Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


टेलर तीनों फॉर्मेट में 100-100 मैच खेलने वाले पहले खिलाड़ी      |       टैबू सब्जेक्ट पर संदेश देने में सफल साबित होती है 'शुभ मंगल ज्यादा सावधान'      |      प्रधानमंत्री मोदी से मिले मुख्यमंत्री ठाकरे, कहा- सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर हमारी कांग्रेस से बातचीत जारी      |      वेजिटेरियन डाइट अपनाकर बनीं देश की नामचीन फिटनेस ट्रेनर      |      / अमेरिकी डेलिगेशन में इवांका भी रहेंगी      |      दिल्ली क्राइम सीजन 2' में असली आईएएस अधिकारी अभिषेक सिंह निभाएंगे ऑफिसर की भूमिका      |       पीएम मोदी ने लिट्‌टी-चोखा का स्वाद चखा      |       एयर इंडिया की शंघाई और हॉन्गकॉन्ग के लिए उड़ानें 30 जून तक रद्द      |      मनमोहन बोले- मोदी सरकार स्लोडाउन स्वीकार नहीं करती      |      सानिया-गार्सिया की जोड़ी दुबई ओपन के प्री-क्वार्टर फाइनल       |      50 करोड़ रुपए कमाने वाली साल की तीसरी फिल्म बनी ‘मलंग’      |      श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की पहली बैठक आज      |      फोर्स ने पेश की नई गुरखा और गुरखा कस्टमाइज      |       राष्ट्रपति ट्रम्प बोले- भारत का बर्ताव हमारे साथ अच्छा नहीं      |      चीन में दवा फैक्ट्रियां बंद होने की वजह से भारत में पैरासिटामॉल की कीमतों में 40% बढ़ोतरी      |       वनडे और टी-20 का चैम्पियंस कप शुरू होगा      |      नेहा कक्कड़ से ब्रेकअप के 14 महीने बाद हिमांश ने तोड़ी चुप्पी      |      जीडीपी / भारत दुनिया का 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बना, दो पायदान चढ़कर ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ा      |      भारत के सुनील कुमार ने 27 साल बाद ग्रीको रोमन में गोल्ड जीता      |      23 दिन कोमा में रहीं, हाेश में आईं तो पति चेहरा देखकर डर गए      |       शमी 3 और बुमराह 2 विकेट लेकर फॉर्म में लौटे      |      आज आधी रात को खत्म हो जाएगा 'बिग बॉस 13' का सफर      |      ट्रम्प ने फेसबुक पर खुद को नंबर 1 और मोदी को नंबर 2 बताया, लेकिन हकीकत में उनके प्रधानमंत्री से आधे फॉलोअर्स      |      राज्यपाल द्वारा पद्मश्री बशीर बद्र को जन्म-दिन की शुभकामनाएँ      |       एयरपोर्ट से उड़ान भरने जा रहे एयर इंडिया के विमान के सामने जीप आई      |      उदित नारायण बोले, 'इंडियन आइडल 11 की टीआरपी बढ़ाने के लिए हो रहा नाटक      |       केजरीवाल को जीत दिलाने वाली रणनीति का पहली बार खुलासा      |      मेरा स्वप्न है कि हर व्यक्ति को घर पर मिले शुद्ध जल : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ पानी की उपलब्धता समाज और सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती मुख्यमंत्री द्वारा राइट टू वाटर विषयक राष्ट्रीय जल सम्मेलन का शुभारंभ      |      युवाओं को विश्व-स्तरीय निजी सुरक्षा ट्रेनिंग देने स्थापित होंगे सेंटर ऑफ एक्सीलेंस संस्थान      |      केंद्र की याचिका पर निर्भया के दोषियों को नोटिस      |      

आनंद की बात

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं और 12वीं के लिए टेली काउंसलिंग 1 फरवरी से शुरू होगी।
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
Realme X50 5G चीन में लॉन्च करने के बाद अब कंपनी भारत में Realme 5i लॉन्च कर दिया है। एक स्पेशल इवेंट में धमाका करते हुए Realme ने इस स्मार्टफोन को महज 8,999 रुपए के प्राइज टैग कै साथ ...
आगे पढ़ें
सरकारी गेहूं की बिक्री में इसके भाव घटने की आशंका से कमी रही। लेवाल सतर्क होने से इस बार कुल 25 लाख क्विंटल के कोटे में से 4 लाख क्विंटल माल ही बिक पाया है।...
आगे पढ़ें
सिद्धिविनायक मंदिर, मुंबईBookmark and Share

 सिद्घिविनायक गणेश जी का सबसे लोकप्रिय रूप है। गणेश जी जिन प्रतिमाओं की सूड़ दाईं तरह मुड़ी होती है, वे सिद्घपीठ से जुड़ी होती हैं और उनके मंदिर सिद्घिविनायक मंदिर कहलाते हैं। कहते हैं कि सिद्धि विनायक की महिमा अपरंपार है, वे भक्तों की मनोकामना को तुरंत पूरा करते हैं। मान्यता है कि ऐसे गणपति बहुत ही जल्दी प्रसन्न होते हैं और उतनी ही जल्दी कुपित भी होते हैं।

