Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


भारत ने बांग्लादेश को पारी और 130 रनों से हरा दिया       |      पंकज त्रिपाठी ने शेयर किया मिर्ज़ापुर सीजन 2 का टीजर      |      जनसम्पर्क मंत्री ने किया "मेरा अधिकार-मेरी सुरक्षा" पोस्टर का विमोचन किया      |      मंत्री श्री शर्मा ने किया इज्तिमा स्थल पर तैयारियों का निरीक्षण      |      संघर्ष, कुर्बानी और त्याग के प्रतीक थे आदिवासी नायक बिरसा मुंडा      |      मयंक अग्रवाल ने बांग्लादेश के खिलाफ 243 रन की पारी खेलकर एक नया वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया      |      नवाज-अथिया की 'माेतीचूर चकनाचूर' ऐसी फिल्म जिसे देखकर पछताना नहीं पड़ेगा      |      राज्यपाल श्री टंडन द्वारा पासपोर्ट कार्यालय की वार्षिक पत्रिका का लोकार्पण      |      राजभवन में 18 नवम्बर को होगा "भारत भाग्य विधाता नाटक का मंचन      |      चाइल्ड पोर्नोग्राफी पर रोकथाम के लिए विशेष इकाई का गठन      |       ऋतिक रोशन ने छोड़ी 'सत्ते पे सत्ता' की रीमेक      |       ऋतिक रोशन ने छोड़ी 'सत्ते पे सत्ता' की रीमेक      |      ; वह मुकाबला देखने को नहीं मिलता, जिसका इंतजार रहता था      |      मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने नेहरू जी की प्रतिमा पर अर्पित की पुष्पाँजलि      |      बचपन से ही मिलें ऊर्जा संरक्षण के संस्कार: राज्यपाल श्री टंडन      |      नवंबर 2020 में चंद्रयान-3 भेजने की तैयारी      |      T20 में ओपनर बल्लेबाज के लिए आक्रामक खेल जरूरी : शिखर      |      T20 में ओपनर बल्लेबाज के लिए आक्रामक खेल जरूरी : शिखर      |      प्रियंका चोपड़ा और निक जोनास ने खरीदा 144 करोड़ रुपए का घर!      |      एनसीपी-कांग्रेस की बैठक, सरकार बनाने पर मंथन जारी      |      दिल्‍ली-एनसीआर के स्‍कूल अगले दो दिन रहेंगे बंद      |      मंत्री श्री पटवारी द्वारा भारत-बांग्लादेश क्रिकेट मैच की व्यवस्थाओं का निरीक्षण      |      श्री गुरूनानक देव जी का 550वाँ प्रकाश पर्व      |       उत्साह से मनाया जा रहा गुरु नानकदेव का 550वां प्रकाश पर्व      |       लता मंगेशकर की हालत नाजुक      |       दीपक चाहर ने 3 दिन में दूसरी हैट्रिक ली      |      तिरुपति बालाजी में पूजा में मत्था टेककर पहली वेडिंग एनिवर्सरी मनाएंगे दीपिका-रणवीर      |      मोदी ब्रिक्स सम्मेलन के लिए ब्राजील रवाना      |      लता मंगेशकर को सांस लेने में तकलीफ, अस्पताल में भर्ती      |      डिजिटल कम्युनिकेशन की अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा      |      

आनंद की बात

इस दिवाली लोगों ने वॉट्सऐप पर इमोजी और GIF की जगह स्टीकर शेयर करें। ये देखने में ज्यादा अट्रेक्टिव हैं और इसे डाउनलोड करने की भी जरूरत नहीं है। इतना ही नहीं,
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
बाल दिवस (Children's Day) हर साल 14 नवंबर (14 November) को बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है. ...
आगे पढ़ें
तेज रफ्तार एवं भागदौड़ भरी जिंदगी में सेहत का विषय बहुत पीछे रह गया है और नतीजा यह निकला की आज हम युवावस्था में ही ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, ह्रदय रोग, कोलेस्ट्रोल, मोटापा, गठिया, थायरॉइड जैसे रोगों से पीड़ित होने लगे हैं ...
आगे पढ़ें
कृषि क्षेत्र में भी रोजगारमूलक शिक्षा की आवश्यकता : राज्यपाल श्री टंडनBookmark and Share

 राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने आज राजभवन में जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर और राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय, ग्वालियर के कुलपतियों के साथ कृषि विकास एवं विस्तार और कृषि से होने वाली आमदनी को बढ़ाने के संबंध में विस्तार से चर्चा की। राज्यपाल ने विश्वविद्यालय संचालन में आने वाली समस्याओं से अवगत होते हुए उसके समाधान के लिए कुलपतियों को आश्वस्त किया। बैठक में प्रमुख सचिव कृषि श्री अजीत केसरी, राज्यपाल के सचिव श्री मनोहर दुबे और विधि अधिकारी श्री भरत पी. महेश्वरी उपस्थित थे।

राज्यपाल ने कहा कि हमारा देश कृषि प्रधान देश है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश विभिन्न फसलों के उत्पादन में पहले स्थान पर है। राज्यपाल ने कहा अब हमें मल्टी क्रॉप पद्धति को अपनाते हुए खेती करनी चाहिए क्योंकि लगातार एक ही फसल बोये जाने से उत्पादन और मूल्यों में गिरावट आती है, जिसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ता है। उन्होंने कहा कि विभिन्न फसलों के उत्पादन से एक उपज में हानि होने से अन्य उपज से भरपाई संभव है।

राज्यपाल श्री टंडन ने कहा कि विश्वविद्यालय को अध्ययन और शोध के द्वारा निर्धारित करना चाहिए कि कितने प्रतिशत स्थान में कौन-सी फसल बोई जाए। साथ ही वैज्ञानिक पद्धति से खेती करने के लिए किसानों को प्रेरित भी करना चाहिए। विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों को समय-समय पर किसानों से विचार विमर्श करना चाहिए, जिससे वैज्ञानिक और पारंपरिक खेती के बीच तालमेल बन सके। उन्होंने जैविक खेती, जीरो बजट खेती और बागवानी के द्वारा किसानों को आर्थिक रूप से सम्पन्न बनाने और कृषि विश्वविद्यालय में नवाचार करने पर जोर दिया। राज्यपाल ने किसानों को गोबर, गोमूत्र, बेसन और गुड़ से बनने वाली जीवामृत खाद का उपयोग करने की सलाह देने की जरूरत बताई। श्री टंडन ने कहा कि अन्य राज्यों की फसलों को मध्यप्रदेश में वैज्ञानिक पद्धति से उत्पादित करने के लिये कृषि विश्वविद्यालय पहल करें। अपने प्रचलित पाठ्यक्रमों के अलावा अन्य रोजगारमूलक पाठ्यक्रम भी शुरू करें।

बैठक में जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर के कुलपति डॉ. प्रदीप कुमार बिसेन एवं राजमाता विजयराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय, ग्वालियर के कुलपति डॉ. एस.के. राव ने उपलब्धियों और समस्याओं से राज्यपाल को अवगत कराया। राज्यपाल ने उपस्थित वरिष्ठ अधिकारियों को यथाशीघ्र इन समस्याओं का निराकरण कर उन्हें अवगत कराने के निर्देश दिए।


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description