Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


सानिया-गार्सिया की जोड़ी दुबई ओपन के प्री-क्वार्टर फाइनल       |      50 करोड़ रुपए कमाने वाली साल की तीसरी फिल्म बनी ‘मलंग’      |      श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की पहली बैठक आज      |      फोर्स ने पेश की नई गुरखा और गुरखा कस्टमाइज      |       राष्ट्रपति ट्रम्प बोले- भारत का बर्ताव हमारे साथ अच्छा नहीं      |      चीन में दवा फैक्ट्रियां बंद होने की वजह से भारत में पैरासिटामॉल की कीमतों में 40% बढ़ोतरी      |       वनडे और टी-20 का चैम्पियंस कप शुरू होगा      |      नेहा कक्कड़ से ब्रेकअप के 14 महीने बाद हिमांश ने तोड़ी चुप्पी      |      जीडीपी / भारत दुनिया का 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बना, दो पायदान चढ़कर ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ा      |      भारत के सुनील कुमार ने 27 साल बाद ग्रीको रोमन में गोल्ड जीता      |      23 दिन कोमा में रहीं, हाेश में आईं तो पति चेहरा देखकर डर गए      |       शमी 3 और बुमराह 2 विकेट लेकर फॉर्म में लौटे      |      आज आधी रात को खत्म हो जाएगा 'बिग बॉस 13' का सफर      |      ट्रम्प ने फेसबुक पर खुद को नंबर 1 और मोदी को नंबर 2 बताया, लेकिन हकीकत में उनके प्रधानमंत्री से आधे फॉलोअर्स      |      राज्यपाल द्वारा पद्मश्री बशीर बद्र को जन्म-दिन की शुभकामनाएँ      |       एयरपोर्ट से उड़ान भरने जा रहे एयर इंडिया के विमान के सामने जीप आई      |      उदित नारायण बोले, 'इंडियन आइडल 11 की टीआरपी बढ़ाने के लिए हो रहा नाटक      |       केजरीवाल को जीत दिलाने वाली रणनीति का पहली बार खुलासा      |      मेरा स्वप्न है कि हर व्यक्ति को घर पर मिले शुद्ध जल : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ पानी की उपलब्धता समाज और सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती मुख्यमंत्री द्वारा राइट टू वाटर विषयक राष्ट्रीय जल सम्मेलन का शुभारंभ      |      युवाओं को विश्व-स्तरीय निजी सुरक्षा ट्रेनिंग देने स्थापित होंगे सेंटर ऑफ एक्सीलेंस संस्थान      |      केंद्र की याचिका पर निर्भया के दोषियों को नोटिस      |      16 साल के नसीम शाह ने बांग्लादेश के खिलाफ हैट्रिक ली      |      शाहरुख के 6 साल के अबराम ने ताइक्वांडो में गोल्ड जीता, किंग खान बोले      |      हस्तशिल्प एवं हुनर का संरक्षण-संवर्धन समय की जरूरत : राज्यपाल श्री लालजी टण्डन      |      पाकिस्तानी घुड़सवार ने घोड़े का नाम आजाद कश्मीर रखा, कहा- स्पॉन्सर ढूंढने में इससे मदद मिलेगी      |       35 साल के छेत्री के अलावा हमारे पास दूसरा बड़ा स्ट्राइकर नहीं      |       शाहरुख खान ने खरीदे कोरियन फिल्म 'अ हार्ड डे' के राइट्स      |      प्रदेश में 41 जिलों में रेत निविदा प्रक्रिया से 1330 करोड़ रूपये के ऑफर मूल्य प्राप्त      |      मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने दी संत रविदास जयंती की बधाई      |      राजपक्षे से मुलाकात के बाद मोदी बोले- श्रीलंका तमिलों की उम्मीदों को पूरा करेगा, ऐसी हमें उम्मीद है      |      

