Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


कार 400 मीटर गहरी खाई में गिरी      |       पंजाब और जम्मू में आतंकी हमले की आशंका, मिलिट्री और एयरबेस पर ऑरेंज अलर्ट      |      "मैग्नीफिसेंट मध्यप्रदेश" बनाना हमारा लक्ष्य      |      सचिन ने कहा- आईसीसी का बाउंड्री नियम में बदलाव सही      |      अक्षय की 'हाउसफुल 4' बनी 'प्रमोशन ऑन व्हील्स'       |      ऑस्ट्रेलिया में 2020 में होने वाले आइसीसी महिला टी-20 विश्व कप के विजेता को अब दस लाख डॉलर करीब चार करोड़ 83 लाख       |      सनी कौशल की फ़िल्म 'भंगड़ा पा ले      |      उच्च आदर्शों को कार्य का लक्ष्य बनायें : राज्यपाल श्री टंडन      |      मैग्नीफिसेंट एमपी-2019 के विशेष सत्रों का शेड्यूल जारी      |      आम आदमी के लिए जन सुविधाएँ बढ़ाना शासन का लक्ष्य : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ      |      आलिया भट्ट को भाभी बनाने के सवाल पर बोलीं करीना- उस दिन सबसे ज्यादा खुशी मुझे होगी      |       विरोधी अपनी टीम संभालने के लिए जूझ रहे      |      लोगों के सवालों पर मोदी ने बताया- प्लॉगिंग के वक्त हाथ में एक्यूप्रेशर रोलर था      |      मंजू रानी फाइनल में हारीं, रजत से संतोष करना पड़ा; टूर्नामेंट में भारत के 4 पदक      |      ईद पर 'राधे' बनकर लौटेंगे सलमान खान      |      महर्षि वाल्मीकि ने मानवता और समाज को नई दिशा दी : जनसम्पर्क मंत्री       |      मैग्निफिसेंट एमपी से विकास को मिलेगी रफ्तार : मंत्री श्री शर्मा      |      पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट असोसिएशन स्टेडियम सुरक्षा में बड़ी चूक नजर आई      |      हिना खान, एरिका फर्नांडिस, सुरभि चंदना जैसे कलाकारों ने बिखेरा जलवा      |      छिन्दवाड़ा जिले की महत्वपूर्ण परियोजनाएँ समय-सीमा में पूर्ण करें- मुख्यमंत्री श्री नाथ      |      न्याय प्रणाली देश की प्रजातांत्रिक व्यवस्था की नींव : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ      |      चिकित्सकीय शोध कार्यों में प्राचीन भारतीय चिकित्सा पद्धति से सामंजस्य बनाना जरूरी      |      केंद्रीय मंत्री रविशंकर बोले- देश में मंदी नहीं      |      चुनाव में लोढा समिति के सुझावों की अनदेखी ll      |      ऑफ-शोल्डर गाउन में करीना कपूर खान का दिखा हॉट अवतार, इस अंदाज में आईं नजर      |      विश्वविद्यालय आर्थिक आत्म-निर्भरता के लिए करें ठोस प्रयास      |      राष्ट्रीय उद्यानों में इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग पर विचार हो - मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ      |      विश्वविद्यालय आर्थिक आत्म-निर्भरता के लिए करें ठोस प्रयास      |      चीन के राष्‍ट्रपति महाबलीपुरम में पीएम मोदी के साथ 'महामुलाकात'      |      बदलते वैश्विक दौर में हस्तशिल्प और हथकरघा क्षेत्र का विकास चुनौतीपूर्ण      |      

आनंद की बात

HMD Global ने कन्फर्म किया है की उसके एंट्री लेवल Nokia स्मार्टफोन्स को Android 10 Go Edition अपडेट मिलेगा। H
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
टीम इंडिया और मुंबई इंडियंस के स्‍टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या की लंदन में पीठ के निचले हिस्‍से की सफल सर्जरी हुई। ...
आगे पढ़ें
हारवर्ड टी. एच. चैन स्कूल आॅफ़ पबलिक हेल्थ के पोषण वैज्ञानिकों, और हारवर्ड हेल्थ पबलिकेशंज़ के संपादकों द्वारा बनायी गयी स्वस्थ भोजन की थाली संतुलित, स्वस्थ भोजन तैयार करने के लिए एक गाइड है – चाहे वह थाली में परोसा जाऐ, या खाने के डब्बे में डाला जाए। ...
आगे पढ़ें
छत्रपति शिवाजी टर्मिनस: MUMBAIBookmark and Share

 छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस, पूर्व में जिसे विक्टोरिया टर्मिनस कहा जाता था, एवं अपने लघु नाम वी.टी., या सी.एस.टी. से अधिक प्रचलित है। यह भारत की वाणिज्यिक राजधानी मुंबई का एक ऐतिहासिक रेलवे-स्टेशन है, जो मध्य रेलवे, भारत का मुख्यालय भी है। यह भारत के व्यस्ततम स्टेशनों में से एक है, जहां मध्य रेलवे की मुंबई में, व मुंबई उपनगरीय रेलवे की मुंबई में समाप्त होने वाली रेलगाड़ियां रुकती व यात्रा पूर्ण करती हैं। आंकड़ों के अनुसार यह स्टेशन ताजमहल के बाद; भारत का सर्वाधिक छायाचित्रित स्मारक है।

इस स्टेशन की अभिकल्पना फ्रेडरिक विलियम स्टीवन्स, वास्तु सलाहकार १८८७-१८८८, ने १६.१४ लाख रुपयों की राशि पर की थी। स्टीवन ने नक्शाकार एक्सल हर्मन द्वारा खींचे गये इसके एक जल-रंगीय चित्र के निर्माण हेतु अपना दलाली शुल्क रूप लिया था। इस शुल्क को लेने के बाद, स्टीवन यूरोप की दस-मासी यात्रा पर चला गया, जहां उसे कई स्टेशनों का अध्ययन करना था। इसके अंतिम रूप में लंदन के सेंट पैंक्रास स्टेशन की झलक दिखाई देती है। इसे पूरा होने में दस वर्ष लगे और तब इसे शासक सम्राज्ञी महारानी विक्टोरिया के नाम पर विक्टोरिया टर्मिनस कहा गया। सन १९९६ में, शिवसेना की मांग पर, तथा नामों को भारतीय नामों से बदलने की नीति के अनुसार, इस स्टेशन का नाम, राज्य सरकार द्वारा सत्रहवीं शताब्दी के मराठा शूरवीर शासक छत्रपति शिवाजी के नाम पर छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस बदला गया। फिर भी वी.टी. नाम आज भी लोगों के मुंह पर चढ़ा हुआ है। २ जुलाई२००४ को इस स्टेशन को युनेस्को की विश्व धरोहर समिति द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया।

इस स्टेशन की इमारत विक्टोरियन गोथिक शैली में बनी है। इस इमारत में विक्टोरियाई इतालवी गोथिक शैली एवं परंपरागत भारतीय स्थापत्यकला का संगम झलकता है। इसके अंदरूनी भागों में लकड़ी की नक्काशि की हुई टाइलें, लौह एवं पीतल की अलंकृत मुंडेरें व जालियां, टिकट-कार्यालय की ग्रिल-जाली व वृहत सीढ़ीदार जीने का रूप, बम्बई कला महाविद्यालय (बॉम्बे स्कूल ऑफ आर्ट) के छात्रों का कार्य है। यह स्टेशन अपनी उन्नत संरचना व तकनीकी विशेषताओं के साथ, उन्नीसवीं शताब्दी के रेलवे स्थापत्यकला आश्चर्यों के उदाहरण के रूप में खड़ा है।

मुंबई उपनगरीय रेलवे (जिन्हें स्थानीय गाड़ियों के नाम पर लोकल कहा जाता है), जो इस स्टेशन से बाहर मुंबई नगर के सभी भागों के लिये निकलतीं हैं, नगर की जीवन रेखा सिद्ध होतीं हैं। शहर के चलते रहने में इनका बहुत बड़ा हाथ है। यह स्टेशन लम्बी दूरी की गाड़ियों व दो उपनगरीय लाइनों – सेंट्रल लाइन, व बंदरगाह (हार्बर) लाइन के लिये सेवाएं देता है। स्थानीय गाड़ियां कर्जतकसारापनवेलखोपोलीचर्चगेट व डहाणु पर समाप्त होतीं हैं।


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description