सिद्धि विनायक की दूसरी विशेषता यह है कि वह चतुर्भुजी विग्रह है। उनके ऊपरी दाएं हाथ में कमल और बाएं हाथ में अंकुश है और नीचे के दाहिने हाथ में मोतियों की माला और बाएं हाथ में मोदक (लड्डुओं) भरा कटोरा है। गणपति के दोनों ओर उनकी दोनो पत्नियां रिद्धि और सिद्धि मौजूद हैं जो धन, ऐश्वर्य, सफलता और सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करने का प्रतीक है। मस्तक पर अपने पिता शिव के समान एक तीसरा नेत्र और गले में एक सर्प हार के स्थान पर लिपटा है। सिद्धि विनायक का विग्रह ढाई फीट ऊंचा होता है और यह दो फीट चौड़े एक ही काले शिलाखंड से बना होता है।

यूं तो सिद्घिविनायक के भक्त दुनिया के हर कोने में हैं लेकिन महाराष्ट्र में इनके भक्त सबसे ज्यादा हैं। समृद्धि की नगरी मुंबई के प्रभा देवी इलाके का सिद्धिविनायक मंदिर उन गणेश मंदिरों में से एक है, जहां सिर्फ हिंदू ही नहीं, बल्कि हर धर्म के लोग दर्शन और पूजा-अर्चना के लिए आते हैं। हालांकि इस मंदिर की न तो महाराष्ट्र के 'अष्टविनायकों ’ में गिनती होती है और न ही 'सिद्ध टेक ’ से इसका कोई संबंध है, फिर भी यहां गणपति पूजा का खास महत्व है। महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के सिद्ध टेक के गणपति भी सिद्धिविनायक के नाम से जाने जाते हैं और उनकी गिनती अष्टविनायकों में की जाती है। महाराष्ट्र में गणेश दर्शन के आठ सिद्ध ऐतिहासिक और पौराणिक स्थल हैं, जो अष्टविनायक के नाम से प्रसिद्ध हैं। लेकिन अष्टविनायकों से अलग होते हुए भी इसकी महत्ता किसी सिद्ध-पीठ से कम नहीं।

 

आमतौर पर भक्तगण बाईं तरफ मुड़ी सूड़ वाली गणेश प्रतिमा की ही प्रतिष्ठापना और पूजा-अर्चना किया करते हैं। कहने का तात्पर्य है कि दाहिनी ओर मुड़ी गणेश प्रतिमाएं सिद्ध पीठ की होती हैं और मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर में गणेश जी की जो प्रतिमा है, वह दाईं ओर मुड़े सूड़ वाली है। यानी यह मंदिर भी सिद्ध पीठ है।

किंवदंती है कि इस मंदिर का निर्माण संवत् १६९२ में हुआ था। मगर सरकारी दस्तावेजों के मुताबिक इस मंदिर का १९ नवंबर १८०१ में पहली बार निर्माण हुआ था। सिद्धि विनायक का यह पहला मंदिर बहुत छोटा था। पिछले दो दशकों में इस मंदिर का कई बार पुनर्निर्माण हो चुका है। हाल ही में एक दशक पहले १९९१ में महाराष्ट्र सरकार ने इस मंदिर के भव्य निर्माण के लिए २० हजार वर्गफीट की जमीन प्रदान की। वर्तमान में सिद्धि विनायक मंदिर की इमारत पांच मंजिला है और यहां प्रवचन ग्रह, गणेश संग्रहालय व गणेश विापीठ के अलावा दूसरी मंजिल पर अस्पताल भी है, जहां रोगियों की मुफ्त चिकित्सा की जाती है। इसी मंजिल पर रसोईघर है, जहां से एक लिफ्ट सीधे गर्भग्रह में आती है। पुजारी गणपति के लिए निर्मित प्रसाद व लड्डू इसी रास्ते से लाते हैं।

नवनिर्मित मंदिर के 'गभारा ’ यानी गर्भग्रह को इस तरह बनाया गया है ताकि अधिक से अधिक भक्त गणपति का सभामंडप से सीधे दर्शन कर सकें। पहले मंजिल की गैलरियां भी इस तरह बनाई गई हैं कि भक्त वहां से भी सीधे दर्शन कर सकते हैं। अष्टभुजी गर्भग्रह तकरीबन १० फीट चौड़ा और १३ फीट ऊंचा है। गर्भग्रह के चबूतरे पर स्वर्ण शिखर वाला चांदी का सुंदर मंडप है, जिसमें सिद्धि विनायक विराजते हैं। गर्भग्रह में भक्तों के जाने के लिए तीन दरवाजे हैं, जिन पर अष्टविनायक, अष्टलक्ष्मी और दशावतार की आकृतियां चित्रित हैं।

वैसे भी सिद्धिविनायक मंदिर में हर मंगलवार को भारी संख्या में भक्तगण गणपति बप्पा के दर्शन कर अपनी अभिलाषा पूरी करते हैं। मंगलवार को यहां इतनी भीड़ होती है कि लाइन में चार-पांच घंटे खड़े होने के बाद दर्शन हो पाते हैं। हर साल गणपति पूजा महोत्सव यहां भाद्रपद की चतुर्थी से अनंत चतुर्दशी तक विशेष समारोह पूर्वक मनाया जाता है।


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description