Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


प्रदेश में कोरोना की रिकवरी रेट 75 प्रतिशत हुई      |      बीसीसीआइ की एक टीम यूएई में इंडियन प्रीमियर लीग 2020 की तैयारियों का जायजा लेने के लिए जाएगी      |       मशहूर शायर राहत इंदौरी नहीं रहे      |      राज्यपाल श्रीमती पटेल से मिले स्कूली बच्चे      |      प्रदेश में कोरोना की रिकवरी रेट 75 प्रतिशत हुई      |      प्रदेश में बनेगा एकीकृत जॉब पोर्टल: मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      एक महीने के अंदर चुना जाएगा नया आईसीसी चेयरमैन      |      वजन बढ़ने पर लोग करने लगे थे भद्दे कमेंट्स-दीपिका सिंह      |      आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सरशिप के लिए बीसीसीआई ने डाला टेंडर      |      पुस्तक अध्ययन को आदत बनाएं      |      नई शिक्षा नीति का मध्यप्रदेश में होगा आदर्श क्रियान्वयन- मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      "गंदगी भारत छोड़ो-मध्यप्रदेश" अभियान 16 से 30 अगस्त तक      |      आइसीसी चेमरमैन के चुनाव के लिए नॉमिनेशन प्रक्रिया पर रहेगा जोर      |      मौनी रॉय के रिंग फिंगर पर दिखी हीरे की अंगूठी      |      मंत्री डॉ. मिश्रा ने हितग्राहियों को ट्राइसिकल और आर्थिक सहायता के चेक प्रदान किए      |      कोरोना पर जीत से कम कुछ नहीं चाहिए - मुख्यमंत्री श्री चौहान      |       सुशांत के पिता और बहन से मिले हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर      |      इंग्लैंड की टीम जीत के करीब      |      "होम आइसोलेशन" वाले मरीजों के मॉनीटरिंग की अच्छी व्यवस्था करें      |      प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश में सकारात्मक बदलाव हो रहे हैं      |      आम आदमी की जिन्दगी सरल बनाना ही सुशासन : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      हॉकी नेशनल कैंप के लिए SAI बेंगलुरु पहुंचने पर 5 हॉकी प्लेयर्स का टेस्ट पॉजिटिव      |      कुर्ता पहने क्रिकेट बैट पकड़े नजर आई कटरीना कैफ      |      विशेष विशेषज्ञों के सुझावों के आधार पर बनेगा आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमैप      |      गणेश उत्सव, जन्माष्टमी, मोहर्रम आदि त्यौहार सार्वजनिक रूप से नहीं मनाए जा सकेंगे      |      पाकिस्तानी गेंदबाजों ने मचाया धमाल      |      राष्ट्रीय महिला आयोग ने महेश भट्ट, उर्वशी रौतैला, ईशा गुप्ता, मौनी रॉय और प्रिंस नरूला के खिलाफ एक नोटिस जारी किया       |      आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिये रोडमेप तैयार करने वेबीनार्स का आयोजन      |      किसानों को उर्वरक की कमी नहीं आने दी जाए : मंत्री श्री पटेल      |      मध्यप्रदेश में फिर से लागू होगी भामाशाह योजना : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      

आनंद की बात

दुनिया में अब तक 211597 लोगों की जान ले चुका है। अभी तक जितने शोध सामने आए हैं उनमें ये बात सामने आ चुकी है कि कुछ मरीजों में इस वायरस के शुरुआती लक्षण दिखाई नह
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य-दिव्य मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन तो बुधवार को होना है लेकिन इससे पहले मंगलवार को ही नए मॉडल की तस्वीर सामने आ गई है।... ...
आगे पढ़ें
कोरोनो वायरस महामारी ने दुनिया के लगभग सभी हिस्सों में चिंता और दहशत पैदा कर दी है, लेकिन बुज़ुर्गों, मधुमेह और हृदय की समस्याओं, धूम्रपान करने वाले लोगों और गर्भवती महिलाओं को COVID-19 के लिए उच्च जोखिम वाली श्रेणी में रखा गया है।...
आगे पढ़ें
मुस्लिम पक्ष की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में रिव्यू पिटीशन दाखिलBookmark and Share

 अयोध्या-बाबरी विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ मुस्लिम पक्ष ने शुक्रवार को रिव्यू पिटीशन दाखिल कर दी। रिव्यू पिटीशन दायर करने की मियाद खत्म होने के आखिरी दिन यह पिटीशन सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील राजीव धवन के नेतृत्व में दाखिल की गई। 70 पेज की पिटीशन में कहा गया है कि मुस्लिम पक्ष देश में शांति और सद्भाव का हमेशा पक्षधर रहा है, लेकिन अयोध्या मामले में वह आपसे न्याय चाहता है।

