Today Visitor :
Total Visitor :


ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ ने हार्दिक पांड्या को बताया शानदार खिलाड़ी      |      ऐश्वर्या के साथ तीसरी बार काम करने पर अनिल कपूर ने जाहिर की खुशी      |      त्तर कोरिया संकट के बीच जापान में समय से पहले होगा चुनाव      |      कंधे पर शिवलिंग ले गरबा खेलने पहुंचा ये बाहुबली, देखते ही लड़कियों ने यूं घेरा      |      MP में मानसूनी बारिश का सिलसिला थमा, अगले 24 घंटे ऐसा रहेगा मौसम      |      'न्यूटन' की सफलता के पीछे मां की आशीर्वाद : राजकुमार राव      |      ऑस्ट्रेलिया को 5 विकेट से हराकर टीम इंडिया ने 3-0 से सीरीज पर किया कब्जा      |      'मन की बात' के तीन साल पूरे      |      अच्छी शिक्षा के लिए संसाधनों का विकास जरूरी : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा “प्रेस एन्क्लेव” के प्रवेश द्वार का लोकार्पण      |      तीसरे वनडे में बारिश की वजह से कम ओवरों का हो सकता है मैच      |      तारक मेहता का उल्टा चश्मा में अब दिखाई नहीं देंगी दयाबेन      |      UN में सुषमा स्वराज      |      वृक्षारोपण को जन-आन्दोलन का स्वरूप-दे उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल      |      सामाजिक कार्यों को सरकार का पूर्ण सहयोग : मंत्री डॉ. मिश्र      |      UN में सुषमा स्वराज: भारत ने डॉक्टर, इंजीनियर, साइंटिस्ट पैदा किए, पाकिस्तान ने आतंकी और जेहादी      |      अभिव्यक्ति गरबाः मां दुर्गा की आराधना के साथ इस अंदाज में लोगों ने मनाया जश्न      |      टीम में कुलदीप की जगह लेना मुश्किल: हरभजन सिंह      |      ‘ऑस्कर’ में जाएगी राज कुमार राव की फिल्म ‘न्यूटन’, चारों ओर हो रही है तारीफ      |      चुनाव जीतने के लिए सरकारी तिजोरी को 'तबाह’ करती थीं पिछली सरकारें: पीएम मोदी      |      राजधानी के साथ पूरे MP में बारिश जारी, मौसम विभाग ने दी भारी बारिश की चेतावनी      |      अभिव्यक्ति गरबा में दिखेगा फ्यूजन का रंग, एंट्री के लिए जरूरी होगा आधार कार्ड      |      भारत ने दूसरे वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया पर दर्ज की जीत      |      आज से चीन में दौड़ेगी दुनिया की सबसे तेज ‘बुलेट ट्रेन’, स्पीड होगी 350 KMPH      |      सिंधु-सायना हारी      |      अब तैमूर को ध्यान में रखकर ही हर फैसला लेंगी करीना कपूर!      |      योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्य ने लोकसभा से दिया इस्तीफा      |      राजस्व संबंधी अप्रासंगिक कानून समाप्त होंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      अभ्यास सत्र धुलने के बाद धोनी ने निशानेबाजी में आजमाए हाथ      |      मेरा दिल अब मेरे अंदर नहीं बल्कि तैमूर में धड़कता है : करीना      |      

आनंद की बात

हर तरह के ब्यूटी प्रोडक्ट ना बाजारों के साथ-साथ ऑनलाइन भी मौजूद हैं. नए-नए ब्यूटी ट्रेंड्स में आजकल पॉपुलर हो रहा है बालों का परफ्यूम यानि हेयर मिस्ट. क्या आप ज
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
स्टडी में पता चला है कि आर्टिफीशियल स्वीटनर के अधिक इस्तेमाल से टाइप 2 डायबिटीज, मोटापे और हार्ट डिजी़ज़ का रिस्क बढ़ जाता है. ...
आगे पढ़ें
कहा जाता है कि ज्यादा चाय नहीं पीनी चाहिए क्योंकि वो बहुत एसिडिटी करती है. मगर कुछ चाय ऐसी होती है जो हमारी सेहत के लिए बहुत ही अच्छी होती है और उनमें से एक चाय है जैसमीन टी. आज डॉ. शि‍खा शर्मा जैसमीन टी के बारे में ही बताएंगी. ...
आगे पढ़ें
डोकलाम पर कोई समझौता नहीं होगा, भारत सेना हटाए तभी होगी बात: चीनी मीडियाBookmark and Share

. चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ का कहना है कि सिक्कम इलाके में मौजूद डोकलाम पर कोई समझौता नहीं होगा। भारत बॉर्डर से अपनी फौज हटाए, तभी इस मुद्दे पर बातचीत मुमकिन है। दरअसल, चीन के साथ तनातनी खत्म करने के लिए भारतीय विदेश मंत्रालय ने डिप्लोमेटिक चैनल इस्तेमाल करने की बात कही थी। चीनी मीडिया ने इसी का जवाब दिया है।बॉर्डर लाइन ही बॉटम लाइन...
 
