Today Visitor :
Total Visitor :


दुग्ध उत्पादकों को कम ब्याज पर ऋण उपलब्‍ध करवाया जायेगा      |      दिल्ली के हाथों हार कर आईपीएल से बाहर हुई डिफेंडिंग चैंपियन मुंबई इंडियंस      |      एक बार फिर पर्दे पर नजर आएंगे मुन्नाभाई और सर्किट      |      कर्नाटक प्रकरण पर रजनीकांत ने बोला BJP पर हमला      |      दतिया जिले के ग्रामीण अंचलों में पहुँचे जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र      |      गरीबों और मजदूरों के कल्याण तथा विकास पर राज्य सरकार खर्च करेगी 20 हजार करोड़      |      दिल्ली ने चेन्नई को 34 रनों से हराकर नंबर वन बनने से रोका      |       इंटरटेनिंग है 'डेडपूल 2', ‘इंडियन हॉलीवुड सुपरहीरो’ देखने का इंतजार भी खत्म हुआ      |      कांग्रेस की रण'नीति', बीजेपी पर भारी      |      एशिया की सबसे लंबी सुरंग होगी जोजिला, सर्दियों में भी बनी रहेगी कनेक्टिविटी      |      कांस फिल्म समारोह में सम्मानपूर्वक याद की गईं श्रीदेवी      |      देश के नव-निर्माण में सबसे बड़ा योगदान मध्यप्रदेश का होगा      |      रोमांचक मैच में बेंगलूरु ने हैदराबाद को 14 रनों से हराया, प्लेऑफ की उम्मीदों को रखा बरकरार      |      PM मोदी कल जाएंगे जम्मू-कश्मीर      |      पेड़ न्यूज़ मामले में नरोत्तम मिश्रा को बड़ी राहत      |      वर्ष 2023 तक प्रदेश के हर गरीब को पक्का मकान बनाकर देगें : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      3 रन से जीत के साथ मुंबई की उम्मीदें बरकरार at KXIPvMI      |      बॉक्स ऑफिस के बादशाह को दी दोस्त ने मात, जानें- किस मामले में पिछड़ गए सलमान खान      |      कर्नाटक में येदुरप्पा ने ली CM पद की शपथ      |       मौसम विभाग ने फिर दी चेतावनी, अगले तीन दिन उत्तर-पूर्वी राज्यों पर भारी आंधी-तूफान का खतरा      |      देश का सबसे साफ शहर बना इंदौर, झारखंड सर्वश्रेष्ठ राज्य      |      IPL: कोलकाता ने प्लेऑफ के लिए दावेदारी मजबूत की      |      दो अप्रैल की घटना की निष्पक्ष जांच होगी      |      कर्नाटकः राहुल ने 23 दिनों में कीं 85 सभाएं, लेकिन नतीजे नहीं रहे ‘उम्मीद के मुताबिक’      |      सलमान खान को आया गुस्सा, कहा- तुम्हें क्या लगा हमेशा के लिए जेल चला गया?      |      IPL 11: रोहित शर्मा बने सबसे ज्यादा बार जीरो पर आउट होने वाले दूसरे खिलाड़ी      |      सोशल मीडिया पर ट्रोल होने के बाद अमिताभ बच्चन ने दिया ये बयान      |      कर्नाटक में BJP की बढ़त PM और शाह के नेतृत्व का नतीजा : शिवराज      |      बीजेपी को हिन्दी भाषी क्षेत्र की पार्टी बोलने वालों को कर्नाटक की जनता का झटका: मोदी      |       सरकार ने ज्यादा पेंशनर्स को 1 जनवरी 2016 से सातवें वेतनमान को 2.57 के फार्मूले से देने की घोषणा की है। ये प्रदेश के साढ़े तीन लाख से ज्यादा पेंशनर्स के लिए बड़ा तोहफा था।       |      

