Today Visitor :
Total Visitor :


मध्य प्रदेश: दो मुर्गे बने सरकारी मेहमान, पुलिसकर्मी चुगा रहे दाना, जानें क्या है पूरा मामला      |      Bigg Boss 11 के बाद इस रिएलिटी शो में सलमान खान दिखाएंगे जलवा      |      पीएम मोदी का इजरायली कंपनियों को भारत में निवेश का न्योता      |      करारी हार के बाद प्रेस कॉन्फेंस में फूटा कप्तान कोहली का गुस्सा      |      प्रधानमंत्री मोदी, पीएम नेतन्याहू ने गुजरात में भव्य रोड शो के दौरान जमाया रंग      |      भारतीय हॉकी टीम से मिलने पहुंचे द्रविड़      |      बिग बॉस 11 की ट्रॉफी जीतने के तुरंत बाद शिल्पा शिंदे को मिला ये बड़ा ऑफर      |      अब हरिद्वार से 'हर द्वार' तक पतंजलि प्रोडक्ट्स, आठ ई-कॉमर्स वेबसाइट से हुआ करार      |      हज यात्रा के लिए अब नहीं मिलेगी सब्सिडी      |      MP में साढ़े चार हजार अवैध कालोनियां इसी साल होंगी वैध      |      विश्व कप 2019 के लिए वेस्टइंडीज के सामने 9 टीमों की चुनौती      |      राजधानी दिल्ली के हैदराबाद हाउस में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी औऱ इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के बीच द्विपक्षीय बातचीत हुई.      |      भारत-इजरायल के बीच हुए नौ समझौते      |      डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण करने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य      |      उच्च शिक्षण संस्थानों को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के प्रयास हो      |      क्रिकेट के मैदान पर ऑस्ट्रेलिया को एक ही दिन में मिली दो करारी हार      |      आलिया भट्ट और रणवीर सिंह की ‘गली बॉय’ की शूटिंग शुरू      |      दोनों देश के पीएम के ट्वीट्स से समझिए, भारत-इजराइल में कितने करीबी रिश्ते हैं      |      ऐसा होगा एयरपोर्ट, 7 मंजिला एटीसी टावर 2750 मीटर का रन-वे, 300 कारों की पार्किंग      |      इजराइल के पीएम के साथ बेबी मोशे भी आया भारत, मुंबई हमले से जुड़ा है जख्‍म      |      चीन के खिलाफ हमारा पलड़ा भारी, अब नहीं हैं 1962 युद्ध जैसे हालात- बिपिन रावत      |      INDvSA दूसरे टेस्ट में फिर से टॉस हारी टीम इंडिया, टीम में 3 बड़े बदलाव      |      इस स्कूल में पढ़ेंगे सैफ-करीना के छोटे नवाब तैमूर अली खान      |      विवाद के बीच आज राहुल गांधी से चुनाव पर चर्चा करेंगे कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया      |      हंगामे के बाद CM को छोड़नी पड़ी सभा, पुलिस को करनी पड़ी हवाई फायरिंग      |      विविध रंग कर्नाटक के      |      माउंट आबू: रेगिस्तान में हिल स्टेशन      |      स्वामी विवेकानंद के 8 अनमोल विचार      |      बेहतर तैयारी के साथ उतरेगी टीम इंडिया      |      सलमान खान ने जरीन खान को फिल्म '1921' के लिए दी शुभकामनाएं      |      

आनंद की बात

भारत के बागों का शहर (गार्डेन सिटी) के नाम से मशहूर बेंगलूर देश की सूचना तकनीकी राजधानी भी है।
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
नेपाल की सैर पर निकलें और पोखरा न जाए तो समझिए आपकी यात्रा अधूरी है। यूं तो पूरा नेपाल ही हिमालय की पर्वत श्रृंखलाओं और तराई में बसा है लेकिन पोखरा का नजारा इससे कुछ अलग है। ...
आगे पढ़ें
मध्य प्रदेश के दर्शनीय स्थलों में भीम बैठका महत्वपूर्ण स्थान है। प्रदेश की राजधानी भोपाल से यह स्थान लगभग 55 किमी. दूर है। भीम बैठका अपने शैल चित्रों और शैलाश्रयों के लिए प्रसिद्ध है। इनकी खोज वर्ष 1957-58 में डाक्टर विष्णु श्रीधर वाकणकर द्वारा की गई...
आगे पढ़ें
रोजर फेडरर रिकॉर्ड आठवी बार बने विंबलडन चैंपियनBookmark and Share