- चीन की स्टेट काउंसिल के तहत काम करने वाली और ऑफिशियल प्रेस एजेंसी शिन्हुआ के आर्टिकल में लिखा गया है कि चीन के लिए बॉर्डर लाइन ही बॉटम लाइन है। यानि, बॉर्डर को लेकर कोई समझौता नहीं हो सकता।
- चीनी की सरकारी मीडिया ने यह लाइन पहली बार इस्तेमाल नहीं की है। पिछले हफ्ते भी शिन्हुआ और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के अखबार पीपुल्स डेली ने अपने एडिटोरियल्स में इसका इस्तेमाल किया था।

भारत पर बात अनसुनी करने का आरोप
- आर्टिकल में यह भी लिखा है, "डोकलाम में बॉर्डर क्रॉस करने वाली फौज को वापस बुलाने की चीन की मांग को भारत लगातार अनसुना कर रहा है।"
- "हालांकि, चीन की बात न मानने वाले उसके रवैये से मामला तूल पकड़ेगा और अखिरी में भारत को शर्मिंदा होना पड़ेगा।"

इस बार मामला बिल्कुल अलग है
- शिन्हुआ ने लिखा है, "भारत को मौजूदा हालात को पहले दो बार 2013 और 2014 में लद्दाख के पास बने हालात की तरह नहीं देखना चाहिए। भारत, पाकिस्तान और चीन के बीच साउथ ईस्ट कश्मीर का यह इलाका (लद्दाख) विवादित है। उस वक्त डिप्लोमेटिक कोशिशों से दोनों देशों की फौजों के बीच टकराव को सुलझा लिया गया था, लेकिन इस बार मामला पूरा अलग है।"

30 साल में सबसे लंबा गतिरोध
- देशों के बीच मौजूदा गतिरोध बीते तीन दशकों में सबसे लंबा माना जा रहा है। यह 18 जून से शुरू हुआ था। उस वक्त चीन ने आरोप लगाया था कि भारत बॉर्डर एग्रिमेंट के खिलाफ चला गया है। भारतीय सैनिक बॉर्डर क्रॉस करके डोकलाम में घुस आए हैं और चीनी सैनिकों को रोड बनाने से रोक दिया है। उनका कहना था कि इलाके में अभी बॉर्डर तय नहीं है, इसलिए चीन मौजूदा स्थित में बदलाव न करे।

सिक्किम में क्यों शुरू हुआ विवाद? क्यों जरूरी है चीन को रोकना?

1) पहली वजह: सिक्किम सेक्टर में चीन का सड़क बनाना
- चीन सिक्किम सेक्टर के डोकलाम इलाके में सड़क बना रहा है। इसी इलाके में चीन, सिक्किम और भूटान की सीमाएं मिलती हैं। भूटान और चीन इस इलाके पर दावा करते हैं। भारत इस विवाद पर भूटान का साथ देता है।
- इसी इलाके में 20 km हिस्सा सिक्किम और पूर्वोत्तर राज्यों को भारत के बाकी हिस्से से जोड़ता है। यह ‘चिकेन नेक’ भी कहलाता है। चीन का इस इलाके में दखल बढ़ा तो भारत की कनेक्टिविटी पर असर पड़ेगा। भारत के कई इलाके चीन की तोपों की रेंज में आ जाएंगे।
- दरअसल, सिक्किम का 16 मई 1975 को भारत में विलय हुआ था। पूर्वोत्तर से चीन की तरफ जाने वाला इकलौता रास्ता नाथू ला दर्रा सिक्किम में ही है।
- चीन पहले तो सिक्किम को भारत का हिस्सा मानने से इनकार करता था। लेकिन 2003 में उसने सिक्किम को भारत के राज्य का दर्जा दे दिया। हालांकि, सिक्किम के कई इलाकों को वह अपना बताता है।

2) दूसरी वजह : चीन की घुसपैठ
- चीन की आर्मी ने हाल ही में सिक्किम सेक्टर में घुसने की कोशिश की और भारतीय जवानों से हाथापाई की। इस दौरान चीन के सैनिकों ने हमारे 2 बंकर भी तोड़ दिए।
- यह घटना सिक्किम के डोका ला जनरल एरिया में लालटेन पोस्ट के पास हुई। भारतीय सैनिकों ने ह्यूमन चेन बनाकर चीनियों को रोकने की कोशिश की, लेकिन वे धक्का-मुक्की करते रहे।
- भारत ने विरोध दर्ज कराया तो उल्टे चीन ने ही भारत पर घुसपैठ के आरोप लगा दिए।

3) तीसरी वजह : कैलाश मानसरोवर यात्रा
- चीन की तरफ से विवाद यहीं नहीं थमा। चीन ने कहा कि भारतीय सैनिक तुरंत पीछे हट जाएं। भविष्य में कैलाश मानसरोवर यात्रा जारी रखना इस बात पर निर्भर करेगा कि भारत इस टकराव का हल कैसे निकालता है?
- सीमा पर तनाव के चलते नाथू ला दर्रे से कैलाश मानसरोवर जाने वाले रास्ते को भारतीय श्रद्धालुओं के लिए चीन ने बंद कर दिया। इसके बाद भारत ने इस रूट से यात्रा रद्द कर दी।
 
 
 
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फे

पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description