Today Visitor :
Total Visitor :


दुग्ध उत्पादकों को कम ब्याज पर ऋण उपलब्‍ध करवाया जायेगा      |      दिल्ली के हाथों हार कर आईपीएल से बाहर हुई डिफेंडिंग चैंपियन मुंबई इंडियंस      |      एक बार फिर पर्दे पर नजर आएंगे मुन्नाभाई और सर्किट      |      कर्नाटक प्रकरण पर रजनीकांत ने बोला BJP पर हमला      |      दतिया जिले के ग्रामीण अंचलों में पहुँचे जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र      |      गरीबों और मजदूरों के कल्याण तथा विकास पर राज्य सरकार खर्च करेगी 20 हजार करोड़      |      दिल्ली ने चेन्नई को 34 रनों से हराकर नंबर वन बनने से रोका      |       इंटरटेनिंग है 'डेडपूल 2', ‘इंडियन हॉलीवुड सुपरहीरो’ देखने का इंतजार भी खत्म हुआ      |      कांग्रेस की रण'नीति', बीजेपी पर भारी      |      एशिया की सबसे लंबी सुरंग होगी जोजिला, सर्दियों में भी बनी रहेगी कनेक्टिविटी      |      कांस फिल्म समारोह में सम्मानपूर्वक याद की गईं श्रीदेवी      |      देश के नव-निर्माण में सबसे बड़ा योगदान मध्यप्रदेश का होगा      |      रोमांचक मैच में बेंगलूरु ने हैदराबाद को 14 रनों से हराया, प्लेऑफ की उम्मीदों को रखा बरकरार      |      PM मोदी कल जाएंगे जम्मू-कश्मीर      |      पेड़ न्यूज़ मामले में नरोत्तम मिश्रा को बड़ी राहत      |      वर्ष 2023 तक प्रदेश के हर गरीब को पक्का मकान बनाकर देगें : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      3 रन से जीत के साथ मुंबई की उम्मीदें बरकरार at KXIPvMI      |      बॉक्स ऑफिस के बादशाह को दी दोस्त ने मात, जानें- किस मामले में पिछड़ गए सलमान खान      |      कर्नाटक में येदुरप्पा ने ली CM पद की शपथ      |       मौसम विभाग ने फिर दी चेतावनी, अगले तीन दिन उत्तर-पूर्वी राज्यों पर भारी आंधी-तूफान का खतरा      |      देश का सबसे साफ शहर बना इंदौर, झारखंड सर्वश्रेष्ठ राज्य      |      IPL: कोलकाता ने प्लेऑफ के लिए दावेदारी मजबूत की      |      दो अप्रैल की घटना की निष्पक्ष जांच होगी      |      कर्नाटकः राहुल ने 23 दिनों में कीं 85 सभाएं, लेकिन नतीजे नहीं रहे ‘उम्मीद के मुताबिक’      |      सलमान खान को आया गुस्सा, कहा- तुम्हें क्या लगा हमेशा के लिए जेल चला गया?      |      IPL 11: रोहित शर्मा बने सबसे ज्यादा बार जीरो पर आउट होने वाले दूसरे खिलाड़ी      |      सोशल मीडिया पर ट्रोल होने के बाद अमिताभ बच्चन ने दिया ये बयान      |      कर्नाटक में BJP की बढ़त PM और शाह के नेतृत्व का नतीजा : शिवराज      |      बीजेपी को हिन्दी भाषी क्षेत्र की पार्टी बोलने वालों को कर्नाटक की जनता का झटका: मोदी      |       सरकार ने ज्यादा पेंशनर्स को 1 जनवरी 2016 से सातवें वेतनमान को 2.57 के फार्मूले से देने की घोषणा की है। ये प्रदेश के साढ़े तीन लाख से ज्यादा पेंशनर्स के लिए बड़ा तोहफा था।       |      

आनंद की बात

फल-सब्जियों को लंबे समय तक फ्रैश रखने के लिए लोग इन्हें फ्रिज में रखते हैं लेकिन कई बार फिर भी ये खराब हो जाती है। दरअसल, कुछ चीजें एेसी होती है जिन्हें फ्रिज म
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
इलायची एक एेसा मसाला है जो हर किचन में आसानी से पाया जाता है। इलायची दो प्रकार की होती है बड़ी और छोटी। ...
आगे पढ़ें
बालों और स्किन को हैल्दी रखने के लिए लोग कई तरह के कैमिकल युक्त प्रॉडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं। मगर कई बार यह फायदा पुहंचाने की जगह पर नुकसान पहुंचाने लगते हैं। ...
आगे पढ़ें
डोकलाम पर कोई समझौता नहीं होगा, भारत सेना हटाए तभी होगी बात: चीनी मीडियाBookmark and Share

. चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ का कहना है कि सिक्कम इलाके में मौजूद डोकलाम पर कोई समझौता नहीं होगा। भारत बॉर्डर से अपनी फौज हटाए, तभी इस मुद्दे पर बातचीत मुमकिन है। दरअसल, चीन के साथ तनातनी खत्म करने के लिए भारतीय विदेश मंत्रालय ने डिप्लोमेटिक चैनल इस्तेमाल करने की बात कही थी। चीनी मीडिया ने इसी का जवाब दिया है।बॉर्डर लाइन ही बॉटम लाइन...
 