आनंद की बात

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं और 12वीं के लिए टेली काउंसलिंग 1 फरवरी से शुरू होगी।
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
Realme X50 5G चीन में लॉन्च करने के बाद अब कंपनी भारत में Realme 5i लॉन्च कर दिया है। एक स्पेशल इवेंट में धमाका करते हुए Realme ने इस स्मार्टफोन को महज 8,999 रुपए के प्राइज टैग कै साथ ...
आगे पढ़ें
सरकारी गेहूं की बिक्री में इसके भाव घटने की आशंका से कमी रही। लेवाल सतर्क होने से इस बार कुल 25 लाख क्विंटल के कोटे में से 4 लाख क्विंटल माल ही बिक पाया है।...
आगे पढ़ें
लोक गीतBookmark and Share

 

 

 

 


लोकगीतों में माँ का दुलार,पिता का प्यार, सब कुछ तो था।
विड़म्बना वश आज लोकगीत बहुत कम बनने और बजने लगे हैं, लोकगीत हमारी संस्कृति के रंगों और त्योहार की उमंग लिए, हमेशा से हमारे जीवन में मौजूद रहे,हमारी खु़शियों, हमारे ग़मों को हर बार शब्द देते रहे।

नन्ही परी का घर में आना हो, या फिर, बाबुल के घर से बिटिया की डोली का उठना, लोकगीत हर भावना और रिश्तों के साथ आपको मोजूद मिलेंगे,ऐसे वक़्त में हमारे भावों और जज़्बात को, लोक गीत ही शब्द दे पाते हैं और इस तरह लोक गीत रिश्तों के गीत बन जाते हैं,











 

अगर बात करें लोकगीतों में प्रयोग होने वाले वाद्यों की, तो हर राज्य के अपने-अपने अलग वाद्य रहे, जिन्हें लोकगीतों में अकसर प्रयोग किया जाता रहा,और ये वाद्य इन गीतों को एक अलग ही रंग में रंगते चले गए । कहीं बाँसुरी,तो कहीं हारमोनियम, चिमटा, ढ़ोलक ,और उस ढ़ोलक पर ज़ोर ज़ोर से थपकाने के तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाला चम्मच। ढ़ोलक की थाप ख़ुशी का एहसास करा जाती,और पूरे आस पड़ोस को इस बात का अंदाज़ा हो जाता, कि किसी के घर में ख़ुशियाँ…. दस्तक दे रही हैं……



यहाँ तक कि घर के बर्तनों को भी कई बार वाद्यों के साथ इस्तेमाल कर लिया जाता, जैसे घर में मिलने वाली पीतल की गागर.........






लोकगीत ज़बान पर इस क़दर चढ़ जाते हैं कि, भले ही उनके शब्द हमें याद ना रहे, पर उनकी धुन हमारे ज़हन में रच बस जाती है । और जब कभी घर में कोई पावन पर्व होता,जिसमें घर की महिलाएँ उन गीतों को गातीं, तो बच्चे, बूढ़े ,जवान सभी, उन गीतों के साथ जुड़ से जाते ।इसी तरह लोकगीतों की ये परम्परा एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक जा पाती ।
पर आज, जैसे मानो लोक गीतों की तरह इस परम्परा के भी पाँव थम से गए हों ।
 
जन्म से लेकर मृत्यु तक के तमाम संस्कार में से एक, विवाह संस्कार ,एक ऐसा मौक़ा जहाँ रस्म है रिवाज है ,जिसमें गाना है नाच,और धमाल है ।इन सब के साथ है लोकगीत,
अगर बात करें उत्तर प्रदेश के लोकगीतों ख़ास तौर से विवाह गीतों की तो,मेहंदी, सेहरा,कंगना, बन्ना,बन्नी,बिदाई,
ये तमाम शब्द इन लोकगीतों में समाये हैं। ब्रज अवधी,खड़ी बोली का मिश्रण आप इन लोक गीतों में साफ़ तौर पर देख पाते हैं।
इन गीतों में इस्तेमाल होने वाले साज़ों की बात करें तो शुरुआत होती है शहनाई से, और साथ गाए जाते हैं मंगल गीत,जिसमें मूल तत्व होता है बन्नी(दुलहन) के वस्त्रों का, आभूषणों का विवरण करना, उसकी सुंदरता का वर्णन करना, घरवालों की खु़शी का बयान, बन्ने (दूलहे) की वेशभूषा का गुणगान करना, बारातियों का स्वागत,बदाई का आदान प्रदान और दूल्हे के आने की ख़बर कुछ इस तरह से देना






