Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


दिलीप कुमार की पत्नी ने मोदी से मांगी मदद      |      शादी के बंधन में बंधे सायना नेहवाल और परूपल्ली कश्यप      |      परिणीति ने शादी की खबरों को बताया अफवाह      |      हॉकी वर्ल्ड कप-बेल्जियम पहली बार चैम्पियन बना      |      भूपेश बघेल होंगे छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री      |      बेल्जियम पहली बार फाइनल में पहुंचा, इंग्लैंड को 6-0 से हराया      |      जीरो का प्रमोशन करने बिग बॉस के घर पहुंचे शाहरुख      |      छत्तीसगढ़ / सीएम का ऐलान कल      |      राज्यपाल ने श्री कमलनाथ को मुख्यमंत्री पद ग्रहण करने का आमंत्रण दिया      |      राफेल / कांग्रेस ने देश की सुरक्षा से खिलवाड़ किया, 70 जगहों पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर उसे बेनकाब करेंगे: भाजपा      |      पाकिस्तान को एशिया कप 2020 की मेजबानी मिल गई      |      लता मंगेशकर ने किया ट्वीट - मैं बिलकुल स्वस्थ्य हूं और अपने घर में हूं      |      अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री सचिन पायलट डिप्टी सीएम बनेंगे      |      राफेल डील -सुप्रीम कोर्ट ने सभी याचिकाएं खारिज      |      राज्यपाल ने श्री कमलनाथ को मुख्यमंत्री पद ग्रहण करने का आमंत्रण दिया      |      भारत-ऑस्ट्रेलिया दूसरा टेस्ट-पृथ्वी शाॅ, अश्विन और रोहित शर्मा बाहर      |      भारत में 2018 में सबसे ज्यादा सर्च की गईं प्रिया वारियर      |       एसबीआई - कर्जमाफी बैंकिंग समुदाय के लिए बड़ी चुनौती      |      केसीआर दूसरी बार बने मुख्यमंत्री      |      घुड़सवारी अकादमी के खिलाड़ी प्रणय खरे ने जीता स्वर्ण पदक      |      पहले टेस्ट में जीत के बाद रवि शास्त्री के बिगड़े बोल, कहा- नेट प्रैक्टिस को गोली मारो      |      दुल्हन की तरह सजा अमृतसर वाला घर, लाल-सफेद फूलों से हुआ डेकोरेशन      |      कांग्रेस ने भाजपा से छत्तीसगढ़ छीना, राजस्थान में भी बहुमत; मप्र में बराबरी का मुकाबला      |      मतदाता जागरूकता विषयक 4 नेशनल मीडिया अवार्ड देगा भारत निर्वाचन आयोग      |      चीन में अमेरिकी टेक फर्मों के मुकाबले की कंपनियां      |      फुटबॉल / मेसी ने पहली बार एक मैच में 2 फ्री किक जमाई, बार्सिलोना 4-0 से जीता      |      बॉक्स ऑफिस / केदारनाथ ने ओपनिंग वीकेंड में कमाए 27 करोड़      |      अमेरिका / 2020 में डेमोक्रेटिक पार्टी से राष्ट्रपति चुनाव लड़ सकते हैं जॉन कैरी      |      विजय माल्या भारत लाया जाएगा, कोर्ट ने मंजूरी दी; मामला ब्रिटिश सरकार को रेफर किया      |      मानव अधिकार को नारा नहीं, संस्कार स्वरूप आत्मसात करें : राज्यपाल      |      

आनंद की बात

विटामिन 'C' यानि एस्कॉर्बिक एसिड शरीर को स्कर्वी बीमारियों से बचाने में मदद करता है। साथ ही रोजाना इसका सेवन किया जाए तो सर्दी-खांसी, जुकाम और वायरल इंफैक्शन ज
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
स्वस्थ रहने के लिए ताजी हरी सब्जियों का सेवन बहुत फायदेमंद होता है लेकिन कुछ सब्जियां ऐसी भी हैं, जोकि आपकी सेहत के लिए खतरा बन सकती हैं। जी हां, हाल ही में हुए रिसर्च के मुताबिक फूलगोभी और पत्तागोभी जैसी सब्जियां दिमाग को नुकसान पहुंचा रही हैं। ...
आगे पढ़ें
फिटनेस को लेकर महिलाएं आजकल काफी सजग हो गई हैं। वह मोटापा घटाने के लिए एक्सरसाइज के साथ जिम में भी खूब पसीना बहाती है। मगर जिम में वर्कआउट या एक्सरसाइज करते समय आपको बहुत-सी बातों का ध्यान रखना पड़ता है क्योंकि इस दौरान गई कुछ गलतियां आपको नुकसान भी ...
आगे पढ़ें
हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार दूधनाथ सिंह का निधनBookmark and Share

 हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार दूधनाथ सिंह नहीं रहे. उन्होंने ‘सभी मनुष्य हैं, ओ नारी, ख़ुश होना अनैतिक है, इस समाज में’ जैसी प्रसिद्ध रचनाएं लिखी हैं. उनके निधन से साहित्य समाज में शोक की लहर है. आज दोपहर दो बजे इलाहाबाद के रसूलाबाद घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

81 साल की उम्र में दूधनाथ सिंह ने अपने पैतृक शहर इलाहाबाद में देर रात 12 बजकर 6 मिनट पर आखिरी सांसें लीं. वो पिछले एक साल से कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से लड़ रहे थे.

 

दूधनाथ सिंह इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थे. रिटायर होने के बाद वो इलाहाबाद में ही रहते थे. दूधनाथ सिंह ने कविता, कहानी, नाटक, उपन्यास और आलोचना समेत लगभग सभी विधाओं में लेखन किया. उनके उपन्यास आखिरी कलाम, निष्कासन, नमो अंधकारम हैं. दूधनाथ सिंह भारतेंदु सम्मान, साहित्य भूषण सम्मान से सम्मानित थे.

दूधनाथ सिंह ऐसे लेखकों में से जिनके जाने से पूरा साहित्य जगत अंधकार मय हो गया है, उनकी कमी को पूरा नहीं किया जा सकता है.


दूधनाथ सिंह के निधन पर साहित्य जगत में शोक की लहर है. वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश ने अपने शिक्षक दूधनाथ सिंह के निधन पर उन्हें याद किया है. उन्होंने फेसबुक पर लंबा पोस्ट किया.


उर्मिलेश लिखा, "अभी-अभी उदय प्रकाश, वीरेंद्र यादव और सुनील की पोस्ट से पता चला, हमारे प्रिय लेखक और अध्यापक दूधनाथ सिंह जी नहीं रहे! उनकेे स्वास्थ्य को लेकर पूरा हिंदी जगत चिंतित था। सभी शुभ कामना दे रहे थे कि वह सकुशल अस्पताल से लौटें। पर कैंसर ने देश के एक महान् साहित्यकार को हमसे छीन लिया।
वह मेरे शिक्षक थे, शुभचिंतक और दोस्त भी! इलाहाबाद छोड़ने के बाद मेरी उनसे ज्यादा मुलाकातें नहीं हुईं पर दिलो-दिमाग में हमारे रिश्ते कभी खत्म नहीं हुए। उनसे फोन पर आखिरी बातचीत संभवतः डेढ़-दो साल पहले तब हुई थी, जब लखनऊ से प्रकाशित 'तद्भव' पत्रिका में गोरख पाण्डेय पर मेरा एक संस्मरणातमक लेख छपा। उन्होंने कहीं से मेरा नंबर खोजकर फोन किया और उस लेख के लिए बहुत खुशी जताई। कहने लगे, 'तुम्हें टीवी पर देखते हुए अच्छा लगता है, समझ और प्रतिबद्धता का वही तेवर है। अब वह ज्यादा प्रौढ़ता के साथ नजर आता है। ठीक है कि तुम पत्रकारिता में हो और अपने काम में ज्यादा व्यस्त रहते हो पर तुम्हें गैर-पत्रकारीय लेखन भी जारी रखना चाहिए। तुम्हारा यह लेख पढ़कर बहुत अच्छा लगा। गोरख पर अब तक का यह श्रेष्ठ संस्मरण है! सुना, तुमने कश्मीर पर भी अच्छा लिखा है। पर वह पढ़ने को नहीं मिला!'


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description