Today Visitor :
Total Visitor :


विराट कोहली और मीराबाई चानू को मिला खेल रत्न      |      वैस्टर्न पसंद हैं तो प्रियंका की ड्रेसेज से लें आइडियाज      |      सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी बरसी पर ‘पराक्रम पर्व’      |      दागी सांसदों पर SC का बड़ा फैसला      |      प्रधानमंत्री श्री मोदी का भोपाल विमान तल पर आत्मीय स्वागत      |      रोहित- शिखर ने तोड़ा वनडे में सहवाग और सचिन का सबसे पुराना रिकॉर्ड      |      'तारक मेहता का उलटा चश्मा' में होगी 'दयाबेन' की वापसी, फीस में भी हुई बढ़ोतरी      |       प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की पहली लाभार्थी बनी पूनम महतो,      |      भोपाल-इन्दौर मेट्रो रेल परियोजना के लिये 405 पद के सृजन की मंजूरी      |      ब्लूव्हेल के बाद मोमो गेम बना जानलेवा, CBSE ने सर्कुलर जारी कर स्कूलों को चेताया      |      आयुष्मान भारत एक नयी क्रांति- मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रेमपुरा घाट पर किया भगवान श्रीगणेश प्रतिमा का विसर्जन      |      पर्रिकर बने रहेंगे मुख्यमंत्री, कैबिनेट में बदलाव का ऐलान जल्द: अमित शाह      |      लगता है ओलांद का बयान राहुल को पहले से पता था, इसमें कुछ जुगलबंदी है: जेटली      |      पाक फैन ने गाया भारतीय राष्ट्रगान, कहा- शांति की ओर एक प्रयास      |      शूटिंग छोड़ मुम्बई पहुंचे रनबीर, आरके स्टूडियो की आखिरी गणेश पूजा में हुए शामिल      |      सिंधू और श्रीकांत की हार के साथ भारतीय चुनौती समाप्त      |      सिंपल या हैवी, चूज करें परफैक्ट नथ       |      छत्तीसगढ़ में शाह का दावा, तीनों राज्यों में बनेगी भाजपा सरकार      |      राफेल पर सरकार के झूठ का पर्दाफाश : कांग्रेस      |      जुन्नारदेव, परासिया में चालू की जायेंगी 6 नई खदानें : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      ऐसे 2 भारतीय गेंदबाज जिन्होंने ODI में अपनी पहली ही गेंद पर लिया विकेट      |      किम से कम नहीं अनूप की गर्लफ्रैंड जसलीन      |       जेट एयरवेज मामला: 5 यात्रियों को सुनाई देने में दिक्कत      |      ओडिशा में उवर्रक संयंत्र, हवाई अड्डे का उद्घाटन करेंगे PM      |      धान के समर्थन मूल्य पर इस वर्ष भी दिया जायेगा बोनस : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने श्रीलंका को 13 रनों से हरा दिया      |      शॉर्ट ड्रैसिज पहनने की शौकीन है तो आलिया से लीजिए Ideas      |      राहुल गांधी का पीएम मोदी पर हमला      |      जरूरतमंदों को समय पर मिले सरकारी योजनाओं का लाभ : राज्यपाल      |      

आनंद की बात

गणेश चतुर्थी आने वाली है। गणेश चतुर्थी पर मीठा बनाने की सोच रही हैं तो इस बार आप बप्पा को भोग लगाने के लिए गुड़ और नारियल से घर में ही मोदक तैयार कर सकती हैं। य
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
अगर कुछ ऐसा है, जिसके बिना भारतीय लड़कियों का मेकअप कंपलीट नहीं होता तो वह है काजल। इसके बिना लड़कियों का अपना मेकअप अधूरा लगता है। काजल आंखों की खूबसूरती तो बढ़ाने के साथ उसे अट्रैक्टिव भी दिखाता है। ऐसा में भला कोई लड़की काजल अप्लाई क्यों न करें ले ...
आगे पढ़ें
अंजीर मल्‍बेरी फैमिली का एक लोकप्रिय मौसमी फल है। अंजीर में बहुत से गुण पाए जाते हैं । भारत में इसे सूखे और ताजे दोनों तरह इस्तेमाल किया जाता है। अंजीर बैंगनी, हरे और अन्य कई रंगों में पाया जाता है।...
आगे पढ़ें
भारत के एतिहासिक स्थल

