Today Visitor :
Total Visitor :


ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ ने हार्दिक पांड्या को बताया शानदार खिलाड़ी      |      ऐश्वर्या के साथ तीसरी बार काम करने पर अनिल कपूर ने जाहिर की खुशी      |      त्तर कोरिया संकट के बीच जापान में समय से पहले होगा चुनाव      |      कंधे पर शिवलिंग ले गरबा खेलने पहुंचा ये बाहुबली, देखते ही लड़कियों ने यूं घेरा      |      MP में मानसूनी बारिश का सिलसिला थमा, अगले 24 घंटे ऐसा रहेगा मौसम      |      'न्यूटन' की सफलता के पीछे मां की आशीर्वाद : राजकुमार राव      |      ऑस्ट्रेलिया को 5 विकेट से हराकर टीम इंडिया ने 3-0 से सीरीज पर किया कब्जा      |      'मन की बात' के तीन साल पूरे      |      अच्छी शिक्षा के लिए संसाधनों का विकास जरूरी : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा “प्रेस एन्क्लेव” के प्रवेश द्वार का लोकार्पण      |      तीसरे वनडे में बारिश की वजह से कम ओवरों का हो सकता है मैच      |      तारक मेहता का उल्टा चश्मा में अब दिखाई नहीं देंगी दयाबेन      |      UN में सुषमा स्वराज      |      वृक्षारोपण को जन-आन्दोलन का स्वरूप-दे उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल      |      सामाजिक कार्यों को सरकार का पूर्ण सहयोग : मंत्री डॉ. मिश्र      |      UN में सुषमा स्वराज: भारत ने डॉक्टर, इंजीनियर, साइंटिस्ट पैदा किए, पाकिस्तान ने आतंकी और जेहादी      |      अभिव्यक्ति गरबाः मां दुर्गा की आराधना के साथ इस अंदाज में लोगों ने मनाया जश्न      |      टीम में कुलदीप की जगह लेना मुश्किल: हरभजन सिंह      |      ‘ऑस्कर’ में जाएगी राज कुमार राव की फिल्म ‘न्यूटन’, चारों ओर हो रही है तारीफ      |      चुनाव जीतने के लिए सरकारी तिजोरी को 'तबाह’ करती थीं पिछली सरकारें: पीएम मोदी      |      राजधानी के साथ पूरे MP में बारिश जारी, मौसम विभाग ने दी भारी बारिश की चेतावनी      |      अभिव्यक्ति गरबा में दिखेगा फ्यूजन का रंग, एंट्री के लिए जरूरी होगा आधार कार्ड      |      भारत ने दूसरे वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया पर दर्ज की जीत      |      आज से चीन में दौड़ेगी दुनिया की सबसे तेज ‘बुलेट ट्रेन’, स्पीड होगी 350 KMPH      |      सिंधु-सायना हारी      |      अब तैमूर को ध्यान में रखकर ही हर फैसला लेंगी करीना कपूर!      |      योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्य ने लोकसभा से दिया इस्तीफा      |      राजस्व संबंधी अप्रासंगिक कानून समाप्त होंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      अभ्यास सत्र धुलने के बाद धोनी ने निशानेबाजी में आजमाए हाथ      |      मेरा दिल अब मेरे अंदर नहीं बल्कि तैमूर में धड़कता है : करीना      |      

आनंद की बात

हर तरह के ब्यूटी प्रोडक्ट ना बाजारों के साथ-साथ ऑनलाइन भी मौजूद हैं. नए-नए ब्यूटी ट्रेंड्स में आजकल पॉपुलर हो रहा है बालों का परफ्यूम यानि हेयर मिस्ट. क्या आप ज
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
स्टडी में पता चला है कि आर्टिफीशियल स्वीटनर के अधिक इस्तेमाल से टाइप 2 डायबिटीज, मोटापे और हार्ट डिजी़ज़ का रिस्क बढ़ जाता है. ...
आगे पढ़ें
कहा जाता है कि ज्यादा चाय नहीं पीनी चाहिए क्योंकि वो बहुत एसिडिटी करती है. मगर कुछ चाय ऐसी होती है जो हमारी सेहत के लिए बहुत ही अच्छी होती है और उनमें से एक चाय है जैसमीन टी. आज डॉ. शि‍खा शर्मा जैसमीन टी के बारे में ही बताएंगी. ...
आगे पढ़ें
रोजर फेडरर रिकॉर्ड आठवी बार बने विंबलडन चैंपियनBookmark and Share

