Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


इंग्लैंड के क्रिकेटरों मैच के दौरान नहीं पहन सकते 'स्मार्ट वॉच'      |      सपना चौधरी का दिलकश अंदाज, यूट्यूब पर कर रहा ट्रेंड      |      कोविड-19 के विरुद्ध अभियान में तैनात अधिकारियों-कर्मचारियों को संविदा नियुक्ति      |      तबलीग जमात में शामिल नागरिकों को क्वॉरेन्टाइन में रखें:- मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      कोरोना की महामारी से नहीं सुधरा चीन      |      नाना पाटेकर ने पीएम और सीएम फंड के लिए नाम फाउंडेशन के माध्यम से 50-50 लाख के दो चेक भेजे      |      भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने पूरा किया अपना वादा, कोरोना से जंग के लिए दान में दिए 51 करोड़ रुपये      |      राज्यपाल ने चखा गरीबों का भोजन, स्वच्छता और शुद्धता भी देखी      |      घर से कार्य कर सामाजिक दायित्व के निर्वहन का मॉडल बनाएं कुलपति      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान पहुँचे भेल और पुराने भोपाल, लोगों से कहा "चिंतित न हों      |       मुख्यमंत्री ने निर्माण श्रमिकों के खातों में ट्रांसफर की अठासी करोड़ से अधिक सहायता राशि      |       कोरोना वायरस दुनिया भर में अर्थव्‍यवस्‍था को भी बड़ा नुकसान पहुंचा रहा है      |       40 दिन की हुई बेटी तो राज कुंद्रा ने घर पर बनाया केक      |      रेलवे के अस्पतालों में होगा सभी सरकारी कर्मियों का इलाज      |      कोरोना संकट से निपटने के लिए पैरामिलिट्री फोर्स आई आगे      |      शाह ने कहा- मोदी सरकार प्रवासी मजदूरों की सहायता के लिए वचनबद्ध      |      ब्रावो ने गाना गाकर लोगों से की अपील, कहा- 'कोरोना से हम हार नहीं मानेंगे'      |      अक्षय कुमार ने पीएम केयर्स फंड में 25 करोड़ रुपये की मदद       |      मुख्यमंत्री श्री चौहान लॉकडाउन में कालोनियों में पहुँचे, लिया नागरिक सुविधाओं का जायजा      |      रविशंकर प्रसाद का ऐलान, पीएम रिलीफ फंड में देंगे एक महीने की सैलरी      |      कोहली ने लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल करने की अपील की      |      राज्यपाल श्री टंडन से मिले मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      राज्यपाल ने राष्ट्रपति को वीडियो कॉन्फ्रेंस से दी कोरोना की स्थिति की जानकारी      |       लॉकडाउन नहीं मानने वाले लोगों पर भड़के हरभजन       |      सनी लियोनी ने कोरोना वायरस के खिलाफ छेड़ी 'जंग      |      कोरोना से निपटने केन्द्र सरकार द्वारा बड़े राहत पैकेज का ऐलान      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान को सहायता कोष के लिये वर्धमान टेक्सटाइल्स कम्पनी ने भेंट किये एक करोड़      |      कोरोना के मरीजों के उपचार के लिये प्रत्येक संभाग में एक अस्पताल चिन्हांकित      |      रोजर फेडरर ने दस लाख डॉलर दान दिए      |      अमिताभ बच्चन ने लॉकडाउन पर कुछ इस अंदाज में बढ़ाया लोगों का हौसला      |      

आनंद की बात

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं और 12वीं के लिए टेली काउंसलिंग 1 फरवरी से शुरू होगी।
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
चीनी कंपनी iQOO भारतीय बाजार में 5G स्मार्टफोन के साथ उतर रही है। देश में 5G फोन के साथ कदम रखने वाली ये पहली कंपनी भी है। ...
आगे पढ़ें
हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, चैत्र नवरात्रि का प्रारंभ चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से होता है, जो इस बार 25 मार्च दिन बुधवार को है। ...
आगे पढ़ें
चीन में दवा फैक्ट्रियां बंद होने की वजह से भारत में पैरासिटामॉल की कीमतों में 40% बढ़ोतरीBookmark and Share

