Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन की शुरुआत 9 अप्रैल से      |      गोविंदा हुए कोविड-19 नेगेटिव      |      प्रदेश के सभी शहरों में 9 अप्रैल शाम 6 बजे से 12 अप्रैल प्रात: 6 बजे तक लॉकडाउन      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने रोपा अशोक का पौधा      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा श्री बंकिमचंद्र चटर्जी को श्रद्धांजलि अर्पित      |      देश की पहली महिला क्रिकेट कमेंटेटर का निधन      |      शशिकला का 88 वर्ष की आयु में हुआ निधन      |      मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज स्मार्ट उद्यान में गुलमोहर का पौधा लगाया      |      प्रदेश के कृषि उत्पाद देश ही नहीं दुनिया में धूम मचायेंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      टीम इंडिया ने 2-1 से जीती वनडे सीरीज      |      रिया चक्रवर्ती ने सोशल मीडिया पर शेयर की फोटो      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने रोपा आम का पौधा      |      वैक्सीनेशन कोरोना से बचने का प्रभावी तरीका : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      जनधन का होना चाहिए सही उपयोग, गलत भुगतान किया तो छोडूंगा नहीं : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ टी20 में बनाया सबसे बड़ा स्कोर      |      आलिया भट्ट पूल में अंडर वाटर स्विमिंग करती आई नजर       |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सांसद श्री सिंधिया के साथ लगाए पौधे      |      क्षति का आकलन कर दी जाए सहायता : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीरांगना अवंति बाई लोधी की पुण्यतिथि पर किया नमन      |      विराट कोहली अपने साथी खिलाड़ी से हुए नाराज और मैदान पर ही दे डाली गाली      |      शिक्षा से बच्चों की श्रेष्ठ नैसर्गिक प्रतिभा का प्रगटीकरण होना चाहिए - मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      भोपाल और इंदौर में 17 मार्च से नाईट कर्फ्यू      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सप्तपर्णी का पौधा रोपा      |      ऑस्कर पहुंची प्रियंका चोपड़ा की फ़िल्म द व्हाइट टाइगर,      |      बीजेपी की कार्यसमिति में यूपी पंचायत चुनाव को लेकर तय हुई रणनीति      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गूलर का पौधा रोपा      |      जसप्रीत बुमराह ने संजना गणेशन के साथ रचाई शादी      |      छात्र-छात्राएँ सांस्कृतिक गतिविधियों में सक्रिय भूमिका निभाएँ : राज्य मंत्री परमार      |      रोहित शर्मा की क्या होगी वापसी      |      रणवीर सिंह ने दीपिका पादुकोण के साथ शेयर की फोटो      |      

आनंद की बात

दुनिया में अब तक 211597 लोगों की जान ले चुका है। अभी तक जितने शोध सामने आए हैं उनमें ये बात सामने आ चुकी है कि कुछ मरीजों में इस वायरस के शुरुआती लक्षण दिखाई नह
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य-दिव्य मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन तो बुधवार को होना है लेकिन इससे पहले मंगलवार को ही नए मॉडल की तस्वीर सामने आ गई है।... ...
आगे पढ़ें
भारतीय धर्म और संस्कृति में भगवान गणेशजी सर्वप्रथम पूजनीय और प्रार्थनीय हैं। ...
आगे पढ़ें
श्री गणेशजी का रहस्यBookmark and Share

भारतीय धर्म और संस्कृति में भगवान गणेशजी सर्वप्रथम पूजनीय और प्रार्थनीय हैं। उनकी पूजा के बगैर कोई भी मंगल कार्य शुरू नहीं होता। 
 
कोई उनकी पूजा के बगैर कार्य शुरू कर देता है तो किसी न किसी प्रकार के विघ्न आते ही हैं। सभी धर्मों में गणेश की किसी न किसी रूप में पूजा या उनका आह्वान किया ही जाता है।

* गणेश देव : वे अग्रपूज्य, गणों के ईश गणपति, स्वस्तिक रूप तथा प्रणव स्वरूप हैं। उनके स्मरण मात्र से ही संकट दूर होकर शांति और समृद्धि आ जाती है।
* माता-पिता : शिव और पार्वती। 
* भाई-बहन : कार्तिकेय और अशोक सुंदरी। 
*पत्नी : प्रजापति विश्वकर्मा की पुत्री ऋद्धि और सिद्धि।
*पुत्र : सिद्धि से 'क्षेम' और ऋद्धि से 'लाभ' नाम के दो पुत्र हुए। लोक-परंपरा में इन्हें ही शुभ-लाभ कहा जाता है।
*जन्म समय : अनुमानत: 9938 विक्रम संवत पूर्व भाद्रपद माह की चतुर्थी अर्थात आज से 12,016 वर्ष पूर्व।
*प्राचीन प्रमाण : दुनिया के प्रथम धर्मग्रंथ ऋग्वेद में भी भगवान गणेशजी का जिक्र है। ऋग्वेद में 'गणपति' शब्द आया है। यजुर्वेद में भी ये उल्लेख है।
*गणेश ग्रंथ : गणेश पुराण, गणेश चालीसा, गणेश स्तुति, श्रीगणेश सहस्रनामावली, गणेशजी की आरती, संकटनाशन गणेश स्तोत्र।
*गणेश संप्रदाय : गणेश की उपासना करने वाला सम्प्रदाय गाणपतेय कहलाते हैं।
*गणेशजी के 12 नाम : सुमुख, एकदन्त, कपिल, गजकर्णक, लम्बोदर, विकट, विघ्ननाशक, विनायक, धूम्रकेतु, गणाध्यक्ष, भालचन्द्र, विघ्नराज, द्वैमातुर, गणाधिप, हेरम्ब, गजानन।
*अन्य नाम : अरुणवर्ण, एकदन्त, गजमुख, लम्बोदर, अरण-वस्त्र, त्रिपुण्ड्र-तिलक, मूषकवाहन।
*गणेश का स्वरूप : वे एकदन्त और चतुर्बाहु हैं। अपने चारों हाथों में वे क्रमश: पाश, अंकुश, मोदक पात्र तथा वरमुद्रा धारण करते हैं। वे रक्तवर्ण, लम्बोदर, शूर्पकर्ण तथा पीतवस्त्रधारी हैं। वे रक्त चंदन धारण करते हैं।
*प्रिय भोग : मोदक, लड्डू
*प्रिय पुष्प : लाल रंग के
*प्रिय वस्तु : दुर्वा (दूब), शमी-पत्र
*अधिपति : जल तत्व के
*प्रमुख अस्त्र : पाश, अंकुश
*वाहन : मूषक
*गणेशजी का दिन : बुधवार।
*गणेशजी की तिथि : चतुर्थी।
*ग्रहाधिपति : केतु और बुध
*गणेश पूजा-आरती : केसरिया चंदन, अक्षत, दूर्वा अर्पित कर कपूर जलाकर उनकी पूजा और आरती की जाती है। उनको मोदक का लड्डू अर्पित किया जाता है। उन्हें रक्तवर्ण के पुष्प विशेष प्रिय हैं।