Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


हैदराबाद की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारत 20 ओवर में 4 विकेट खोकर 162 रन बनाए      |      शेखर कपूर बने फ़िल्म इंस्टीट्यूट के अध्यक्ष      |      चीन का एक और कैट क्यू वायरस हमला करने को तैयार      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से नई दिल्ली में मुलाकात की      |      नर्सिंग होम और निजी हॉस्पिटल कोविड 19 के इलाज की निर्धारित दरें रिसेप्शन काउंटर पर प्रदर्शित करें      |       बैंगलोर ने मुंबई को दिया 202 रनों का लक्ष्य      |      सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में AIIMS की टीम ने प्रारंभिक रिपोर्ट CBI को सौंप दी       |      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा ग्राम कोद में सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा का अनावरण      |      मुख्यमंत्रीश्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को देवास जिले में हाटपीपल्‍या विधानसभा क्षेत्र के ग्राम बरोठा में 1041 करोड़ के 168 विकास कार्यों का लोकार्पण एवं भूमिपूजन किया।       |      कृषि उपज मंडियां बंद नहीं होगी और प्‍याज के भावांतर की राशि भी किसानों को दी जायेगी - मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 1587 करोड़ की नर्मदा उद्वहन सिंचाई परियोजना का किया भूमि पूजन      |      पीएम आवास योजना से गरीबों के पक्के घर का सपना हुआ साकार- स्वास्थ्य मंत्री      |      मंत्री श्री सखलेचा द्वारा किसानों को किसान सम्मान निधि के लाभ पत्र वितरित      |      शुभमन गिल ने 42 गेंदों में अर्धशतक ठोका      |      सुनील गावस्कर का अनुष्का शर्मा को जवाब- गलत टिप्पणी या महिला विरोधी बात नहीं की      |      3000 एपिसोड पूरे होने की खुशी में पूरी टीम ने मनाई पार्टी      |      समाज के विघटनकारी तत्‍वों को चिन्हित कर कठोर कार्यवाही करें- गृह मंत्री डॉ. मिश्रा      |      राज्य सरकार हर कदम पर विद्यार्थियों के साथ : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      जैरा मध्यम सिंचाई परियोजना का कार्य शीघ्र शुरू होगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |       मुंबई पहुंचीं दीपिका पादुकोण      |      केएल राहुल ने धमाकेदार शतक से सहवाग को छोड़ा पीछे      |      बैरसिया को आद्योगिक क्षेत्र बनाने पर विचार - मंत्री श्री सखलेचा      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने डबरा क्षेत्र को दी कई बड़ी सौगातें      |      3 वर्ष में कोई भी घर कच्चा नहीं रहेगा      |      मुंबई इंडियंस ने कोलकाता को दिया 196 रन का टारगेट      |      कोरोना संक्रमित हुईं श्वेता तिवारी      |      स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने गौशालाओं का किया भूमिपूजन      |      शासकीय विभागों में रिक्त पद भरने के लिए तत्काल प्रक्रिया प्रारंभ करें- मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      किसानों के हित में फसल बीमा योजना नए स्वरूप में लाई जाएगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      राजस्थान रॉयल्स ने बनाया IPL 2020 का सबसे बड़ा स्कोर      |      

आनंद की बात

दुनिया में अब तक 211597 लोगों की जान ले चुका है। अभी तक जितने शोध सामने आए हैं उनमें ये बात सामने आ चुकी है कि कुछ मरीजों में इस वायरस के शुरुआती लक्षण दिखाई नह
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य-दिव्य मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन तो बुधवार को होना है लेकिन इससे पहले मंगलवार को ही नए मॉडल की तस्वीर सामने आ गई है।... ...
आगे पढ़ें
भारतीय धर्म और संस्कृति में भगवान गणेशजी सर्वप्रथम पूजनीय और प्रार्थनीय हैं। ...
आगे पढ़ें
"म.प्र. मेट्रो रेल कंपनी" अब होगी "म.प्र. मेट्रो रेल कॉरपोरेशन"Bookmark and Share

 मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रालय में संपन्न मध्यप्रदेश मेट्रो रेल कंपनी लिमिटेड के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की बैठक में 'मध्यप्रदेश मेट्रो रेल कंपनी लिमिटेड' का नाम अब 'मध्यप्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड' में परिवर्तित किए जाने के प्रस्ताव को विधिवत स्वीकृति प्रदान की गई। कंपनी को बोर्ड बनाए जाने के संबंध में भारत सरकार, मध्यप्रदेश सरकार एवं मध्यप्रदेश मेट्रो रेल कंपनी लिमिटेड के बीच 19 अगस्त 2019 को त्रिपक्षीय एम.ओ.यू. साइन किया गया था।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में निर्देश दिए कि इस संबंध में आगामी कार्यवाहियां तत्परता के साथ पूर्ण की जाएं, जिससे प्रदेश के इंदौर-भोपाल शहरों में मेट्रो रेल के कार्य को गति प्रदान कर लक्षित समय 3 से 4 वर्ष में पूर्ण किया जा सके। बैठक में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव वित्त श्री मनोज गोविल, कंपनी के एम.डी. श्री नीतेश व्यास उपस्थित थे।