 कोरोनावायरस का संक्रमण बढ़ने का असर चीन के साथ अब भारत पर भी दिखने लगा है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन से सप्लाई बाधित होने की वजह से भारत में पैरासिटामॉल दवाओं की कीमत 40% बढ़ गई है। जायडस कैडिला के चेयरमैन पंकज आर पटेल का कहना है कि बैक्टीरिया इंफेक्शन के इलाज में इस्तेमाल होने वाली एंटीबायोटिक एजिथ्रोमाइसिन की कीमतें 70% बढ़ गई हैं। पटेल ने बताया कि अगले महीने के पहले सप्ताह तक चीन से सप्लाई शुरू नहीं हुई तो पूरी फार्मा इंडस्ट्री में इंग्रीडिएंट्स की कमी हो सकती है।एक्टिव फार्मास्यूटिकल्स इंग्रीडिएंट्स (एपीआई) के आयात के लिए भारत की चीन पर निर्भरता बहुत ज्यादा है। किसी भी दवा को बनाने के लिए एपीआई सबसे अहम कंपोनेंट हैं। डायरेक्ट्रेट जनरल ऑफ कमर्शियल इंटेलीजेंस एंड स्टैस्टिक्स के मुताबिक 2016-17 में भारत ने इस एपीआई सेगमेंट में 19,653.25 करोड़ रुपए का आयात किया, इसमें चीन की हिस्सेदारी 66.69% रही। 2017-18 के दौरान भारत का आयात 21,481 करोड़ रुपए रहा और चीन की हिस्सेदारी बढ़कर 68.36% हो गई। 2018-19 में एपीआई और बल्क ड्रग आयात 25,552 करोड़ रुपए हो गया।रसायन एवं उवर्रक मंत्रालय के तहत आने वाले डिपार्टमेंट ऑफ फार्मास्यूटिकल्स के मुताबिक लागत और आर्थिक वजहों से भारत, चीन से एपीआई और बल्क ड्रग्स का आयात करता है। लागत के हिसाब से चीन से आने वाले एपीआई और बल्क ड्रग्स भारतीय फार्मा मैन्युफैक्चरर्स के लिए फायदेमंद हैं। फार्मा इंडस्ट्री से जुड़े लोगों का कहना है कि चीन में एपीआई प्रोडक्शन की लागत भारत से 20-30% कम है। भारत में एपीआई प्रोडक्शन यूनिट अपनी क्षमता के मुकाबले 30% तक काम कर रही हैं जबकि चीन में एपीआई प्रोडक्शन यूनिट अपनी क्षमता के मुकाबले 70% तक काम कर रही हैं। भारत में एपीआई मैन्युफैक्चरिंग पर प्रॉफिट मार्जिन बहुत कम होने की वजह से भारतीय फार्मा इंडस्ट्री चीन से एपीआई का आयात करती है और यहां दवाएं बनाकर दूसरे देशों को निर्यात करती है। 

 

कोरोनावायरस के संक्रमण की वजह से चीन में फैक्ट्रियां बंद हैं। इस वजह से दुनियाभर में सप्लाई प्रभावित हुई है। जायडस कैडिला के चेयरमैन पंकज आर पटेल का कहना है कि आने वाले समय में एक्टिव फार्मास्यूटिकल्स इंग्रीडिएंट्स की कीमतें तेजी से बढ़ सकती हैं। दुनिया में जेनेरिक दवाओं की आपूर्ति के मामले में भारत सबसे बड़ा बाजार है। अमेरिकी बाजार को ड्रग्स आपूर्ति करने वाली 12% मैन्युफैक्चरिंग साइट्स भारत में हैं। भारत फार्मा इंग्रीडिएंट्स के कई प्रोडक्ट्स का 80% तक चीन से आयात करता है।

पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description