Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


भारत ने बांग्लादेश को पारी और 130 रनों से हरा दिया       |      पंकज त्रिपाठी ने शेयर किया मिर्ज़ापुर सीजन 2 का टीजर      |      जनसम्पर्क मंत्री ने किया "मेरा अधिकार-मेरी सुरक्षा" पोस्टर का विमोचन किया      |      मंत्री श्री शर्मा ने किया इज्तिमा स्थल पर तैयारियों का निरीक्षण      |      संघर्ष, कुर्बानी और त्याग के प्रतीक थे आदिवासी नायक बिरसा मुंडा      |      मयंक अग्रवाल ने बांग्लादेश के खिलाफ 243 रन की पारी खेलकर एक नया वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया      |      नवाज-अथिया की 'माेतीचूर चकनाचूर' ऐसी फिल्म जिसे देखकर पछताना नहीं पड़ेगा      |      राज्यपाल श्री टंडन द्वारा पासपोर्ट कार्यालय की वार्षिक पत्रिका का लोकार्पण      |      राजभवन में 18 नवम्बर को होगा "भारत भाग्य विधाता नाटक का मंचन      |      चाइल्ड पोर्नोग्राफी पर रोकथाम के लिए विशेष इकाई का गठन      |       ऋतिक रोशन ने छोड़ी 'सत्ते पे सत्ता' की रीमेक      |       ऋतिक रोशन ने छोड़ी 'सत्ते पे सत्ता' की रीमेक      |      ; वह मुकाबला देखने को नहीं मिलता, जिसका इंतजार रहता था      |      मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने नेहरू जी की प्रतिमा पर अर्पित की पुष्पाँजलि      |      बचपन से ही मिलें ऊर्जा संरक्षण के संस्कार: राज्यपाल श्री टंडन      |      नवंबर 2020 में चंद्रयान-3 भेजने की तैयारी      |      T20 में ओपनर बल्लेबाज के लिए आक्रामक खेल जरूरी : शिखर      |      T20 में ओपनर बल्लेबाज के लिए आक्रामक खेल जरूरी : शिखर      |      प्रियंका चोपड़ा और निक जोनास ने खरीदा 144 करोड़ रुपए का घर!      |      एनसीपी-कांग्रेस की बैठक, सरकार बनाने पर मंथन जारी      |      दिल्‍ली-एनसीआर के स्‍कूल अगले दो दिन रहेंगे बंद      |      मंत्री श्री पटवारी द्वारा भारत-बांग्लादेश क्रिकेट मैच की व्यवस्थाओं का निरीक्षण      |      श्री गुरूनानक देव जी का 550वाँ प्रकाश पर्व      |       उत्साह से मनाया जा रहा गुरु नानकदेव का 550वां प्रकाश पर्व      |       लता मंगेशकर की हालत नाजुक      |       दीपक चाहर ने 3 दिन में दूसरी हैट्रिक ली      |      तिरुपति बालाजी में पूजा में मत्था टेककर पहली वेडिंग एनिवर्सरी मनाएंगे दीपिका-रणवीर      |      मोदी ब्रिक्स सम्मेलन के लिए ब्राजील रवाना      |      लता मंगेशकर को सांस लेने में तकलीफ, अस्पताल में भर्ती      |      डिजिटल कम्युनिकेशन की अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा      |      

आनंद की बात

इस दिवाली लोगों ने वॉट्सऐप पर इमोजी और GIF की जगह स्टीकर शेयर करें। ये देखने में ज्यादा अट्रेक्टिव हैं और इसे डाउनलोड करने की भी जरूरत नहीं है। इतना ही नहीं,
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
बाल दिवस (Children's Day) हर साल 14 नवंबर (14 November) को बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है. ...
आगे पढ़ें
तेज रफ्तार एवं भागदौड़ भरी जिंदगी में सेहत का विषय बहुत पीछे रह गया है और नतीजा यह निकला की आज हम युवावस्था में ही ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, ह्रदय रोग, कोलेस्ट्रोल, मोटापा, गठिया, थायरॉइड जैसे रोगों से पीड़ित होने लगे हैं ...
आगे पढ़ें
प्रदूषण की रोकथाम और भूमि की उर्वरा शक्ति बनाये रखने नरवाई नहीं जलाएं किसानBookmark and Share

 मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने किसानों से अपील की है कि प्रदूषण की रोकथाम, प्रदेश की आबोहवा को सुरक्षित रखने और भूमि की उर्वरा शक्ति को बनाए रखने के लिये पराली (नरवाई) नहीं जलाएं। उन्होंने कहा कि नरवाई जलाने पर भूमि की उर्वरा शक्ति को बनाये रखने में सहायक कृषि-सहयोगी सूक्ष्म जीवाणु तथा जीव भी नष्ट हो जाते हैं। श्री कमल नाथ ने किसानों से कहा है कि आप हरियाली के जनक हैं, आबोहवा के पहरेदार हैं। इसलिये नरवाई को जलाने की बजाए उसका अन्य उपयोग करें, जिससे उन्नत खेती, पशु-चारे की उपलब्धता और सभी को स्वच्छ प्राण वायु मिल सके। साथ ही, अन्य प्रदेशों में हवा में फैल रहे जहर से हम अपने प्रदेश को समय रहते बचाये रख सकें।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने किसानों से कहा है कि अति-वृष्टि से उनकी फसलों को हुए नुकसान से राज्य सरकार चिंतित है तथा इसकी भरपाई के लिये निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि हमने केन्द्र सरकार से इसके लिये मदद भी माँगी है। श्री कमल नाथ ने कहा कि किसानों के नुकसान की भरपाई के लिये राज्य सरकार वचनबद्ध है। उन्होंने कहा कि नरवाई को जलाने की बजाय उसे भूसे और पशुचारे में तब्दील करना ज्यादा उपयोगी है। विशेषज्ञों का भी सुझाव है कि नरवाई का उपयोग ऊर्जा उत्पादन तथा कार्ड-बोर्ड और कागज बनाने में किया जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि विशेषज्ञों के अनुसार नरवाई को जलाए बिना उसी के साथ गेहूँ की बुआई की जाये। ऐसा करने पर सिंचाई के साथ जब नरवाई सड़ेगी, तो अपने आप खाद में बदल जाएगी और उसका पोषक तत्व मिट्टी में मिलकर गेहूँ की फसल को अतिरिक्त लाभ देगा। उन्होंने कहा कि अब तो ऐसे यंत्र भी उपलब्ध हैं, जो आसानी से ट्रेक्टर में लगाकर खड़े डंठलों को काटकर इकट्ठा कर सकते हैं और उन्हीं में बुआई भी की जा सकती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोनों ही विकल्प किसानों के लिये फायदेमंद हैं।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने किसानों को बताया कि अभी उनकी समस्याओं के समाधान के साथ-साथ सबसे ज्यादा चिंता पर्यावरण संरक्षण की है। मुख्यमंत्री ने बताया कि सर्वोच्च न्यायालय ने भी कहा है कि साफ हवा में सांस लेने का हक सबको है। श्री कमल नाथ ने बताया कि नरवाई जलाने से वातावरण को चौतरफा नुकसान होता है और जमीन के पोषक तत्वों के नुकसान के साथ प्रदूषण भी फैलता है। ग्रीन हाउस गैसें पैदा होती हैं, जो वातावरण को बहुत अधिक नुकसान पहुँचाती हैं। उन्होंने कहा कि नरवाई जलाने से अधजला कार्बन, कार्बन मोनो ऑक्साइड, कार्बन डाई ऑक्साइड, सल्फर डाई ऑक्साइड तथा राख और अन्य विषैले पदार्थ तथा जहरीली गैसें पैदा होती हैं, जो पूरे वातावरण में गैसीय प्रदूषण के साथ धूल के कणों की मात्रा में भी वृद्धि करती हैं। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने किसानों से आग्रह किया है कि समय की जरूरत का विशेष ध्यान रखें और प्रदेश की आबोहवा को प्रदूषण से बचाने में अपना महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान करें।


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description