Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


अब उन्मुक्त घरेलू सीजन में अब उत्तराखंड के लिए खेलते नजर आएंगे      |      पहले हफ़्ते में ड्रीम गर्ल पर बरसा ख़ूब प्यार, कमाई इतने करोड़ के पार      |      पीएम मोदी ने कहा- मजबूत होंगे दोनों देशों के संबंध      |      उच्च अधिकार प्राप्त GST काउंसिल की 37वीं बैठक हुई      |      अति-वृष्टि प्रभावित गरीब बस्तियों में पहुँचे जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा      |      मुंबई मेट्रो में आम लोगों संग अक्षय कुमार कर रहे थे यात्रा      |      अति-वृष्टि और बाढ़ से प्रदेश को अब तक 11 हजार 906 करोड़ की क्षति अंतर मंत्रालयीन केन्द्रीय दल से तत्काल राहत उपलब्ध कराने का अनुरोध छोटी अवधि के कृषि ऋण को मध्यम अवधि ऋण में बदलने की मांग मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बैठक सम्पन्न      |      स्टीव स्मिथ के फैन हो गए हैं सचिन तेंदुलकर      |      27 सितंबर को UNGA को संबोधित करेंगे PM मोदी      |      एयर मार्शल RKS भदौरिया होंगे नए वायुसेना प्रमुख      |      आयुष्मान खुराना ने शेयर की शर्टलेस तस्वीर      |      दिग्‍गज खिलाडि़यों ने नरेंद्र मोदी को 69वें जन्‍मदिन पर दी बधाई      |      'गोपी बहू' का बदला रूप, Bigg Boss 13 में नजर आएंगी Devoleena Bhattacharjee      |      जल स्त्रोतों पर अतिक्रमण को अपराध माना जाएगा : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ      |      भिण्ड जिले में रेस्क्यू ऑपेरशन से 1900 लोग सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाए गए       |      1500 रुपये कमाने वाली महिला बनी केबीसी 11 की दूसरी करोड़पति विजेता      |      सभी विश्वविद्यालय मासिक एवं वार्षिक लक्ष्य आधारित रोड मैप बनाएँ      |      पूर्व खिलाड़ियों ने टीम इंडिया को कुलदीप-चहल मामले में जल्दबाजी नहीं करने की सलाह      |      जब दीपिका पादुकोण भूल गई कि हो चुकी है शादी      |      ; कमल हासन ने कहा- जल्लीकट्टू से बड़ा होगा भाषा आंदोलन      |      प्रभावशाली मुस्लिम देशों ने पाकिस्तान को लगाई लताड़, कहा- पीएम मोदी के खिलाफ बंद करे जुबानी हमले      |      स्टीव स्मिथ ने भारत के खिलाफ बनाया अपना रिकॉर्ड तोड़ा      |      रवीना टंडन और मनीष पॉल के बीच हुई तीखी बहस      |      गोदावरी नदी में 61 लोगों को ले जा रही नाव डूबी      |      विश्वविद्यालयों में शैक्षणिक गुणवत्ता के उच्च मापदण्ड निर्धारित करने के निर्देश      |      युद्ध स्तर पर पूरा करें बारिश से खराब सड़कों के सुधार कार्य : मंत्री श्री वर्मा      |      कपिल देव होंगे हरियाणा स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी के पहले चांसलर      |      बिहार के सनोज राज बने पहले करोड़पति      |      वास्तविक निवेश को प्रोत्साहित किया जाएगा      |      मास्टर प्लान बनाने के लिए सलाहकार समिति का गठन हो      |      

आनंद की बात

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) हर साल 15 अगस्त को मनाया जाता है. 15 अगस्त (15 August) 1947 को भारत को अंग्रेजों के शासन से आजादी मिली थी और यही कारण है कि
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
भारत में 15 अगस्त बहुत उत्साह और गौरव के साथ मनाया जाता है। 15 अगस्त 1947 को भारत को अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी। तब से हमारे देश में हर वर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। ...
आगे पढ़ें
कल देश आजादी की सालगिरह के जश्न के साथ-साथ रक्षाबंधन का त्योहार भी मनाएगा। भाई और बहन के लिए ये सबसे बड़ा त्योहार है।...
आगे पढ़ें
भारत की आजादी के लिए क्यों चुनी गई 15 अगस्त की तारीख?Bookmark and Share

 

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) हर साल 15 अगस्त को मनाया जाता है. 15 अगस्त (15 August) 1947 को भारत को अंग्रेजों के शासन से आजादी मिली थी और यही कारण है कि 15 अगस्त का दिन हर किसी के लिए बेहद खास है. भारत की आजादी (Independence Day) के दिन जवाहर लाल नेहरू ने ऐतिहासिक भाषण दिया था. जिसे हम 'ट्रिस्ट विद डेस्टनी' से जानते हैं. यह भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के द्वारा संसद में दिया गया पहला भाषण है. हर स्वतंत्रता दिवस (India Independence Day) पर भारतीय प्रधानमंत्री लाल किले से झंडा फहराते हैं. लेकिन 15 अगस्त, 1947 को ऐसा नहीं हुआ था. लोकसभा सचिवालय के एक शोध पत्र के मुताबिक नेहरू ने 16 अगस्त, 1947 को लाल किले से झंडा फहराया था. भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा रेखा का निर्धारण भी 15 अगस्त को नहीं हुआ था. इसका फैसला 17 अगस्त को रेडक्लिफ लाइन की घोषणा से हुआ. 

ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमंस में इंडियन इंडिपेंडेंस बिल 4 जुलाई 1947 को पेश किया गया. इस बिल में भारत के बंटवारे और पाकिस्तान के बनाए जाने का प्रस्ताव रखा गया था. यह बिल 18 जुलाई 1947 को स्वीकारा गया और 14 अगस्त को बंटवारे के बाद 14-15 अगस्त की मध्यरात्रि को भारत की आजादी की घोषणा की गई थी. भारत की आजादी के जश्न में महात्मा गांधी शामिल नहीं हुए थे. जब भारत को आजादी मिली थी तब महात्मा गांधी बंगाल के नोआखली में हिंदुओं और मुस्लिमों के बीच हो रही सांप्रदायिक हिंसा को रोकने के लिए अनशन कर रहे थे.

 
 

लेकिन क्या आपने सोचा है कि देश की आजादी के लिए 15 अगस्त की तारीख को ही क्यों चुना गया?  इस बारे में अलग-अलग इतिहासकारों की मान्यताएं भिन्न हैं. कुछ इतिहासकारों का मानना है कि सी राजगोपालाचारी के सुझाव पर माउंटबेटन ने भारत की आजादी के लिए 15 अगस्त की तारीख चुनी. सी राजगोपालाचारी ने लॉर्ड माउंटबेटन को कहा था कि अगर 30 जून 1948 तक इंतजार किया गया तो हस्तांतरित करने के लिए कोई सत्ता नहीं बचेगी. ऐसे में माउंटबेटन ने 15 अगस्त को भारत की स्वतंत्रता के लिए चुना. 

वहीं, कुछ इतिहासकारों का मानना है कि माउंटबेटन 15 अगस्त की तारीख को शुभ मानते थे इसीलिए उन्होंने भारत की आजादी के लिए ये तारीख चुनी थी. 15 अगस्त का दिन माउंटबेटन के हिसाब से शुभ था क्योंकि द्वितीय विश्व युद्ध के समय 15 अगस्त, 1945 को जापानी आर्मी ने आत्मसमर्पण किया था और उस समय माउंटबेटन अलाइड फ़ोर्सेज़ के कमांडर थे. 


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description