अपने बच्चों की शादी का मोक़ा कई मायनों में ख़ास होता है, जीवन के कुछ ख़ास पलों में से एक पल । माँ
, जब अपने बेटे को दूल्हे (बन्ने ) के रुप में देखती है तो उसकी खु़शी का ठिकाना नहीं रहता....और तब वो एहसास लोकगीतों के माद्यम से तरंगित होते हैं........


 
और जब दूल्हा आ जाए तो उससे और बारातियों से थोड़ा हँसी मज़ाक़, कुछ छेड़छाड़ न हो तो शादी का मज़ा भला पूरा कहाँ से होगा ...? और थोड़ी छे़डछाड़ कुछ इस तरह से......




 
लोकगीतों में जहाँ एक ओर हँसी मज़ाक़,छेड़छाड़, रिश्तों की गहराई होती, वहीं जीवन की समझ,उसकी हक़ीक़त भी आसानी से ब्याँ कर दी जाती ।




लोकगीत किसी क़ीमती आभूषण की तरह हैं, जिन्हें प्रयोग में लाने के कुछ समय बाद, जब फिर से सुना जाए, तो भी वही आकर्षण, वही जोश लिए होते हैं।

ये लोकगीतों की ताक़त
, उनकी अहमियत ही कही जाएगी कि, कई संगीतकारों ने अपने संगीत में लोकगीतों, या लोकधुनों का ख़ूब इस्तेमाल किया । ऐसे संगीतकारों में चितलकर, नौशाद साहब,ओ.पी नैयर,ख़य्याम जैसे नाम शामिल रहे । कुछ ऐसे फ़िल्मी गीत भी रहे, जो लोकधुनों, शब्दों, के चलते अलग ही बन पड़े हों

लोक धुनों पर आधारित ये गीत कुछ अलग समा बांध देते हैं,हमारी आँखों के आगे उस राज्य,क्षेत्र की तस्वीर बरबस ही बनने लगती है । जैसे की इस गीत को सुनकर,
ऐसा लगता है मानो कि रेगिस्तान की तपती रेत पर क़दमों के कुछ निशान छोड़ती एक औरत चलती जा रही है.......।


ये धुन फिल्म सिलसिला के इस गीत की याद नहीं दिलाता

 
आज हमारे सिनेमा से गाँव, वहाँ के रिवाज और साथ ही लोकगीत .....दूर हो चले हैं, और कभी-कभी तो लोकगीतों के नाम पर ओछापन तक परोसा जाता है ।
पर जब कभी लोकगीतों की झलक लिए कोई गीत सुनाई देता है तो उसे पसंद ज़रुर किया जाता है...
लोकगीत, त्यौहारों,परम्पराओं को समझने और उन्हें जीवित रखने का एक ज़रिया हैं।फिर चाहे होली की उमंग हो या बैसाखी का धमाल



अपनी इस कोशिश में कितने कामयाब रहे ,ये जानने का बेसब्री से इंतज़ार रहेगा...।(अनुशुमान भैया का शुक्ररिया कुछ चित्रों को बांटने के लिए,कुछ गीत indianraga से लिए गए हैं)



यहाँ भी लोक रंग बिखरे पड़े हैं



अगर आप कोई सुझाव,या कुछ जोड़ना चाहते हैं,कोई जानकारी जो हमारी परम्परा को दर्शाती हो या कोई लोक गीत जिसे आप मुझ तक पहुँचा सकें तो आप इस ई-मेल पर भेज सकते हैं
vikaszutshisn@rediffmail.com

जाते -जाते इस शख़्स से भी मिल लीजिये जिसने बिसरे साज़ों को सहेजने का संकल्प ले रखा है


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description