Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


कोरोना संकट के कारण अद्वैतवाद का पुनर्जागरण हो रहा है: राज्यपाल      |      सौरव गांगुली ने IPL के आयोजन पर चल रही खबरों पर लगाया विराम      |      सोनू सूद ने 1000 से अधिक यूपी-बिहार के प्रवासी मजूदरों को भेजा घर      |      महाराष्ट्र और गुजरात में आने वाला है चक्रवात निसर्ग      |      कंटेनमेंट मुक्त हुआ राजभवन      |      एलोपैथी न हौम्योपैथी सबसे कारगर सिम्पैथी : मंत्री डॉ. मिश्रा      |      हार्दिक पांड्या शादी से पहले बनने जा रहे हैं पिता      |      जी-7 की जगह जी-11      |      दुर्लभ संकटापन्न प्रजातियों के एक करोड़ पौधे तैयार      |      पाँचवें चरण का लॉकडाउन, अनलॉक 1.0 का चरण होगा      |      कोरोना संकट के बीच टी20 वर्ल्ड कप रद्द करना बेहतर विकल्प: संगकारा      |      चीन के विरोध में एक्टर मिलिंद सोमन का ऐलान      |      मोदी नाम नहीं, मंत्र है जो ऊर्जा भरता है : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      वरिष्ठ चिकित्सक रोज वार्डों में जाएं, मरीजों को सर्वोत्तम इलाज दें      |      जानवरों से मनुष्यों में कैसे पहुंचा कोरोना वायरस      |      कई क्लासिक फ़िल्मों के गीतकार योगेश का निधन      |      छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन      |      पीएम मोदी से मिले शाह      |      बिलिंग, राजस्व संग्रहण एवं विद्युत आपूर्ति प्रभावी ढंग से करें      |      भोपाल में खेल गतिविधियां प्रारंभ करने के लिए खेल विभाग ने तैयार की गाइड लाइन       |      आईसीसी ने टी-20 वर्ल्ड कप के भविष्य को लेकर होने वाला फैसला 10 जून के लिए टाल दिया      |      महिला ने सोनू सूद से लगाई पार्लर पहुंचाने की गुहार      |      "रोजगार सेतु" योजना के अंतर्गत सर्वेक्षण प्रारंभ      |      जनकल्याण के लिए आयुर्वेदिक ज्ञान का वैज्ञानिक विश्लेषण आवश्यक: राज्यपाल श्री टंडन      |      भारत में टिड्डियों के दल ने हमला किया      |      बुमराह एक प्रतिभाशाली खिलाड़ी      |      अमिताभ बच्चन बांट रहे हैं फूड पैकेट      |      ग्रामीणों और केन्द्रीय टिड्डी नियंत्रण दल के अधिकारियों से सतत् सम्पर्क करें      |      नई दृष्टि और नई दिशा के साथ हो गौ-संरक्षण: श्री टंडन      |       वेस्टइंडीज की टेस्ट टीम ने ट्रेनिंग की शुरूआत कर दी       |      

आनंद की बात

दुनिया में अब तक 211597 लोगों की जान ले चुका है। अभी तक जितने शोध सामने आए हैं उनमें ये बात सामने आ चुकी है कि कुछ मरीजों में इस वायरस के शुरुआती लक्षण दिखाई नह
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
चीनी कंपनी iQOO भारतीय बाजार में 5G स्मार्टफोन के साथ उतर रही है। देश में 5G फोन के साथ कदम रखने वाली ये पहली कंपनी भी है। ...
आगे पढ़ें
कोरोनो वायरस महामारी ने दुनिया के लगभग सभी हिस्सों में चिंता और दहशत पैदा कर दी है, लेकिन बुज़ुर्गों, मधुमेह और हृदय की समस्याओं, धूम्रपान करने वाले लोगों और गर्भवती महिलाओं को COVID-19 के लिए उच्च जोखिम वाली श्रेणी में रखा गया है।...
आगे पढ़ें
प्रदूषण की रोकथाम और भूमि की उर्वरा शक्ति बनाये रखने नरवाई नहीं जलाएं किसानBookmark and Share

 मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने किसानों से अपील की है कि प्रदूषण की रोकथाम, प्रदेश की आबोहवा को सुरक्षित रखने और भूमि की उर्वरा शक्ति को बनाए रखने के लिये पराली (नरवाई) नहीं जलाएं। उन्होंने कहा कि नरवाई जलाने पर भूमि की उर्वरा शक्ति को बनाये रखने में सहायक कृषि-सहयोगी सूक्ष्म जीवाणु तथा जीव भी नष्ट हो जाते हैं। श्री कमल नाथ ने किसानों से कहा है कि आप हरियाली के जनक हैं, आबोहवा के पहरेदार हैं। इसलिये नरवाई को जलाने की बजाए उसका अन्य उपयोग करें, जिससे उन्नत खेती, पशु-चारे की उपलब्धता और सभी को स्वच्छ प्राण वायु मिल सके। साथ ही, अन्य प्रदेशों में हवा में फैल रहे जहर से हम अपने प्रदेश को समय रहते बचाये रख सकें।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने किसानों से कहा है कि अति-वृष्टि से उनकी फसलों को हुए नुकसान से राज्य सरकार चिंतित है तथा इसकी भरपाई के लिये निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि हमने केन्द्र सरकार से इसके लिये मदद भी माँगी है। श्री कमल नाथ ने कहा कि किसानों के नुकसान की भरपाई के लिये राज्य सरकार वचनबद्ध है। उन्होंने कहा कि नरवाई को जलाने की बजाय उसे भूसे और पशुचारे में तब्दील करना ज्यादा उपयोगी है। विशेषज्ञों का भी सुझाव है कि नरवाई का उपयोग ऊर्जा उत्पादन तथा कार्ड-बोर्ड और कागज बनाने में किया जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि विशेषज्ञों के अनुसार नरवाई को जलाए बिना उसी के साथ गेहूँ की बुआई की जाये। ऐसा करने पर सिंचाई के साथ जब नरवाई सड़ेगी, तो अपने आप खाद में बदल जाएगी और उसका पोषक तत्व मिट्टी में मिलकर गेहूँ की फसल को अतिरिक्त लाभ देगा। उन्होंने कहा कि अब तो ऐसे यंत्र भी उपलब्ध हैं, जो आसानी से ट्रेक्टर में लगाकर खड़े डंठलों को काटकर इकट्ठा कर सकते हैं और उन्हीं में बुआई भी की जा सकती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोनों ही विकल्प किसानों के लिये फायदेमंद हैं।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने किसानों को बताया कि अभी उनकी समस्याओं के समाधान के साथ-साथ सबसे ज्यादा चिंता पर्यावरण संरक्षण की है। मुख्यमंत्री ने बताया कि सर्वोच्च न्यायालय ने भी कहा है कि साफ हवा में सांस लेने का हक सबको है। श्री कमल नाथ ने बताया कि नरवाई जलाने से वातावरण को चौतरफा नुकसान होता है और जमीन के पोषक तत्वों के नुकसान के साथ प्रदूषण भी फैलता है। ग्रीन हाउस गैसें पैदा होती हैं, जो वातावरण को बहुत अधिक नुकसान पहुँचाती हैं। उन्होंने कहा कि नरवाई जलाने से अधजला कार्बन, कार्बन मोनो ऑक्साइड, कार्बन डाई ऑक्साइड, सल्फर डाई ऑक्साइड तथा राख और अन्य विषैले पदार्थ तथा जहरीली गैसें पैदा होती हैं, जो पूरे वातावरण में गैसीय प्रदूषण के साथ धूल के कणों की मात्रा में भी वृद्धि करती हैं। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने किसानों से आग्रह किया है कि समय की जरूरत का विशेष ध्यान रखें और प्रदेश की आबोहवा को प्रदूषण से बचाने में अपना महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान करें।


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description