Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


कोरोना संकट के कारण अद्वैतवाद का पुनर्जागरण हो रहा है: राज्यपाल      |      सौरव गांगुली ने IPL के आयोजन पर चल रही खबरों पर लगाया विराम      |      सोनू सूद ने 1000 से अधिक यूपी-बिहार के प्रवासी मजूदरों को भेजा घर      |      महाराष्ट्र और गुजरात में आने वाला है चक्रवात निसर्ग      |      कंटेनमेंट मुक्त हुआ राजभवन      |      एलोपैथी न हौम्योपैथी सबसे कारगर सिम्पैथी : मंत्री डॉ. मिश्रा      |      हार्दिक पांड्या शादी से पहले बनने जा रहे हैं पिता      |      जी-7 की जगह जी-11      |      दुर्लभ संकटापन्न प्रजातियों के एक करोड़ पौधे तैयार      |      पाँचवें चरण का लॉकडाउन, अनलॉक 1.0 का चरण होगा      |      कोरोना संकट के बीच टी20 वर्ल्ड कप रद्द करना बेहतर विकल्प: संगकारा      |      चीन के विरोध में एक्टर मिलिंद सोमन का ऐलान      |      मोदी नाम नहीं, मंत्र है जो ऊर्जा भरता है : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      वरिष्ठ चिकित्सक रोज वार्डों में जाएं, मरीजों को सर्वोत्तम इलाज दें      |      जानवरों से मनुष्यों में कैसे पहुंचा कोरोना वायरस      |      कई क्लासिक फ़िल्मों के गीतकार योगेश का निधन      |      छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन      |      पीएम मोदी से मिले शाह      |      बिलिंग, राजस्व संग्रहण एवं विद्युत आपूर्ति प्रभावी ढंग से करें      |      भोपाल में खेल गतिविधियां प्रारंभ करने के लिए खेल विभाग ने तैयार की गाइड लाइन       |      आईसीसी ने टी-20 वर्ल्ड कप के भविष्य को लेकर होने वाला फैसला 10 जून के लिए टाल दिया      |      महिला ने सोनू सूद से लगाई पार्लर पहुंचाने की गुहार      |      "रोजगार सेतु" योजना के अंतर्गत सर्वेक्षण प्रारंभ      |      जनकल्याण के लिए आयुर्वेदिक ज्ञान का वैज्ञानिक विश्लेषण आवश्यक: राज्यपाल श्री टंडन      |      भारत में टिड्डियों के दल ने हमला किया      |      बुमराह एक प्रतिभाशाली खिलाड़ी      |      अमिताभ बच्चन बांट रहे हैं फूड पैकेट      |      ग्रामीणों और केन्द्रीय टिड्डी नियंत्रण दल के अधिकारियों से सतत् सम्पर्क करें      |      नई दृष्टि और नई दिशा के साथ हो गौ-संरक्षण: श्री टंडन      |       वेस्टइंडीज की टेस्ट टीम ने ट्रेनिंग की शुरूआत कर दी       |      

आनंद की बात

दुनिया में अब तक 211597 लोगों की जान ले चुका है। अभी तक जितने शोध सामने आए हैं उनमें ये बात सामने आ चुकी है कि कुछ मरीजों में इस वायरस के शुरुआती लक्षण दिखाई नह
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
चीनी कंपनी iQOO भारतीय बाजार में 5G स्मार्टफोन के साथ उतर रही है। देश में 5G फोन के साथ कदम रखने वाली ये पहली कंपनी भी है। ...
आगे पढ़ें
कोरोनो वायरस महामारी ने दुनिया के लगभग सभी हिस्सों में चिंता और दहशत पैदा कर दी है, लेकिन बुज़ुर्गों, मधुमेह और हृदय की समस्याओं, धूम्रपान करने वाले लोगों और गर्भवती महिलाओं को COVID-19 के लिए उच्च जोखिम वाली श्रेणी में रखा गया है।...
आगे पढ़ें
कृषि क्षेत्र में भी रोजगारमूलक शिक्षा की आवश्यकता : राज्यपाल श्री टंडनBookmark and Share

 राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने आज राजभवन में जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर और राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय, ग्वालियर के कुलपतियों के साथ कृषि विकास एवं विस्तार और कृषि से होने वाली आमदनी को बढ़ाने के संबंध में विस्तार से चर्चा की। राज्यपाल ने विश्वविद्यालय संचालन में आने वाली समस्याओं से अवगत होते हुए उसके समाधान के लिए कुलपतियों को आश्वस्त किया। बैठक में प्रमुख सचिव कृषि श्री अजीत केसरी, राज्यपाल के सचिव श्री मनोहर दुबे और विधि अधिकारी श्री भरत पी. महेश्वरी उपस्थित थे।

राज्यपाल ने कहा कि हमारा देश कृषि प्रधान देश है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश विभिन्न फसलों के उत्पादन में पहले स्थान पर है। राज्यपाल ने कहा अब हमें मल्टी क्रॉप पद्धति को अपनाते हुए खेती करनी चाहिए क्योंकि लगातार एक ही फसल बोये जाने से उत्पादन और मूल्यों में गिरावट आती है, जिसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ता है। उन्होंने कहा कि विभिन्न फसलों के उत्पादन से एक उपज में हानि होने से अन्य उपज से भरपाई संभव है।

राज्यपाल श्री टंडन ने कहा कि विश्वविद्यालय को अध्ययन और शोध के द्वारा निर्धारित करना चाहिए कि कितने प्रतिशत स्थान में कौन-सी फसल बोई जाए। साथ ही वैज्ञानिक पद्धति से खेती करने के लिए किसानों को प्रेरित भी करना चाहिए। विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों को समय-समय पर किसानों से विचार विमर्श करना चाहिए, जिससे वैज्ञानिक और पारंपरिक खेती के बीच तालमेल बन सके। उन्होंने जैविक खेती, जीरो बजट खेती और बागवानी के द्वारा किसानों को आर्थिक रूप से सम्पन्न बनाने और कृषि विश्वविद्यालय में नवाचार करने पर जोर दिया। राज्यपाल ने किसानों को गोबर, गोमूत्र, बेसन और गुड़ से बनने वाली जीवामृत खाद का उपयोग करने की सलाह देने की जरूरत बताई। श्री टंडन ने कहा कि अन्य राज्यों की फसलों को मध्यप्रदेश में वैज्ञानिक पद्धति से उत्पादित करने के लिये कृषि विश्वविद्यालय पहल करें। अपने प्रचलित पाठ्यक्रमों के अलावा अन्य रोजगारमूलक पाठ्यक्रम भी शुरू करें।

बैठक में जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर के कुलपति डॉ. प्रदीप कुमार बिसेन एवं राजमाता विजयराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय, ग्वालियर के कुलपति डॉ. एस.के. राव ने उपलब्धियों और समस्याओं से राज्यपाल को अवगत कराया। राज्यपाल ने उपस्थित वरिष्ठ अधिकारियों को यथाशीघ्र इन समस्याओं का निराकरण कर उन्हें अवगत कराने के निर्देश दिए।


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description