 स्विट्जरलैंड के दिग्गज टेनिस स्टार रोजर फेडरर ने क्रोएशिया के मारिन सिलिच को हराकर साल के तीसरे ग्रैंड स्लैम-विंबलडन का मेंस सिंगल्स का खिताब जीत लिया. ऑल इंग्लैंड क्लब में फेडरर की यह रिकॉर्ड आठवीं खिताबी जीत है. अपने दूसरे ग्रैंड स्लैम और पहले विंबलडन खिताब के लिए सिलिच सिलिच की फेडरर के सामने एक नहीं चली. अपने करियर का 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब अपने नाम करने की दिशा में फेडरर ने 2014 में जापान के केई निशिकोरी को हराकर अमेरिकी ओपन जीत चुके सिलिच को 6-3, 6-1, 6-4 से हराया.

2014 से 16 के बीच तीन बार विंबलडन क्वार्टर फाइनल में पहुंचकर हारने वाले सिलिच ने पहली बार इस अग्रणी ग्रास कोर्ट टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई थी लेकिन ग्रास कोर्ट का बादशाह कहे जाने वाले फेडरर ने उन्हें पहली बार विंबलडन का बादशाह नहीं बनने दिया.

दूसरी ओर, इस साल ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब जीत चुके फेडरर विंबलडन में अपना 11वां फाइनल खेलते हुए एक बार फिर विजेता बने. वह 2014, 2015 में भी फाइनल में पहुंचे थे लेकिन वह सर्बिया के नोवाक जोकोविक के हाथों हार गए थे. इसके अलावा 2016 में वह सेमीफाइनल में कनाडा के मिलोस राओनिक के हाथों हार गए थे.

बहरहाल, पहले सेट की शुरुआत में सिलिच ने अपना क्लास दिखाया और एक समय 2-2 की बराबरी पर पहुंच गए थे लेकिन बाद में वह फेडरर के अद्वितीय क्लास और अनुभव के आगे बेबस नजर आए. फेडरर ने यह सेट 6-3 से अपने नाम कर मैच को दूसरे सेट तक बढ़ाया.

दूसरा सेट सिलिच के लिए और भी निराशाजनक साबित हुआ. वह इस सेट में एक गेम जीत सके. फेडरर ने अपना वर्चस्व कायम करते हुए यह सेट 6-1 से जीता और यह जता दिया कि उनके अनुभव और क्लासिक टेनिस के आगे सिलिच की तेजतर्रार सर्विस की एक नहीं चलने वाली है.

तीसरे और निर्णायक सेट में सिलिच ने धमाकेदार शुरुआत करते हुए 2-1 की बढ़त हासिल कर ली. वह इस सेट में पहले से बेहतर नजर आए. फेडरर ने इसके बाद दो गेम जीतते हुए 3-3 की बराबरी और फिर 5-3 से आगे हो गए लेकिन सिलिच ने स्कोर 4-5 कर मैच को रोमांच देने का प्रयास किया लेकिन फेडरर ने यहां अपने अनुभव का कमाल दिखाते हुए सिलिच को वापसी का मौका नहीं दिया और सेट के साथ मैच भी अपने नाम किया.

इस तरह फेडरर ने आठवीं बार ऑल इंग्लैंड क्लब में अपना परचम लहराया. एक समय उन्हें चुका हुआ कहा जाने लगा था लेकिन इस कद्दावर खिलाड़ी ने कोर्ट पर शानदार वापसी करते हुए अपनी प्रतिष्ठा के साथ न्याय किया. फेडरर ने इससे पहले 2003, 2004, 2005, 2006, 2007, 2009 और 2012 में यहां चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया था.


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description