Today Visitor :
Total Visitor :


मध्य प्रदेश: दो मुर्गे बने सरकारी मेहमान, पुलिसकर्मी चुगा रहे दाना, जानें क्या है पूरा मामला      |      Bigg Boss 11 के बाद इस रिएलिटी शो में सलमान खान दिखाएंगे जलवा      |      पीएम मोदी का इजरायली कंपनियों को भारत में निवेश का न्योता      |      करारी हार के बाद प्रेस कॉन्फेंस में फूटा कप्तान कोहली का गुस्सा      |      प्रधानमंत्री मोदी, पीएम नेतन्याहू ने गुजरात में भव्य रोड शो के दौरान जमाया रंग      |      भारतीय हॉकी टीम से मिलने पहुंचे द्रविड़      |      बिग बॉस 11 की ट्रॉफी जीतने के तुरंत बाद शिल्पा शिंदे को मिला ये बड़ा ऑफर      |      अब हरिद्वार से 'हर द्वार' तक पतंजलि प्रोडक्ट्स, आठ ई-कॉमर्स वेबसाइट से हुआ करार      |      हज यात्रा के लिए अब नहीं मिलेगी सब्सिडी      |      MP में साढ़े चार हजार अवैध कालोनियां इसी साल होंगी वैध      |      विश्व कप 2019 के लिए वेस्टइंडीज के सामने 9 टीमों की चुनौती      |      राजधानी दिल्ली के हैदराबाद हाउस में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी औऱ इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के बीच द्विपक्षीय बातचीत हुई.      |      भारत-इजरायल के बीच हुए नौ समझौते      |      डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण करने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य      |      उच्च शिक्षण संस्थानों को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के प्रयास हो      |      क्रिकेट के मैदान पर ऑस्ट्रेलिया को एक ही दिन में मिली दो करारी हार      |      आलिया भट्ट और रणवीर सिंह की ‘गली बॉय’ की शूटिंग शुरू      |      दोनों देश के पीएम के ट्वीट्स से समझिए, भारत-इजराइल में कितने करीबी रिश्ते हैं      |      ऐसा होगा एयरपोर्ट, 7 मंजिला एटीसी टावर 2750 मीटर का रन-वे, 300 कारों की पार्किंग      |      इजराइल के पीएम के साथ बेबी मोशे भी आया भारत, मुंबई हमले से जुड़ा है जख्‍म      |      चीन के खिलाफ हमारा पलड़ा भारी, अब नहीं हैं 1962 युद्ध जैसे हालात- बिपिन रावत      |      INDvSA दूसरे टेस्ट में फिर से टॉस हारी टीम इंडिया, टीम में 3 बड़े बदलाव      |      इस स्कूल में पढ़ेंगे सैफ-करीना के छोटे नवाब तैमूर अली खान      |      विवाद के बीच आज राहुल गांधी से चुनाव पर चर्चा करेंगे कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया      |      हंगामे के बाद CM को छोड़नी पड़ी सभा, पुलिस को करनी पड़ी हवाई फायरिंग      |      विविध रंग कर्नाटक के      |      माउंट आबू: रेगिस्तान में हिल स्टेशन      |      स्वामी विवेकानंद के 8 अनमोल विचार      |      बेहतर तैयारी के साथ उतरेगी टीम इंडिया      |      सलमान खान ने जरीन खान को फिल्म '1921' के लिए दी शुभकामनाएं      |      

आनंद की बात

भारत के बागों का शहर (गार्डेन सिटी) के नाम से मशहूर बेंगलूर देश की सूचना तकनीकी राजधानी भी है।
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
नेपाल की सैर पर निकलें और पोखरा न जाए तो समझिए आपकी यात्रा अधूरी है। यूं तो पूरा नेपाल ही हिमालय की पर्वत श्रृंखलाओं और तराई में बसा है लेकिन पोखरा का नजारा इससे कुछ अलग है। ...
आगे पढ़ें
मध्य प्रदेश के दर्शनीय स्थलों में भीम बैठका महत्वपूर्ण स्थान है। प्रदेश की राजधानी भोपाल से यह स्थान लगभग 55 किमी. दूर है। भीम बैठका अपने शैल चित्रों और शैलाश्रयों के लिए प्रसिद्ध है। इनकी खोज वर्ष 1957-58 में डाक्टर विष्णु श्रीधर वाकणकर द्वारा की गई...
आगे पढ़ें
हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार दूधनाथ सिंह का निधनBookmark and Share

 हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार दूधनाथ सिंह नहीं रहे. उन्होंने ‘सभी मनुष्य हैं, ओ नारी, ख़ुश होना अनैतिक है, इस समाज में’ जैसी प्रसिद्ध रचनाएं लिखी हैं. उनके निधन से साहित्य समाज में शोक की लहर है. आज दोपहर दो बजे इलाहाबाद के रसूलाबाद घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

81 साल की उम्र में दूधनाथ सिंह ने अपने पैतृक शहर इलाहाबाद में देर रात 12 बजकर 6 मिनट पर आखिरी सांसें लीं. वो पिछले एक साल से कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से लड़ रहे थे.

 

दूधनाथ सिंह इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थे. रिटायर होने के बाद वो इलाहाबाद में ही रहते थे. दूधनाथ सिंह ने कविता, कहानी, नाटक, उपन्यास और आलोचना समेत लगभग सभी विधाओं में लेखन किया. उनके उपन्यास आखिरी कलाम, निष्कासन, नमो अंधकारम हैं. दूधनाथ सिंह भारतेंदु सम्मान, साहित्य भूषण सम्मान से सम्मानित थे.

दूधनाथ सिंह ऐसे लेखकों में से जिनके जाने से पूरा साहित्य जगत अंधकार मय हो गया है, उनकी कमी को पूरा नहीं किया जा सकता है.


दूधनाथ सिंह के निधन पर साहित्य जगत में शोक की लहर है. वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश ने अपने शिक्षक दूधनाथ सिंह के निधन पर उन्हें याद किया है. उन्होंने फेसबुक पर लंबा पोस्ट किया.


उर्मिलेश लिखा, "अभी-अभी उदय प्रकाश, वीरेंद्र यादव और सुनील की पोस्ट से पता चला, हमारे प्रिय लेखक और अध्यापक दूधनाथ सिंह जी नहीं रहे! उनकेे स्वास्थ्य को लेकर पूरा हिंदी जगत चिंतित था। सभी शुभ कामना दे रहे थे कि वह सकुशल अस्पताल से लौटें। पर कैंसर ने देश के एक महान् साहित्यकार को हमसे छीन लिया।
वह मेरे शिक्षक थे, शुभचिंतक और दोस्त भी! इलाहाबाद छोड़ने के बाद मेरी उनसे ज्यादा मुलाकातें नहीं हुईं पर दिलो-दिमाग में हमारे रिश्ते कभी खत्म नहीं हुए। उनसे फोन पर आखिरी बातचीत संभवतः डेढ़-दो साल पहले तब हुई थी, जब लखनऊ से प्रकाशित 'तद्भव' पत्रिका में गोरख पाण्डेय पर मेरा एक संस्मरणातमक लेख छपा। उन्होंने कहीं से मेरा नंबर खोजकर फोन किया और उस लेख के लिए बहुत खुशी जताई। कहने लगे, 'तुम्हें टीवी पर देखते हुए अच्छा लगता है, समझ और प्रतिबद्धता का वही तेवर है। अब वह ज्यादा प्रौढ़ता के साथ नजर आता है। ठीक है कि तुम पत्रकारिता में हो और अपने काम में ज्यादा व्यस्त रहते हो पर तुम्हें गैर-पत्रकारीय लेखन भी जारी रखना चाहिए। तुम्हारा यह लेख पढ़कर बहुत अच्छा लगा। गोरख पर अब तक का यह श्रेष्ठ संस्मरण है! सुना, तुमने कश्मीर पर भी अच्छा लिखा है। पर वह पढ़ने को नहीं मिला!'


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description