नए बोर्ड में 5 डायरेक्टर्स होंगे

एम.डी. श्री नीतेश व्यास ने बताया कि त्रिपक्षीय समझौते के अनुसार भारत सरकार एवं मध्यप्रदेश सरकार की प्रोजेक्ट में बराबर भागीदारी के लिए बनाए जा रहे नए बोर्ड में भारत सरकार के 5 संचालक तथा मध्यप्रदेश सरकार के 5 संचालक (प्रबंध संचालक सहित) शामिल होंगे। मध्यप्रदेश सरकार के नगरीय विकास के आयुक्त इसके प्रबंध संचालक होंगे तथा प्रमुख सचिव वित्त, राजस्व, लोक निर्माण विभाग तथा नगरीय विकास विभाग इसके संचालक होंगे।

मेट्रोपोलिटन क्षेत्र घोषित करने की कार्रवाई

मेट्रो रेल के निर्माण के लिए भारत सरकार के मेट्रो रेल अधिनियमों के अंतर्गत मेट्रो निर्माण क्षेत्र को मेट्रोपोलिटन क्षेत्र घोषित किया जाना आवश्यक है। इस संबंध में बैठक में इंदौर एवं भोपाल मेट्रो क्षेत्रों को 'मेट्रोपोलिटन क्षेत्र' घोषित किए जाने संबंधी कार्रवाई किए जाने का निर्णय लिया गया।

भोपाल, इंदौर मेट्रो प्रोजेक्ट की अद्यतन स्थिति

  • दिनांक 12 जनवरी 2017 को मध्यप्रदेश सरकार की स्वीकृति उपरांत भोपाल-इंदौर मेट्रो रेल प्रोजेक्ट का कार्य मध्यप्रदेश मेट्रो रेल कंपनी लिमिटेड द्वारा प्रारंभ कर दिया गया।

  • भोपाल-इंदौर मेट्रो प्रोजेक्ट को 11 सितम्बर 2018 को पब्लिक इन्वेस्टमेंट बोर्ड (पीआईबी) तथा 3 अक्टूबर 2018 को केन्द्रीय केबिनेट की स्वीकृति मिली।

  • दिनांक 19 अगस्त 2019 को भारत सरकार, मध्यप्रदेश सरकार तथा मध्यप्रदेश मेट्रो रेल कंपनी लिमिटेड के बीच त्रिपक्षीय समझौता हस्ताक्षरित हुआ।

  • दिनांक 14 सितम्बर 2019 को इंदौर मेट्रो रेल प्रोजेक्ट की आधारशिला रखी गई।

  • दिनांक 26 सितम्बर 2019 को भोपाल मेट्रो रेल प्रोजेक्ट की आधारशिला रखी गई।

  • दिनांक 14 नवम्बर 2019 को 'यूरोपियन इन्वेस्टमेंट बैंक' द्वारा भोपाल मेट्रो के लिए ऋण (कुल प्रस्ताव-3493.34 करोड़ रूपए) स्वीकृत किया तथा 10 दिसम्बर 2019 को इस संबंध में वित्तीय समझौता हुआ।

  • दिनांक 2 दिसम्बर 2019 को 'न्यू डेवलपमेंट बैंक' ने इंदौर मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए ऋण (कुल प्रस्ताव- 3 हजार 200 करोड़ रूपए) स्वीकृत किया गया।

  • 22 दिसम्बर 2017 को मेसर्स डीबी इंजीनियरिंग एण्ड कंसलटिंग जीएमबीएच (जर्मनी) तथा उसकी सहयोगी कम्पनियों मेसर्स लूईस बर्गर एसएएस (यूएसए) तथा मेसर्स जियो डाटा इंजीनियरिंग एसपीए (इटली) को प्रोजेक्ट का जनरल कंसलटेंट बनाया गया।

  • दिनांक 1 नवम्बर 2018 को भोपाल एवं इंदौर मेट्रो के पहले सिविल कार्य के लिए कॉन्ट्रेक्ट एग्रीमेंट किया गया। इसके अनुसार भोपाल मेट्रो के अंतर्गत 247 करोड़ 6 लाख रूपए की लागत से 6.22 किलोमीटर लम्बी वायाडक्ट (रेलवे पुल) तथा इंदौर मेट्रो कार्य के अंतर्गत 228 करोड़ 96 रूपए की लागत से 5.29 किलोमीटर लम्बी वायाडक्ट (रेलवे पुल) बनाए जाएंगे।



पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description