा ख़ूब प्यार, कमाई इतने करोड़ के पार      |      पीएम मोदी ने कहा- मजबूत होंगे दोनों देशों के संबंध      |      उच्च अधिकार प्राप्त GST काउंसिल की 37वीं बैठक हुई      |      अति-वृष्टि प्रभावित गरीब बस्तियों में पहुँचे जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा      |      मुंबई मेट्रो में आम लोगों संग अक्षय कुमार कर रहे थे यात्रा      |      अति-वृष्टि और बाढ़ से प्रदेश को अब तक 11 हजार 906 करोड़ की क्षति अंतर मंत्रालयीन केन्द्रीय दल से तत्काल राहत उपलब्ध कराने का अनुरोध छोटी अवधि के कृषि ऋण को मध्यम अवधि ऋण में बदलने की मांग मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बैठक सम्पन्न      |      स्टीव स्मिथ के फैन हो गए हैं सचिन तेंदुलकर      |      27 सितंबर को UNGA को संबोधित करेंगे PM मोदी      |      एयर मार्शल RKS भदौरिया होंगे नए वायुसेना प्रमुख      |      आयुष्मान खुराना ने शेयर की शर्टलेस तस्वीर      |      दिग्‍गज खिलाडि़यों ने नरेंद्र मोदी को 69वें जन्‍मदिन पर दी बधाई      |      'गोपी बहू' का बदला रूप, Bigg Boss 13 में नजर आएंगी Devoleena Bhattacharjee      |      जल स्त्रोतों पर अतिक्रमण को अपराध माना जाएगा : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ      |      भिण्ड जिले में रेस्क्यू ऑपेरशन से 1900 लोग सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाए गए       |      1500 रुपये कमाने वाली महिला बनी केबीसी 11 की दूसरी करोड़पति विजेता      |      सभी विश्वविद्यालय मासिक एवं वार्षिक लक्ष्य आधारित रोड मैप बनाएँ      |      पूर्व खिलाड़ियों ने टीम इंडिया को कुलदीप-चहल मामले में जल्दबाजी नहीं करने की सलाह      |      जब दीपिका पादुकोण भूल गई कि हो चुकी है शादी      |      ; कमल हासन ने कहा- जल्लीकट्टू से बड़ा होगा भाषा आंदोलन      |      प्रभावशाली मुस्लिम देशों ने पाकिस्तान को लगाई लताड़, कहा- पीएम मोदी के खिलाफ बंद करे जुबानी हमले      |      स्टीव स्मिथ ने भारत के खिलाफ बनाया अपना रिकॉर्ड तोड़ा      |      रवीना टंडन और मनीष पॉल के बीच हुई तीखी बहस      |      गोदावरी नदी में 61 लोगों को ले जा रही नाव डूबी      |      विश्वविद्यालयों में शैक्षणिक गुणवत्ता के उच्च मापदण्ड निर्धारित करने के निर्देश      |      युद्ध स्तर पर पूरा करें बारिश से खराब सड़कों के सुधार कार्य : मंत्री श्री वर्मा      |      कपिल देव होंगे हरियाणा स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी के पहले चांसलर      |      बिहार के सनोज राज बने पहले करोड़पति      |      वास्तविक निवेश को प्रोत्साहित किया जाएगा      |      मास्टर प्लान बनाने के लिए सलाहकार समिति का गठन हो      |      

आनंद की बात

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) हर साल 15 अगस्त को मनाया जाता है. 15 अगस्त (15 August) 1947 को भारत को अंग्रेजों के शासन से आजादी मिली थी और यही कारण है कि
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
भारत में 15 अगस्त बहुत उत्साह और गौरव के साथ मनाया जाता है। 15 अगस्त 1947 को भारत को अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी। तब से हमारे देश में हर वर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। ...
आगे पढ़ें
कल देश आजादी की सालगिरह के जश्न के साथ-साथ रक्षाबंधन का त्योहार भी मनाएगा। भाई और बहन के लिए ये सबसे बड़ा त्योहार है।...
आगे पढ़ें
भगवान कृष्ण की जन्मभूमि मथुराBookmark and Share

 कृष्ण का जन्म मथुरा के कारागार में हुआ था। पिता का नाम वासुदेव और माता का नाम देवकी। दोनों को ही कंस ने कारागार में डाल दिया था। उस काल में मथुरा का राजा कंस था, जो श्रीकृष्ण का मामा था। कंस को आकाशवाणी द्वारा पता चला कि उसकी मृत्यु उसकी ही बहन देवकी की आठवीं संतान के हाथों होगी। इसी डर के चलते कंस ने अपनी बहन और जीजा को आजीवन कारागार में डाल दिया था।
मथुरा यमुना नदी के तट पर बसा एक सुंदर शहर है। मथुरा जिला उत्तरप्रदेश की पश्चिमी सीमा पर स्थित है। इसके पूर्व में जिला एटा, उत्तर में जिला अलीगढ़, दक्षिण-पूर्व में जिला आगरा, दक्षिण-पश्चिम में राजस्थान एवं पश्चिम-उत्तर में हरियाणा राज्य स्थित हैं। मथुरा, आगरा मण्डल का उत्तर-पश्चिमी जिला है। मथुरा जिले में चार तहसीलें हैं- मांट, छाता, महावन और मथुरा तथा 10 विकास खण्ड हैं- नन्दगांव, छाता, चौमुहां, गोवर्धन, मथुरा, फरह, नौहझील, मांट, राया और बल्देव हैं। 
मथुरा भारत का प्राचीन नगर है। यहां पर से 500 ईसा पूर्व के प्राचीन अवशेष मिले हैं, जिससे इसकी प्राचीनता सिद्ध होती है। उस काल में शूरसेन देश की यह राजधानी हुआ करती थी। पौराणिक साहित्य में मथुरा को अनेक नामों से संबोधित किया गया है जैसे- शूरसेन नगरी, मधुपुरी, मधुनगरी, मधुरा आदि। उग्रसेन और कंस मथुरा के शासक थे जिस पर अंधकों के उत्तराधिकारी राज्य करते थे।

जहां का जन्म हुआ पहले वह कारागार हुआ करता था। यहां पहला मंदिर 80-57 ईसा पूर्व बनाया गया था। इस संबंध में महाक्षत्रप सौदास के समय के एक शिलालेख से ज्ञात होता है कि किसी 'वसु' नामक व्यक्ति ने यह मंदिर बनाया था। इसके बहुत काल के बाद दूसरा मंदिर सन् 800 में विक्रमादित्य के काल में बनवाया गया था, जबकि बौद्ध और जैन धर्म उन्नति कर रहे थे। 
इस भव्य मंदिर को सन् 1017-18 ई. में महमूद गजनवी ने तोड़ दिया था। बाद में इसे महाराजा विजयपाल देव के शासन में सन् 1150 ई. में जज्ज नामक किसी व्यक्ति ने बनवाया। यह मंदिर पहले की अपेक्षा और भी विशाल था, जिसे 16वीं शताब्दी के आरंभ में सिकंदर लोदी ने नष्ट करवा डाला।


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description