 स्विट्जरलैंड के दिग्गज टेनिस स्टार रोजर फेडरर ने क्रोएशिया के मारिन सिलिच को हराकर साल के तीसरे ग्रैंड स्लैम-विंबलडन का मेंस सिंगल्स का खिताब जीत लिया. ऑल इंग्लैंड क्लब में फेडरर की यह रिकॉर्ड आठवीं खिताबी जीत है. अपने दूसरे ग्रैंड स्लैम और पहले विंबलडन खिताब के लिए सिलिच सिलिच की फेडरर के सामने एक नहीं चली. अपने करियर का 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब अपने नाम करने की दिशा में फेडरर ने 2014 में जापान के केई निशिकोरी को हराकर अमेरिकी ओपन जीत चुके सिलिच को 6-3, 6-1, 6-4 से हराया.

2014 से 16 के बीच तीन बार विंबलडन क्वार्टर फाइनल में पहुंचकर हारने वाले सिलिच ने पहली बार इस अग्रणी ग्रास कोर्ट टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई थी लेकिन ग्रास कोर्ट का बादशाह कहे जाने वाले फेडरर ने उन्हें पहली बार विंबलडन का बादशाह नहीं बनने दिया.

दूसरी ओर, इस साल ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब जीत चुके फेडरर विंबलडन में अपना 11वां फाइनल खेलते हुए एक बार फिर विजेता बने. वह 2014, 2015 में भी फाइनल में पहुंचे थे लेकिन वह सर्बिया के नोवाक जोकोविक के हाथों हार गए थे. इसके अलावा 2016 में वह सेमीफाइनल में कनाडा के मिलोस राओनिक के हाथों हार गए थे.

बहरहाल, पहले सेट की शुरुआत में सिलिच ने अपना क्लास दिखाया और एक समय 2-2 की बराबरी पर पहुंच गए थे लेकिन बाद में वह फेडरर के अद्वितीय क्लास और अनुभव के आगे बेबस नजर आए. फेडरर ने यह सेट 6-3 से अपने नाम कर मैच को दूसरे सेट तक बढ़ाया.

दूसरा सेट सिलिच के लिए और भी निराशाजनक साबित हुआ. वह इस सेट में एक गेम जीत सके. फेडरर ने अपना वर्चस्व कायम करते हुए यह सेट 6-1 से जीता और यह जता दिया कि उनके अनुभव और क्लासिक टेनिस के आगे सिलिच की तेजतर्रार सर्विस की एक नहीं चलने वाली है.

तीसरे और निर्णायक सेट में सिलिच ने धमाकेदार शुरुआत करते हुए 2-1 की बढ़त हासिल कर ली. वह इस सेट में पहले से बेहतर नजर आए. फेडरर ने इसके बाद दो गेम जीतते हुए 3-3 की बराबरी और फिर 5-3 से आगे हो गए लेकिन सिलिच ने स्कोर 4-5 कर मैच को रोमांच देने का प्रयास किया लेकिन फेडरर ने यहां अपने अनुभव का कमाल दिखाते हुए सिलिच को वापसी का मौका नहीं दिया और सेट के साथ मैच भी अपने नाम किया.

इस तरह फेडरर ने आठवीं बार ऑल इंग्लैंड क्लब में अपना परचम लहराया. एक समय उन्हें चुका हुआ कहा जाने लगा था लेकिन इस कद्दावर खिलाड़ी ने कोर्ट पर शानदार वापसी करते हुए अपनी प्रतिष्ठा के साथ न्याय किया. फेडरर ने इससे पहले 2003, 2004, 2005, 2006, 2007, 2009 और 2012 में यहां चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया था.


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description