Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


कार 400 मीटर गहरी खाई में गिरी      |       पंजाब और जम्मू में आतंकी हमले की आशंका, मिलिट्री और एयरबेस पर ऑरेंज अलर्ट      |      "मैग्नीफिसेंट मध्यप्रदेश" बनाना हमारा लक्ष्य      |      सचिन ने कहा- आईसीसी का बाउंड्री नियम में बदलाव सही      |      अक्षय की 'हाउसफुल 4' बनी 'प्रमोशन ऑन व्हील्स'       |      ऑस्ट्रेलिया में 2020 में होने वाले आइसीसी महिला टी-20 विश्व कप के विजेता को अब दस लाख डॉलर करीब चार करोड़ 83 लाख       |      सनी कौशल की फ़िल्म 'भंगड़ा पा ले      |      उच्च आदर्शों को कार्य का लक्ष्य बनायें : राज्यपाल श्री टंडन      |      मैग्नीफिसेंट एमपी-2019 के विशेष सत्रों का शेड्यूल जारी      |      आम आदमी के लिए जन सुविधाएँ बढ़ाना शासन का लक्ष्य : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ      |      आलिया भट्ट को भाभी बनाने के सवाल पर बोलीं करीना- उस दिन सबसे ज्यादा खुशी मुझे होगी      |       विरोधी अपनी टीम संभालने के लिए जूझ रहे      |      लोगों के सवालों पर मोदी ने बताया- प्लॉगिंग के वक्त हाथ में एक्यूप्रेशर रोलर था      |      मंजू रानी फाइनल में हारीं, रजत से संतोष करना पड़ा; टूर्नामेंट में भारत के 4 पदक      |      ईद पर 'राधे' बनकर लौटेंगे सलमान खान      |      महर्षि वाल्मीकि ने मानवता और समाज को नई दिशा दी : जनसम्पर्क मंत्री       |      मैग्निफिसेंट एमपी से विकास को मिलेगी रफ्तार : मंत्री श्री शर्मा      |      पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट असोसिएशन स्टेडियम सुरक्षा में बड़ी चूक नजर आई      |      हिना खान, एरिका फर्नांडिस, सुरभि चंदना जैसे कलाकारों ने बिखेरा जलवा      |      छिन्दवाड़ा जिले की महत्वपूर्ण परियोजनाएँ समय-सीमा में पूर्ण करें- मुख्यमंत्री श्री नाथ      |      न्याय प्रणाली देश की प्रजातांत्रिक व्यवस्था की नींव : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ      |      चिकित्सकीय शोध कार्यों में प्राचीन भारतीय चिकित्सा पद्धति से सामंजस्य बनाना जरूरी      |      केंद्रीय मंत्री रविशंकर बोले- देश में मंदी नहीं      |      चुनाव में लोढा समिति के सुझावों की अनदेखी ll      |      ऑफ-शोल्डर गाउन में करीना कपूर खान का दिखा हॉट अवतार, इस अंदाज में आईं नजर      |      विश्वविद्यालय आर्थिक आत्म-निर्भरता के लिए करें ठोस प्रयास      |      राष्ट्रीय उद्यानों में इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग पर विचार हो - मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ      |      विश्वविद्यालय आर्थिक आत्म-निर्भरता के लिए करें ठोस प्रयास      |      चीन के राष्‍ट्रपति महाबलीपुरम में पीएम मोदी के साथ 'महामुलाकात'      |      बदलते वैश्विक दौर में हस्तशिल्प और हथकरघा क्षेत्र का विकास चुनौतीपूर्ण      |      

आनंद की बात

HMD Global ने कन्फर्म किया है की उसके एंट्री लेवल Nokia स्मार्टफोन्स को Android 10 Go Edition अपडेट मिलेगा। H
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
टीम इंडिया और मुंबई इंडियंस के स्‍टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या की लंदन में पीठ के निचले हिस्‍से की सफल सर्जरी हुई। ...
आगे पढ़ें
हारवर्ड टी. एच. चैन स्कूल आॅफ़ पबलिक हेल्थ के पोषण वैज्ञानिकों, और हारवर्ड हेल्थ पबलिकेशंज़ के संपादकों द्वारा बनायी गयी स्वस्थ भोजन की थाली संतुलित, स्वस्थ भोजन तैयार करने के लिए एक गाइड है – चाहे वह थाली में परोसा जाऐ, या खाने के डब्बे में डाला जाए। ...
आगे पढ़ें
केन्द्र सरकार प्रदेश के अति-वर्षा और बाढ़ प्रभावितों के लिये जारी करे 7154.28 करोड़Bookmark and Share

