Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


कोरोना वायरस दुनिया भर में अर्थव्‍यवस्‍था को भी बड़ा नुकसान पहुंचा रहा है      |       40 दिन की हुई बेटी तो राज कुंद्रा ने घर पर बनाया केक      |      रेलवे के अस्पतालों में होगा सभी सरकारी कर्मियों का इलाज      |      कोरोना संकट से निपटने के लिए पैरामिलिट्री फोर्स आई आगे      |      शाह ने कहा- मोदी सरकार प्रवासी मजदूरों की सहायता के लिए वचनबद्ध      |      ब्रावो ने गाना गाकर लोगों से की अपील, कहा- 'कोरोना से हम हार नहीं मानेंगे'      |      अक्षय कुमार ने पीएम केयर्स फंड में 25 करोड़ रुपये की मदद       |      मुख्यमंत्री श्री चौहान लॉकडाउन में कालोनियों में पहुँचे, लिया नागरिक सुविधाओं का जायजा      |      रविशंकर प्रसाद का ऐलान, पीएम रिलीफ फंड में देंगे एक महीने की सैलरी      |      कोहली ने लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल करने की अपील की      |      राज्यपाल श्री टंडन से मिले मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      राज्यपाल ने राष्ट्रपति को वीडियो कॉन्फ्रेंस से दी कोरोना की स्थिति की जानकारी      |       लॉकडाउन नहीं मानने वाले लोगों पर भड़के हरभजन       |      सनी लियोनी ने कोरोना वायरस के खिलाफ छेड़ी 'जंग      |      कोरोना से निपटने केन्द्र सरकार द्वारा बड़े राहत पैकेज का ऐलान      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान को सहायता कोष के लिये वर्धमान टेक्सटाइल्स कम्पनी ने भेंट किये एक करोड़      |      कोरोना के मरीजों के उपचार के लिये प्रत्येक संभाग में एक अस्पताल चिन्हांकित      |      रोजर फेडरर ने दस लाख डॉलर दान दिए      |      अमिताभ बच्चन ने लॉकडाउन पर कुछ इस अंदाज में बढ़ाया लोगों का हौसला      |      कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में मदद के लिए सौरव गांगुली, 50 लाख रुपये दान दिए      |      पीएम मोदी ने महाभारत के युद्ध से की COVID-19 से मुकाबले की तुलना      |      केजरीवाल बोले - पिछले 24 घंटे में दिल्ली में COVID-19 के पांच नए केस आए      |      भारतीय खिलाड़ियों ने गेम्स 1 साल टलने पर कहा- जिंदगी पहले      |      भारतीय खिलाड़ियों ने गेम्स 1 साल टलने पर कहा- जिंदगी पहले      |       कोरोनावायरस के कारण घर में बोरियत से बचने के लिए नेटफ्लिक्स पार्टी एंजॉय कर रहीं हैं मिशेल ओबामा      |      जीवन बचाने जरूरी है प्रधानमंत्री श्री मोदी का लॉकडाउन का आव्हान : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      राशन, सब्जी, दूध की दुकानें खुली रहेंगी: 14 अप्रैल तक क्या खुला, क्या बंद, देखें पूरी लिस्ट      |      सोनाक्षी ने पहली बार अपनी शादी पर तोड़ी चुप्पी      |      अश्विन ने की अपील- हालात की गंभीरता को समझे वरना भयंकर होगी स्थिति      |      नोवल कोरोना वायरस संबंधी जिज्ञासाओं का समयबद्ध समाधान करेगी      |      

आनंद की बात

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं और 12वीं के लिए टेली काउंसलिंग 1 फरवरी से शुरू होगी।
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
चीनी कंपनी iQOO भारतीय बाजार में 5G स्मार्टफोन के साथ उतर रही है। देश में 5G फोन के साथ कदम रखने वाली ये पहली कंपनी भी है। ...
आगे पढ़ें
हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, चैत्र नवरात्रि का प्रारंभ चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से होता है, जो इस बार 25 मार्च दिन बुधवार को है। ...
आगे पढ़ें
भगवान कृष्ण की जन्मभूमि मथुराBookmark and Share

 कृष्ण का जन्म मथुरा के कारागार में हुआ था। पिता का नाम वासुदेव और माता का नाम देवकी। दोनों को ही कंस ने कारागार में डाल दिया था। उस काल में मथुरा का राजा कंस था, जो श्रीकृष्ण का मामा था। कंस को आकाशवाणी द्वारा पता चला कि उसकी मृत्यु उसकी ही बहन देवकी की आठवीं संतान के हाथों होगी। इसी डर के चलते कंस ने अपनी बहन और जीजा को आजीवन कारागार में डाल दिया था।
मथुरा यमुना नदी के तट पर बसा एक सुंदर शहर है। मथुरा जिला उत्तरप्रदेश की पश्चिमी सीमा पर स्थित है। इसके पूर्व में जिला एटा, उत्तर में जिला अलीगढ़, दक्षिण-पूर्व में जिला आगरा, दक्षिण-पश्चिम में राजस्थान एवं पश्चिम-उत्तर में हरियाणा राज्य स्थित हैं। मथुरा, आगरा मण्डल का उत्तर-पश्चिमी जिला है। मथुरा जिले में चार तहसीलें हैं- मांट, छाता, महावन और मथुरा तथा 10 विकास खण्ड हैं- नन्दगांव, छाता, चौमुहां, गोवर्धन, मथुरा, फरह, नौहझील, मांट, राया और बल्देव हैं। 
मथुरा भारत का प्राचीन नगर है। यहां पर से 500 ईसा पूर्व के प्राचीन अवशेष मिले हैं, जिससे इसकी प्राचीनता सिद्ध होती है। उस काल में शूरसेन देश की यह राजधानी हुआ करती थी। पौराणिक साहित्य में मथुरा को अनेक नामों से संबोधित किया गया है जैसे- शूरसेन नगरी, मधुपुरी, मधुनगरी, मधुरा आदि। उग्रसेन और कंस मथुरा के शासक थे जिस पर अंधकों के उत्तराधिकारी राज्य करते थे।

जहां का जन्म हुआ पहले वह कारागार हुआ करता था। यहां पहला मंदिर 80-57 ईसा पूर्व बनाया गया था। इस संबंध में महाक्षत्रप सौदास के समय के एक शिलालेख से ज्ञात होता है कि किसी 'वसु' नामक व्यक्ति ने यह मंदिर बनाया था। इसके बहुत काल के बाद दूसरा मंदिर सन् 800 में विक्रमादित्य के काल में बनवाया गया था, जबकि बौद्ध और जैन धर्म उन्नति कर रहे थे। 
इस भव्य मंदिर को सन् 1017-18 ई. में महमूद गजनवी ने तोड़ दिया था। बाद में इसे महाराजा विजयपाल देव के शासन में सन् 1150 ई. में जज्ज नामक किसी व्यक्ति ने बनवाया। यह मंदिर पहले की अपेक्षा और भी विशाल था, जिसे 16वीं शताब्दी के आरंभ में सिकंदर लोदी ने नष्ट करवा डाला।


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description