Today Visitor :
Total Visitor :


हार्दिक बोले, कई लोगों ने मप्र में आने पर केस लगाने की धमकी दी      |      कनाडा में सिख कट्टरपंथियों का मुद्दा उठा सकता है भारत      |      पीएनबी घोटाले पर बोले राहुल गांधी: कहां हैं 'न खाऊंगा, न खाने दूंगा' कहने वाला देश का चौकीदार      |      ‘दंगल’ के लिए कटवाए थे बाल, अब ‘ठग्स ऑफ हिंदोस्तान’ में इस लुक में नजर आएंगी फातिमा सना शेख      |      धोनी ने संभाली कमान और एक ओवर में बदल गया पूरा खेल      |      साउथ अफ्रीका ने टॉस जीतकर लिया गेंदबाजी का फैसला      |      विवेक दहिया ने समाज में बदलाव की पहल      |      बीजेपी के नए दफ्तर का उद्घाटन      |      त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में 74 फीसदी मतदान हुआ      |      ओला-वृष्टि से प्रभावित क्षेत्रों में व्यापक पैमाने पर राहत कार्य शुरू किये जायेंगे      |      आखिरी वनडे में 8 विकेट से जीत दर्ज की टीम इंडिया ने       |      सिनेमाघरों में धीमी पड़ी अक्षय की 'पैडमैन'      |      PNB घोटाला: बीजेपी ने किया कांग्रेस पर हमला      |      भारत-ईरान के बीच नौ क्षेत्रों में हुए समझौते      |      कांग्रेस की स्टीयरिंग कमेटी की बैठक      |      आखिरी वनडे मुकाबले में भारत को मिला 205 रनों का लक्ष्य      |      पिता को सम्मान पाता देख भीगीं थी दीपिका की पलकें, बोलीं- 'रोने में कोई शर्मिंदगी वाली बात नहीं'      |      पब्लिक ट्रांसपोर्ट फ्री करने की तैयारी में जर्मनी, अब बिना टिकट होगा बस-मेट्रो का सफर      |      राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद होंगे गोवा यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि      |      शिवराज सरकार को SC की फटकार- रेप पीड़िताओं को सिर्फ 6500 रुपये मुआवजा?      |      अच्छे प्रदर्शन के बावजूद मुझे टीम से बाहर कर दिया गया: सुरेश रैना      |      एक अच्छी अभिनेत्री के तौर पर पहचानी जाऊं: प्रिया प्रकाश वारियर      |      चीन ने पीएम मोदी के अरुणाचल दौरे का ‘कड़ा विरोध’ किया      |      अमित शाह ने किया बीजेपी के मिशन-2019 का आगाज      |      महाविद्यालयों में छात्राओं का स्वास्थ्य परीक्षण भी कराया जाये : राज्यपाल श्रीमती पटेल      |      फॉर्म में लौटे रोहित ने वेलेंटाइन डे पर पत्नी को दिया खास तोहफा      |      शिल्पा शिंदे को फैंस से मिला ऐसा प्यार, इमोशनल होकर लगीं रोने      |      बीजेपी को मिलेगा भरपूर समर्थन, त्रिपुरा में खिलेगा कमल: योगी आदित्यनाथ      |      दिन का तापमान चार डिग्री लुढ़का, कोहरे के कारण ट्रैफिक हुआ डायवर्ट      |      लड़कियों के बीयर पीने से जुड़ी मेरी टिप्पणी को तोड़ मरोड़कर पेश किया गया      |      

आनंद की बात

भारत के बागों का शहर (गार्डेन सिटी) के नाम से मशहूर बेंगलूर देश की सूचना तकनीकी राजधानी भी है।
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
नेपाल की सैर पर निकलें और पोखरा न जाए तो समझिए आपकी यात्रा अधूरी है। यूं तो पूरा नेपाल ही हिमालय की पर्वत श्रृंखलाओं और तराई में बसा है लेकिन पोखरा का नजारा इससे कुछ अलग है। ...
आगे पढ़ें
मध्य प्रदेश के दर्शनीय स्थलों में भीम बैठका महत्वपूर्ण स्थान है। प्रदेश की राजधानी भोपाल से यह स्थान लगभग 55 किमी. दूर है। भीम बैठका अपने शैल चित्रों और शैलाश्रयों के लिए प्रसिद्ध है। इनकी खोज वर्ष 1957-58 में डाक्टर विष्णु श्रीधर वाकणकर द्वारा की गई...
आगे पढ़ें
अरुण यादव बोले, मप्र में कांग्रेस की सरकार बनी तो सबसे पहले माफ होगा किसानों का कर्जBookmark and Share

 देवास जिले में ओलावृष्टि और बारिश के बाद राजस्व और कृषि विभाग के अमले ने फसल नुकसानी का सर्वे शुरू कर दिया है। मंगलवार दाेपहर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने खातेगांव क्षेत्र में दौरा कर ओलावृष्टि से बर्बाद हुई फसलों को देखा। यादव ने कहा कि कांग्रेस की सरकार आई तो सबसे पहले प्रदेश में किसानों के कर्ज माफी की योजना चलाई जाएगी।

 

 



- यादव क्षेत्रीय नेताओं के साथ दोपहर में खातेगांव पहुंचे और ओला प्रभावित क्षेत्रों का दौरान किया। वे इंदौर से बांई जगवाड़ा होते हुए खातेगांव पहुंचे यहां कार्यकर्ताओं के साथ वे बारिश में बर्बाद हुई फसलों को देखते खेत पर पहुंचे। वे लवरास, संदलपुर फांटा, दीपगांव, बचखाल, देवला, जियागांव, अमेली, गनोरा गांव पहुंचे और ओला प्रभावित किसानों से मिले। इसके बाद वे सीहोर के लिए रवाना हो गए।


- फसलों को देखने के बाद अरुण यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री पिछले 15 सालों से प्रदेश के अन्नदाताओं ने बस वादे ही करते आ रहे हैं। इतनी बार फसल नष्ट हुई, ओलावृष्टि हुई, लेकिन आज तक कई किसानों को मुआवजा नहीं मिला है। अब सीएम कह रहे हैं कि उत्पादन का भंडारण किया जाएगा, यदि भंडारण की व्यवस्था होती तो हमारी प्याज सड़क पर नहीं फिंकता। अभी भी पूरी तरह से फसलें नष्ट हो चुकी हैं, लेकिन सीएम अभी भी वादे ही कर रहे हैं।


- प्रदेश के किसानों को उचित दाम नहीं मिल रहा है। इसलिए यहां का किसान पूरे देश में सबसे ज्यादा कष्ट में है। हमने मांग की है कि कम से कम 50 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर के हिसाब से किसानों को मुआवजा मिले। यदि मप्र में कांग्रेस की सरकार आई तो सबसे पहले प्रदेश में किसानों के कर्ज माफी की योजना चलाई जाएगी। इसे लेकर हम एक फॉर्मेट भी बन रहा है। 


पाठको की राय
1
आपकी राय
Name
Email
Description