 मध्यप्रदेश सरकार ने प्रदेश में अति-वर्षा और बाढ़ से हुए नुकसान की भरपाई के लिये केन्द्र सरकार से 7154.28 करोड़ रुपये की सहायता राशि शीघ्र जारी करने का अनुरोध किया है। इस राशि में एनडीआरएफ मद से 6621.28 करोड़ रुपये केन्द्रीय सहायता राशि और एसडीआरएफ से इस वर्ष की दूसरी किश्त की राशि 533 करोड़ रुपये शामिल है।

प्रदेश के प्रमुख सचिव, राजस्व श्री मनीष रस्तोगी ने हाल में केन्द्र को भेजे प्रस्ताव मे कहा है कि प्रदेश के लिए राज्य आपदा प्रबंधन के अंतर्गत वर्ष 2019-20 के लिए 1066 करोड़ रूपये स्वीकृत हैं। इसमें से सितम्बर मध्य तक 362 करोड़ रूपये की राशि अन्य प्राकृतिक आपदाओं, ओला-पाला तथा राहत वितरण में खर्च की गई। वित्तीय वर्ष 2019 में केन्द्रांश के अंतर्गत 247 करोड़ की पहली किश्त जारी की गई, जिसमें पिछले वर्ष 2018-19 में दी गई 152 करोड़ रूपये की अतिरिक्त केन्द्रांश राशि का समायोजन है। अत: वर्ष 2019 में प्रदेश में अब तक एस.डी.आर.एफ में 285.50 करोड़ की राशि ही उपलब्ध है।

प्रदेश के राजस्व विभाग के अनुसार प्रदेश के 52 में से 39 जिलों में अतिवृष्टि और बाढ़ से बहुत अधिक क्षति हुई है। राज्य में जून से सितंबर माह के बीच हुई वर्षा से लगभग 60 लाख 47 हजार हेक्टेयर क्षेत्र की 16 हजार 270 करोड़ रूपये की फसल प्रभावित हुई है। इसमें लगभग 53 लाख 90 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में 33 प्रतिशत तक फसल क्षतिग्रस्त हुई है। प्रदेश में अति-वृष्टि से क्षतिग्रस्त मकानों में 55 हजार 372 पक्का-कच्चे मकान, 4 हजार 98 पक्के मकान तथा 55 हजार 267 आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त कच्चे मकान शामिल हैं। इसी क्रम में 3 हजार 649 झोपड़ियाँ और 3 हजार 274 पशु शेड भी क्षतिग्रस्त हुए हैं।

प्रदेश में बाढ़ और आकाशीय बिजली से 674 लोगों की मृत्यु हुई, 18 लोग शारीरिक अपंगता के शिकार हुए तथा तीन लोगों को गंभीर चोटें आई हैं। लगभग 1515 दुधारू पशु, 373 भारवाही पशु तथा 3 हजार 270 मुर्गियों की क्षति हुई है।

राजस्व विभाग के अनुसार प्रदेश में अति-वृष्टि से सार्वजनिक संपत्तियों को हुए नुकसान की राशि 2285 करोड़ रूपये आँकी गई है। फसलों की कुल क्षति का अनुमान लगभग 16 हजार 270 करोड़ रूपये है तथा फसलों के नुकसान के लिए मांगी गई सहायता राशि तीन हजार 742 करोड़ रूपये है। इसी प्रकार मकान की क्षति, लोगों और पशुओं की मृत्यु एवं अपंगता के लिए 579.96 करोड़ रूपये, रेस्क्यू आपरेशन के लिए 10.02 करोड़ रूपये, राहत शिविरों पर एक करोड़ 75 लाख रूपये, खाद्यान्न और मिट्टी तेल के नुकसान पर एक करोड़ 67 लाख रूपये की सहायता राशि अनुमानित है।


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description