पिटीशन के अनुसार सुप्रीम कोर्ट के फैसले के एक पैरा में जो सही माना जा रहा है, वही दूसरे किसी पैरा में गलत माना जा रहा है। कहीं कोर्ट मुस्लिमों का कब्जा मान रहा है, तो कहीं उसे नहीं मान रहा है। मुस्लिम पक्ष की प्रॉपर्टी को हिंसा और अन्यायपूर्ण तरीके से छीन लिया गया था, इसमें हम न्याय चाहते हैं।

राजीव धवन के साथ ये वकील रहेंगे 
जफरयाब जिलानी, शकील अहमद सैयद, मो परवेज डबास, उज्मी जमील हुसैन, दानिश अहमद सैयद।

पिटीशन के मुख्य बिंदू

  • सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में माना कि 1992 में मस्जिद को ढहाया गया था। इससे स्पष्ट है कि वह मुस्लिमों की नमाज पढ़ने की जगह थी।
  • निर्माेही अखाड़े का 1950 के पहले मूर्ति पूजा का क्लेम कोर्ट ने खारिज कर दिया। फिर हिंदू विवादित जमीन पर क्या करने जाते थे, क्योंकि हिंदुओं में तो मूर्तिपूजा होती है। हिंदू कानून में किसी को आब्जेक्ट मानकर पूजा होती है।
  • पहले जमीन की बात थी, फिर देवता की बात कहां से आ गई? हिंदू धर्म में चोरी से दूसरे की जगह पर रखी गई मूर्ति को कैसे देवता माना जा सकता है?
  • ऐसे मामलों में अनुच्छेद 142 का उपयोग जायज है, जहां सरकार कोर्ट के आदेश का पालन न करवा सके। अयोध्या मामले में अनुच्छेद 142 का उपयोग गलत है। ये केस तो पूरा फैक्ट पर था। सुप्रीम कोर्ट खुद ही मान रहा है कि 1949 में मूर्ति रखी गई। 1858 से यहां मस्जिद थी और नमाज पढ़ी जाती थी।
  • बाबर के विध्वंस कर मस्जिद बनाने की घटना का कोई सबूत नहीं है। कोर्ट ने माना ही नहीं कि बाबर ने विध्वंस किया था।
  • कोर्ट मस्जिद तो मान रहा है, लेकिन ये नहीं मान रहा कि उसका उपयोगकर्ता कौन था? जब मस्जिद है तो उसका उपयोगकर्ता तो मुसलमान ही होगा न। मस्जिद का उपयोगकर्ता दूसरा कैसे हो गया।
  • क्या ऐसी मूर्ति जिसकी प्राण प्रतिष्ठा न हुई हो और जबरदस्ती रखी गई हो, वह कैसे देवता हो सकती है? ये कोर्ट में अभी भी तय नहीं हुआ है। कोर्ट को इसका कारण बताना चाहिए।
  • कोर्ट ने माना है कि मस्जिद थी। अगर मस्जिद थी तो कभी तो नमाज पढ़ी ही गई होगी। नमाज पढ़ने के सबूत नहीं हैं तो मस्जिद में और क्या होता होगा। जब मुगल शासन रहा है तो मुस्लिमों को किसने नवाज पढ़ने से रोका होगा? यानी मस्जिद की जमीन पर हमारा हक होना चाहिए।

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में 3 और रिव्यू पिटीशन दाखिल

अयोध्या मामले पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में कुल 4 अलग-अलग याचिकाएं दाखिल की गईं। मौलाना मुफ्ती हस्बुल्ला, मोहम्मद उमर, मौलाना महफूजुर रहमान और मिशबहुद्दीन ने चार अलग-अलग याचिकाएं दाखिल कीं। ये सभी लोग पहले चले मुकदमे में पक्षकार थे।

2 दिसंबर को कोर्ट में पहली रिव्यू पिटीशन दाखिल की गई

2 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट में मूल याचिकाकर्ता एम सिद्दीक के कानूनी उत्तराधिकारी मौलाना सैयद अशद रशीदी ने पहली समीक्षा याचिका दाखिल की थी। इस याचिका में कहा गया था कि इस मामले में 'पूरा न्याय' बाबरी मस्जिद को दोबारा बनाने का आदेश देने से ही हो सकता है। सभी याचिकाओं में अदालत के 9 नवंबर को दिए गए फैसले की समीक्षा की अपील की गई है। अदालत ने अपने फैसले में विवादित जमीन पर राम मंदिर निर्माण के पक्ष में फैसला दिया था।


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description