Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


भारत ने बांग्लादेश को पारी और 130 रनों से हरा दिया       |      पंकज त्रिपाठी ने शेयर किया मिर्ज़ापुर सीजन 2 का टीजर      |      जनसम्पर्क मंत्री ने किया "मेरा अधिकार-मेरी सुरक्षा" पोस्टर का विमोचन किया      |      मंत्री श्री शर्मा ने किया इज्तिमा स्थल पर तैयारियों का निरीक्षण      |      संघर्ष, कुर्बानी और त्याग के प्रतीक थे आदिवासी नायक बिरसा मुंडा      |      मयंक अग्रवाल ने बांग्लादेश के खिलाफ 243 रन की पारी खेलकर एक नया वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया      |      नवाज-अथिया की 'माेतीचूर चकनाचूर' ऐसी फिल्म जिसे देखकर पछताना नहीं पड़ेगा      |      राज्यपाल श्री टंडन द्वारा पासपोर्ट कार्यालय की वार्षिक पत्रिका का लोकार्पण      |      राजभवन में 18 नवम्बर को होगा "भारत भाग्य विधाता नाटक का मंचन      |      चाइल्ड पोर्नोग्राफी पर रोकथाम के लिए विशेष इकाई का गठन      |       ऋतिक रोशन ने छोड़ी 'सत्ते पे सत्ता' की रीमेक      |       ऋतिक रोशन ने छोड़ी 'सत्ते पे सत्ता' की रीमेक      |      ; वह मुकाबला देखने को नहीं मिलता, जिसका इंतजार रहता था      |      मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने नेहरू जी की प्रतिमा पर अर्पित की पुष्पाँजलि      |      बचपन से ही मिलें ऊर्जा संरक्षण के संस्कार: राज्यपाल श्री टंडन      |      नवंबर 2020 में चंद्रयान-3 भेजने की तैयारी      |      T20 में ओपनर बल्लेबाज के लिए आक्रामक खेल जरूरी : शिखर      |      T20 में ओपनर बल्लेबाज के लिए आक्रामक खेल जरूरी : शिखर      |      प्रियंका चोपड़ा और निक जोनास ने खरीदा 144 करोड़ रुपए का घर!      |      एनसीपी-कांग्रेस की बैठक, सरकार बनाने पर मंथन जारी      |      दिल्‍ली-एनसीआर के स्‍कूल अगले दो दिन रहेंगे बंद      |      मंत्री श्री पटवारी द्वारा भारत-बांग्लादेश क्रिकेट मैच की व्यवस्थाओं का निरीक्षण      |      श्री गुरूनानक देव जी का 550वाँ प्रकाश पर्व      |       उत्साह से मनाया जा रहा गुरु नानकदेव का 550वां प्रकाश पर्व      |       लता मंगेशकर की हालत नाजुक      |       दीपक चाहर ने 3 दिन में दूसरी हैट्रिक ली      |      तिरुपति बालाजी में पूजा में मत्था टेककर पहली वेडिंग एनिवर्सरी मनाएंगे दीपिका-रणवीर      |      मोदी ब्रिक्स सम्मेलन के लिए ब्राजील रवाना      |      लता मंगेशकर को सांस लेने में तकलीफ, अस्पताल में भर्ती      |      डिजिटल कम्युनिकेशन की अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा      |      

आनंद की बात

इस दिवाली लोगों ने वॉट्सऐप पर इमोजी और GIF की जगह स्टीकर शेयर करें। ये देखने में ज्यादा अट्रेक्टिव हैं और इसे डाउनलोड करने की भी जरूरत नहीं है। इतना ही नहीं,
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
बाल दिवस (Children's Day) हर साल 14 नवंबर (14 November) को बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है. ...
आगे पढ़ें
तेज रफ्तार एवं भागदौड़ भरी जिंदगी में सेहत का विषय बहुत पीछे रह गया है और नतीजा यह निकला की आज हम युवावस्था में ही ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, ह्रदय रोग, कोलेस्ट्रोल, मोटापा, गठिया, थायरॉइड जैसे रोगों से पीड़ित होने लगे हैं ...
आगे पढ़ें
भारत की आजादी के लिए क्यों चुनी गई 15 अगस्त की तारीख?Bookmark and Share

 

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) हर साल 15 अगस्त को मनाया जाता है. 15 अगस्त (15 August) 1947 को भारत को अंग्रेजों के शासन से आजादी मिली थी और यही कारण है कि 15 अगस्त का दिन हर किसी के लिए बेहद खास है. भारत की आजादी (Independence Day) के दिन जवाहर लाल नेहरू ने ऐतिहासिक भाषण दिया था. जिसे हम 'ट्रिस्ट विद डेस्टनी' से जानते हैं. यह भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के द्वारा संसद में दिया गया पहला भाषण है. हर स्वतंत्रता दिवस (India Independence Day) पर भारतीय प्रधानमंत्री लाल किले से झंडा फहराते हैं. लेकिन 15 अगस्त, 1947 को ऐसा नहीं हुआ था. लोकसभा सचिवालय के एक शोध पत्र के मुताबिक नेहरू ने 16 अगस्त, 1947 को लाल किले से झंडा फहराया था. भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा रेखा का निर्धारण भी 15 अगस्त को नहीं हुआ था. इसका फैसला 17 अगस्त को रेडक्लिफ लाइन की घोषणा से हुआ. 

ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमंस में इंडियन इंडिपेंडेंस बिल 4 जुलाई 1947 को पेश किया गया. इस बिल में भारत के बंटवारे और पाकिस्तान के बनाए जाने का प्रस्ताव रखा गया था. यह बिल 18 जुलाई 1947 को स्वीकारा गया और 14 अगस्त को बंटवारे के बाद 14-15 अगस्त की मध्यरात्रि को भारत की आजादी की घोषणा की गई थी. भारत की आजादी के जश्न में महात्मा गांधी शामिल नहीं हुए थे. जब भारत को आजादी मिली थी तब महात्मा गांधी बंगाल के नोआखली में हिंदुओं और मुस्लिमों के बीच हो रही सांप्रदायिक हिंसा को रोकने के लिए अनशन कर रहे थे.

 
 

लेकिन क्या आपने सोचा है कि देश की आजादी के लिए 15 अगस्त की तारीख को ही क्यों चुना गया?  इस बारे में अलग-अलग इतिहासकारों की मान्यताएं भिन्न हैं. कुछ इतिहासकारों का मानना है कि सी राजगोपालाचारी के सुझाव पर माउंटबेटन ने भारत की आजादी के लिए 15 अगस्त की तारीख चुनी. सी राजगोपालाचारी ने लॉर्ड माउंटबेटन को कहा था कि अगर 30 जून 1948 तक इंतजार किया गया तो हस्तांतरित करने के लिए कोई सत्ता नहीं बचेगी. ऐसे में माउंटबेटन ने 15 अगस्त को भारत की स्वतंत्रता के लिए चुना. 

वहीं, कुछ इतिहासकारों का मानना है कि माउंटबेटन 15 अगस्त की तारीख को शुभ मानते थे इसीलिए उन्होंने भारत की आजादी के लिए ये तारीख चुनी थी. 15 अगस्त का दिन माउंटबेटन के हिसाब से शुभ था क्योंकि द्वितीय विश्व युद्ध के समय 15 अगस्त, 1945 को जापानी आर्मी ने आत्मसमर्पण किया था और उस समय माउंटबेटन अलाइड फ़ोर्सेज़ के कमांडर थे. 


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description