- चीन की स्टेट काउंसिल के तहत काम करने वाली और ऑफिशियल प्रेस एजेंसी शिन्हुआ के आर्टिकल में लिखा गया है कि चीन के लिए बॉर्डर लाइन ही बॉटम लाइन है। यानि, बॉर्डर को लेकर कोई समझौता नहीं हो सकता।
- चीनी की सरकारी मीडिया ने यह लाइन पहली बार इस्तेमाल नहीं की है। पिछले हफ्ते भी शिन्हुआ और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के अखबार पीपुल्स डेली ने अपने एडिटोरियल्स में इसका इस्तेमाल किया था।

भारत पर बात अनसुनी करने का आरोप
- आर्टिकल में यह भी लिखा है, "डोकलाम में बॉर्डर क्रॉस करने वाली फौज को वापस बुलाने की चीन की मांग को भारत लगातार अनसुना कर रहा है।"
- "हालांकि, चीन की बात न मानने वाले उसके रवैये से मामला तूल पकड़ेगा और अखिरी में भारत को शर्मिंदा होना पड़ेगा।"

इस बार मामला बिल्कुल अलग है
- शिन्हुआ ने लिखा है, "भारत को मौजूदा हालात को पहले दो बार 2013 और 2014 में लद्दाख के पास बने हालात की तरह नहीं देखना चाहिए। भारत, पाकिस्तान और चीन के बीच साउथ ईस्ट कश्मीर का यह इलाका (लद्दाख) विवादित है। उस वक्त डिप्लोमेटिक कोशिशों से दोनों देशों की फौजों के बीच टकराव को सुलझा लिया गया था, लेकिन इस बार मामला पूरा अलग है।"

30 साल में सबसे लंबा गतिरोध
- देशों के बीच मौजूदा गतिरोध बीते तीन दशकों में सबसे लंबा माना जा रहा है। यह 18 जून से शुरू हुआ था। उस वक्त चीन ने आरोप लगाया था कि भारत बॉर्डर एग्रिमेंट के खिलाफ चला गया है। भारतीय सैनिक बॉर्डर क्रॉस करके डोकलाम में घुस आए हैं और चीनी सैनिकों को रोड बनाने से रोक दिया है। उनका कहना था कि इलाके में अभी बॉर्डर तय नहीं है, इसलिए चीन मौजूदा स्थित में बदलाव न करे।

सिक्किम में क्यों शुरू हुआ विवाद? क्यों जरूरी है चीन को रोकना?

1) पहली वजह: सिक्किम सेक्टर में चीन का सड़क बनाना
- चीन सिक्किम सेक्टर के डोकलाम इलाके में सड़क बना रहा है। इसी इलाके में चीन, सिक्किम और भूटान की सीमाएं मिलती हैं। भूटान और चीन इस इलाके पर दावा करते हैं। भारत इस विवाद पर भूटान का साथ देता है।
- इसी इलाके में 20 km हिस्सा सिक्किम और पूर्वोत्तर राज्यों को भारत के बाकी हिस्से से जोड़ता है। यह ‘चिकेन नेक’ भी कहलाता है। चीन का इस इलाके में दखल बढ़ा तो भारत की कनेक्टिविटी पर असर पड़ेगा। भारत के कई इलाके चीन की तोपों की रेंज में आ जाएंगे।
- दरअसल, सिक्किम का 16 मई 1975 को भारत में विलय हुआ था। पूर्वोत्तर से चीन की तरफ जाने वाला इकलौता रास्ता नाथू ला दर्रा सिक्किम में ही है।
- चीन पहले तो सिक्किम को भारत का हिस्सा मानने से इनकार करता था। लेकिन 2003 में उसने सिक्किम को भारत के राज्य का दर्जा दे दिया। हालांकि, सिक्किम के कई इलाकों को वह अपना बताता है।

2) दूसरी वजह : चीन की घुसपैठ
- चीन की आर्मी ने हाल ही में सिक्किम सेक्टर में घुसने की कोशिश की और भारतीय जवानों से हाथापाई की। इस दौरान चीन के सैनिकों ने हमारे 2 बंकर भी तोड़ दिए।
- यह घटना सिक्किम के डोका ला जनरल एरिया में लालटेन पोस्ट के पास हुई। भारतीय सैनिकों ने ह्यूमन चेन बनाकर चीनियों को रोकने की कोशिश की, लेकिन वे धक्का-मुक्की करते रहे।
- भारत ने विरोध दर्ज कराया तो उल्टे चीन ने ही भारत पर घुसपैठ के आरोप लगा दिए।

3) तीसरी वजह : कैलाश मानसरोवर यात्रा
- चीन की तरफ से विवाद यहीं नहीं थमा। चीन ने कहा कि भारतीय सैनिक तुरंत पीछे हट जाएं। भविष्य में कैलाश मानसरोवर यात्रा जारी रखना इस बात पर निर्भर करेगा कि भारत इस टकराव का हल कैसे निकालता है?
- सीमा पर तनाव के चलते नाथू ला दर्रे से कैलाश मानसरोवर जाने वाले रास्ते को भारतीय श्रद्धालुओं के लिए चीन ने बंद कर दिया। इसके बाद भारत ने इस रूट से यात्रा रद्द कर दी।
 
 
 
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फे

पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description