Today Visitor :
Total Visitor :


फीफा वर्ल्ड कप 2018-तोते की भविष्यवाणी- जापान नहीं जीत पाएगा अपना पहला मुकाबला      |      पापा के साथ मजबूती से खड़ी रहती हूं : दीपिका पादुकोण      |      ट्रेन हुई लेट तो यात्रियों के लिए फ्री खाने-पीने की व्यवस्था करेगा रेलवे      |      पंजाब की एलिजा बंसल ने किया टॉप      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान केन्द्रीय वित्त मंत्री श्री पीयूष गोयल से मिले      |      पसीने की बदबू से हैं परेशान तो इन घरेलू तरीकों      |      राज्यपाल श्रीमती पटेल पहुँची टिमरनी आँगनवाड़ी केन्द्र; बच्चों से की बातचीत      |      सार्बिया ने कोस्‍टा रिका को 1-0 से हराया      |      गाड़ी से कूड़ा फेंकने वाले शख्स ने माफी मांगते हुए कहा- अनुष्का थोड़ी तहजीब सीख लो      |      नीति आयोग की बैठक में राज्यों ने रखी मांग      |      Father's Day पर गूगल ने बनाया डूडल      |      आइसलैंड के गोलकीपर ने नहीं चलने दिया मेसी का जादू      |      'पलटन' में दिखेंगी दीपिका      |      प्रधानमंत्री ने आरएसएस, बीजेपी पदाधिकारियों के रात्रिभोज की मेजबानी की      |      दिल्ली वालों को आज होने वाली बारिश से मिल सकती है राहत      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ईदगाह पहुँच कर दी ईद की शुभकामनाएँ      |      रूस के खिलाफ मिली हार के बाद मुश्किल में सऊदी अरब      |      आज रिलीज हुई फिल्म 'रेस 3'       |      CIA ने वीएचपी, बजरंग दल को बताया 'धार्मिक आतंकी संगठन'      |      कल देशभर में मनाई जाएगी ईद      |      गाँव, गरीब और किसान की बेहतरी में नियम-कानून बाधक नहीं होंगे : मुख्यमंत्री      |      फीफा वर्ल्ड कप 2018 रूस ने किया दूसरा गोल      |      राज ठाकरे का मुंबईकरों को बर्थडे ऑफर      |      संजीव श्रीवास्तव ने सलमान खान के शो 'दस का दम' में दिखाया अपना किलर स्टेप      |      केला उत्पादक किसानों को देय मुआवजा राशि में होगी साढ़े सात गुना वृद्धि      |      बारिश से असम, त्रिपुरा-मणिपुर में आई भारी बाढ़      |      विश्वकप फुटबाल -स्पेन के कोच लोपेतेगुई की छुट्टी      |      'बदला' की शूटिंग तापसी पन्नू ने शुरू की      |      पूर्व पीएम वाजपेयी की सेहत में लगातार सुधार      |      ताज होटल में आज कांग्रेस ने इफ्तार पार्टी दी      |      

आनंद की बात

गर्मियों के मौसम में पसीना आना एक आम समस्या है। मगर कुछ लोगों की पसीने की स्मैल इतनी गंदी होती है। उसके पास बैठना भी मुश्किल हो जाता है। इस समस्या के कारण कई बा
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
गलत खान-पान के कारण लोगों की हेल्थ प्रॉब्लम्स भी बढ़ती जा रही है। जिसके कारण लोगों को हर तीसरे दिन अस्पतालों में चक्कर निकालने पड़ रहे हैं। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसे पौधे के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे इस्तेमाल करके आप घर पर कई समस्याओं से छुटकारा ...
आगे पढ़ें
गर्मी के तपते मौसम में खुद का ख्याल रखना बहुत जरूरी है। खान-पान में जरा-सी गड़बड़ी होने पर सेहत से संबंधित बहुत-सी परेशानियां होने लगती हैं। इस मौसम में लोगों को सबसे ज्यादा जिस समस्या का सामना करना पड़ता है, वह है शरीर में गर्मी पड़ना। शरीर यानि पेट...
आगे पढ़ें
हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार दूधनाथ सिंह का निधनBookmark and Share

 हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार दूधनाथ सिंह नहीं रहे. उन्होंने ‘सभी मनुष्य हैं, ओ नारी, ख़ुश होना अनैतिक है, इस समाज में’ जैसी प्रसिद्ध रचनाएं लिखी हैं. उनके निधन से साहित्य समाज में शोक की लहर है. आज दोपहर दो बजे इलाहाबाद के रसूलाबाद घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

81 साल की उम्र में दूधनाथ सिंह ने अपने पैतृक शहर इलाहाबाद में देर रात 12 बजकर 6 मिनट पर आखिरी सांसें लीं. वो पिछले एक साल से कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से लड़ रहे थे.

 

दूधनाथ सिंह इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थे. रिटायर होने के बाद वो इलाहाबाद में ही रहते थे. दूधनाथ सिंह ने कविता, कहानी, नाटक, उपन्यास और आलोचना समेत लगभग सभी विधाओं में लेखन किया. उनके उपन्यास आखिरी कलाम, निष्कासन, नमो अंधकारम हैं. दूधनाथ सिंह भारतेंदु सम्मान, साहित्य भूषण सम्मान से सम्मानित थे.

दूधनाथ सिंह ऐसे लेखकों में से जिनके जाने से पूरा साहित्य जगत अंधकार मय हो गया है, उनकी कमी को पूरा नहीं किया जा सकता है.


दूधनाथ सिंह के निधन पर साहित्य जगत में शोक की लहर है. वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश ने अपने शिक्षक दूधनाथ सिंह के निधन पर उन्हें याद किया है. उन्होंने फेसबुक पर लंबा पोस्ट किया.


उर्मिलेश लिखा, "अभी-अभी उदय प्रकाश, वीरेंद्र यादव और सुनील की पोस्ट से पता चला, हमारे प्रिय लेखक और अध्यापक दूधनाथ सिंह जी नहीं रहे! उनकेे स्वास्थ्य को लेकर पूरा हिंदी जगत चिंतित था। सभी शुभ कामना दे रहे थे कि वह सकुशल अस्पताल से लौटें। पर कैंसर ने देश के एक महान् साहित्यकार को हमसे छीन लिया।
वह मेरे शिक्षक थे, शुभचिंतक और दोस्त भी! इलाहाबाद छोड़ने के बाद मेरी उनसे ज्यादा मुलाकातें नहीं हुईं पर दिलो-दिमाग में हमारे रिश्ते कभी खत्म नहीं हुए। उनसे फोन पर आखिरी बातचीत संभवतः डेढ़-दो साल पहले तब हुई थी, जब लखनऊ से प्रकाशित 'तद्भव' पत्रिका में गोरख पाण्डेय पर मेरा एक संस्मरणातमक लेख छपा। उन्होंने कहीं से मेरा नंबर खोजकर फोन किया और उस लेख के लिए बहुत खुशी जताई। कहने लगे, 'तुम्हें टीवी पर देखते हुए अच्छा लगता है, समझ और प्रतिबद्धता का वही तेवर है। अब वह ज्यादा प्रौढ़ता के साथ नजर आता है। ठीक है कि तुम पत्रकारिता में हो और अपने काम में ज्यादा व्यस्त रहते हो पर तुम्हें गैर-पत्रकारीय लेखन भी जारी रखना चाहिए। तुम्हारा यह लेख पढ़कर बहुत अच्छा लगा। गोरख पर अब तक का यह श्रेष्ठ संस्मरण है! सुना, तुमने कश्मीर पर भी अच्छा लिखा है। पर वह पढ़ने को नहीं मिला!'


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description