Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


अब उन्मुक्त घरेलू सीजन में अब उत्तराखंड के लिए खेलते नजर आएंगे      |      पहले हफ़्ते में ड्रीम गर्ल पर बरसा ख़ूब प्यार, कमाई इतने करोड़ के पार      |      पीएम मोदी ने कहा- मजबूत होंगे दोनों देशों के संबंध      |      उच्च अधिकार प्राप्त GST काउंसिल की 37वीं बैठक हुई      |      अति-वृष्टि प्रभावित गरीब बस्तियों में पहुँचे जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा      |      मुंबई मेट्रो में आम लोगों संग अक्षय कुमार कर रहे थे यात्रा      |      अति-वृष्टि और बाढ़ से प्रदेश को अब तक 11 हजार 906 करोड़ की क्षति अंतर मंत्रालयीन केन्द्रीय दल से तत्काल राहत उपलब्ध कराने का अनुरोध छोटी अवधि के कृषि ऋण को मध्यम अवधि ऋण में बदलने की मांग मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बैठक सम्पन्न      |      स्टीव स्मिथ के फैन हो गए हैं सचिन तेंदुलकर      |      27 सितंबर को UNGA को संबोधित करेंगे PM मोदी      |      एयर मार्शल RKS भदौरिया होंगे नए वायुसेना प्रमुख      |      आयुष्मान खुराना ने शेयर की शर्टलेस तस्वीर      |      दिग्‍गज खिलाडि़यों ने नरेंद्र मोदी को 69वें जन्‍मदिन पर दी बधाई      |      'गोपी बहू' का बदला रूप, Bigg Boss 13 में नजर आएंगी Devoleena Bhattacharjee      |      जल स्त्रोतों पर अतिक्रमण को अपराध माना जाएगा : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ      |      भिण्ड जिले में रेस्क्यू ऑपेरशन से 1900 लोग सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाए गए       |      1500 रुपये कमाने वाली महिला बनी केबीसी 11 की दूसरी करोड़पति विजेता      |      सभी विश्वविद्यालय मासिक एवं वार्षिक लक्ष्य आधारित रोड मैप बनाएँ      |      पूर्व खिलाड़ियों ने टीम इंडिया को कुलदीप-चहल मामले में जल्दबाजी नहीं करने की सलाह      |      जब दीपिका पादुकोण भूल गई कि हो चुकी है शादी      |      ; कमल हासन ने कहा- जल्लीकट्टू से बड़ा होगा भाषा आंदोलन      |      प्रभावशाली मुस्लिम देशों ने पाकिस्तान को लगाई लताड़, कहा- पीएम मोदी के खिलाफ बंद करे जुबानी हमले      |      स्टीव स्मिथ ने भारत के खिलाफ बनाया अपना रिकॉर्ड तोड़ा      |      रवीना टंडन और मनीष पॉल के बीच हुई तीखी बहस      |      गोदावरी नदी में 61 लोगों को ले जा रही नाव डूबी      |      विश्वविद्यालयों में शैक्षणिक गुणवत्ता के उच्च मापदण्ड निर्धारित करने के निर्देश      |      युद्ध स्तर पर पूरा करें बारिश से खराब सड़कों के सुधार कार्य : मंत्री श्री वर्मा      |      कपिल देव होंगे हरियाणा स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी के पहले चांसलर      |      बिहार के सनोज राज बने पहले करोड़पति      |      वास्तविक निवेश को प्रोत्साहित किया जाएगा      |      मास्टर प्लान बनाने के लिए सलाहकार समिति का गठन हो      |      

आनंद की बात

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) हर साल 15 अगस्त को मनाया जाता है. 15 अगस्त (15 August) 1947 को भारत को अंग्रेजों के शासन से आजादी मिली थी और यही कारण है कि
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
भारत में 15 अगस्त बहुत उत्साह और गौरव के साथ मनाया जाता है। 15 अगस्त 1947 को भारत को अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी। तब से हमारे देश में हर वर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। ...
आगे पढ़ें
कल देश आजादी की सालगिरह के जश्न के साथ-साथ रक्षाबंधन का त्योहार भी मनाएगा। भाई और बहन के लिए ये सबसे बड़ा त्योहार है।...
आगे पढ़ें
अद्वैत भाव के साथ जीना ही भारतीय सनातनी परम्परा : राज्यपाल श्री टंडनBookmark and Share

 राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने कहा है कि जब हम अपने देश के पुरातन इतिहास का अध्ययन करते हैं, तो पाते हैं कि हमारे ऋषियों-मुनियों ने प्रकृति की छाया में बैठकर ज्ञान परम्परा को प्रतिष्ठापित किया। यहीं से श्रुति-स्मृति परम्परा की शुरूआत हुई। पीढ़ी दर पीढ़ी यही चिंतन, श्रुति और स्मृति के रूप में हमारे बीच मौजूद है। इस संपदा को बार-बार नष्ट करने की कोशिश की गई परंतु भारतीय संस्कृति, संस्कार और परम्परा ने इसे नष्ट होने से बचाया। श्री टंडन आज यहाँ दो दिवसीय यंग थिंकर्स कॉनक्लेव में युवा चिंतकों को सम्बोधित कर रहे थे।


श्री लालजी टंडन ने कहा कि किसी भी देश के जीवन-काल में विपरीत परिस्थितियाँ आती हैं। भारत में भी कुछ समय के लिये चिंतन के अभाव में विकृतियाँ पैदा हुई, परंतु अब समय आ गया है कि आज के युवा उस चिंतन, श्रुति-स्मृति परम्परा और देश की बहुमूल्य ज्ञान-सम्पदा को आत्मसात कर अपने लक्ष्यों को प्राप्त करें।

राज्यपाल ने कहा कि आज हम पेपरलेस व्यवस्था की बात करते हैं परंतु हमारे देश में तो बरसों पहले से ही पेपरलेस व्यवस्था रही है। कबीर जैसे चिंतक निरक्षर थे परंतु उनकी ज्ञान-धारा पर आज भी शोध हो रहे हैं।

भारतीय उच्च शिक्षा संस्थान के चेयरपर्सन श्री कपिल श्रीवास्तव ने बताया कि वे अंग्रेजी के प्रोफेसर थे। जब जे.एन.यू में पाणिनि, भृर्तहरि और पतंजलि के बारे में सुना, तो अध्ययन- अध्यापन की धारा ही बदल गई। फिर इन महान ऋषियों के बारे में पढ़ाना शुरू किया।

कानक्लेव के निदेशक श्री आशुतोष सिंह ठाकुर ने बताया कि भारतीय ज्ञान परम्परा और औपनिवेशिकता से भारतीय मानस की मुक्ति को लेकर समसामयिक परिवेश में पुन-र्जागरण जरूरी है। उन्होंने बताया कि देश-विदेश से लगभग 150 युवा कॉनक्लेव में शामिल हुए हैं। ये युवा दो दिवसीय आयोजन में कृषि, विज्ञान, भारतीय ज्ञान-परम्परा सहित भारत की दशा और दिशा के संबंध में मंथन करेंगे।

समाजसेवी श्री अमिताभ सोनी के नवाचारों पर केन्द्रित डाक्यूमेंट्री फिल्म दिखाई गई। इंदिरा गांधी कला केन्द्र दिल्ली के न्यासी श्री भरत गुप्ता, आरजीपीवी के कुलपति प्रो. आनंद सिंह और पीपुल्स ग्रुप के निदेशक श्री मयंक विश्नोई विशेष रूप से उपस्थित थे।

पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description