आनंद की बात

फल-सब्जियों को लंबे समय तक फ्रैश रखने के लिए लोग इन्हें फ्रिज में रखते हैं लेकिन कई बार फिर भी ये खराब हो जाती है। दरअसल, कुछ चीजें एेसी होती है जिन्हें फ्रिज म
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
इलायची एक एेसा मसाला है जो हर किचन में आसानी से पाया जाता है। इलायची दो प्रकार की होती है बड़ी और छोटी। ...
आगे पढ़ें
बालों और स्किन को हैल्दी रखने के लिए लोग कई तरह के कैमिकल युक्त प्रॉडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं। मगर कई बार यह फायदा पुहंचाने की जगह पर नुकसान पहुंचाने लगते हैं। ...
आगे पढ़ें
रोजर फेडरर रिकॉर्ड आठवी बार बने विंबलडन चैंपियनBookmark and Share

 स्विट्जरलैंड के दिग्गज टेनिस स्टार रोजर फेडरर ने क्रोएशिया के मारिन सिलिच को हराकर साल के तीसरे ग्रैंड स्लैम-विंबलडन का मेंस सिंगल्स का खिताब जीत लिया. ऑल इंग्लैंड क्लब में फेडरर की यह रिकॉर्ड आठवीं खिताबी जीत है. अपने दूसरे ग्रैंड स्लैम और पहले विंबलडन खिताब के लिए सिलिच सिलिच की फेडरर के सामने एक नहीं चली. अपने करियर का 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब अपने नाम करने की दिशा में फेडरर ने 2014 में जापान के केई निशिकोरी को हराकर अमेरिकी ओपन जीत चुके सिलिच को 6-3, 6-1, 6-4 से हराया.

2014 से 16 के बीच तीन बार विंबलडन क्वार्टर फाइनल में पहुंचकर हारने वाले सिलिच ने पहली बार इस अग्रणी ग्रास कोर्ट टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई थी लेकिन ग्रास कोर्ट का बादशाह कहे जाने वाले फेडरर ने उन्हें पहली बार विंबलडन का बादशाह नहीं बनने दिया.

दूसरी ओर, इस साल ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब जीत चुके फेडरर विंबलडन में अपना 11वां फाइनल खेलते हुए एक बार फिर विजेता बने. वह 2014, 2015 में भी फाइनल में पहुंचे थे लेकिन वह सर्बिया के नोवाक जोकोविक के हाथों हार गए थे. इसके अलावा 2016 में वह सेमीफाइनल में कनाडा के मिलोस राओनिक के हाथों हार गए थे.

बहरहाल, पहले सेट की शुरुआत में सिलिच ने अपना क्लास दिखाया और एक समय 2-2 की बराबरी पर पहुंच गए थे लेकिन बाद में वह फेडरर के अद्वितीय क्लास और अनुभव के आगे बेबस नजर आए. फेडरर ने यह सेट 6-3 से अपने नाम कर मैच को दूसरे सेट तक बढ़ाया.

दूसरा सेट सिलिच के लिए और भी निराशाजनक साबित हुआ. वह इस सेट में एक गेम जीत सके. फेडरर ने अपना वर्चस्व कायम करते हुए यह सेट 6-1 से जीता और यह जता दिया कि उनके अनुभव और क्लासिक टेनिस के आगे सिलिच की तेजतर्रार सर्विस की एक नहीं चलने वाली है.

तीसरे और निर्णायक सेट में सिलिच ने धमाकेदार शुरुआत करते हुए 2-1 की बढ़त हासिल कर ली. वह इस सेट में पहले से बेहतर नजर आए. फेडरर ने इसके बाद दो गेम जीतते हुए 3-3 की बराबरी और फिर 5-3 से आगे हो गए लेकिन सिलिच ने स्कोर 4-5 कर मैच को रोमांच देने का प्रयास किया लेकिन फेडरर ने यहां अपने अनुभव का कमाल दिखाते हुए सिलिच को वापसी का मौका नहीं दिया और सेट के साथ मैच भी अपने नाम किया.

इस तरह फेडरर ने आठवीं बार ऑल इंग्लैंड क्लब में अपना परचम लहराया. एक समय उन्हें चुका हुआ कहा जाने लगा था लेकिन इस कद्दावर खिलाड़ी ने कोर्ट पर शानदार वापसी करते हुए अपनी प्रतिष्ठा के साथ न्याय किया. फेडरर ने इससे पहले 2003, 2004, 2005, 2006, 2007, 2009 और 2012 में यहां चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया था.


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description