 सिद्घिविनायक गणेश जी का सबसे लोकप्रिय रूप है। गणेश जी जिन प्रतिमाओं की सूड़ दाईं तरह मुड़ी होती है, वे सिद्घपीठ से जुड़ी होती हैं और उनके मंदिर सिद्घिविनायक मंदिर कहलाते हैं। कहते हैं कि सिद्धि विनायक की महिमा अपरंपार है, वे भक्तों की मनोकामना को तुरंत पूरा करते हैं। मान्यता है कि ऐसे गणपति बहुत ही जल्दी प्रसन्न होते हैं और उतनी ही जल्दी कुपित भी होते हैं।

सिद्धि विनायक की दूसरी विशेषता यह है कि वह चतुर्भुजी विग्रह है। उनके ऊपरी दाएं हाथ में कमल और बाएं हाथ में अंकुश है और नीचे के दाहिने हाथ में मोतियों की माला और बाएं हाथ में मोदक (लड्डुओं) भरा कटोरा है। गणपति के दोनों ओर उनकी दोनो पत्नियां रिद्धि और सिद्धि मौजूद हैं जो धन, ऐश्वर्य, सफलता और सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करने का प्रतीक है। मस्तक पर अपने पिता शिव के समान एक तीसरा नेत्र और गले में एक सर्प हार के स्थान पर लिपटा है। सिद्धि विनायक का विग्रह ढाई फीट ऊंचा होता है और यह दो फीट चौड़े एक ही काले शिलाखंड से बना होता है।

यूं तो सिद्घिविनायक के भक्त दुनिया के हर कोने में हैं लेकिन महाराष्ट्र में इनके भक्त सबसे ज्यादा हैं। समृद्धि की नगरी मुंबई के प्रभा देवी इलाके का सिद्धिविनायक मंदिर उन गणेश मंदिरों में से एक है, जहां सिर्फ हिंदू ही नहीं, बल्कि हर धर्म के लोग दर्शन और पूजा-अर्चना के लिए आते हैं। हालांकि इस मंदिर की न तो महाराष्ट्र के 'अष्टविनायकों ’ में गिनती होती है और न ही 'सिद्ध टेक ’ से इसका कोई संबंध है, फिर भी यहां गणपति पूजा का खास महत्व है। महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के सिद्ध टेक के गणपति भी सिद्धिविनायक के नाम से जाने जाते हैं और उनकी गिनती अष्टविनायकों में की जाती है। महाराष्ट्र में गणेश दर्शन के आठ सिद्ध ऐतिहासिक और पौराणिक स्थल हैं, जो अष्टविनायक के नाम से प्रसिद्ध हैं। लेकिन अष्टविनायकों से अलग होते हुए भी इसकी महत्ता किसी सिद्ध-पीठ से कम नहीं।

 

आमतौर पर भक्तगण बाईं तरफ मुड़ी सूड़ वाली गणेश प्रतिमा की ही प्रतिष्ठापना और पूजा-अर्चना किया करते हैं। कहने का तात्पर्य है कि दाहिनी ओर मुड़ी गणेश प्रतिमाएं सिद्ध पीठ की होती हैं और मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर में गणेश जी की जो प्रतिमा है, वह दाईं ओर मुड़े सूड़ वाली है। यानी यह मंदिर भी सिद्ध पीठ है।

किंवदंती है कि इस मंदिर का निर्माण संवत् १६९२ में हुआ था। मगर सरकारी दस्तावेजों के मुताबिक इस मंदिर का १९ नवंबर १८०१ में पहली बार निर्माण हुआ था। सिद्धि विनायक का यह पहला मंदिर बहुत छोटा था। पिछले दो दशकों में इस मंदिर का कई बार पुनर्निर्माण हो चुका है। हाल ही में एक दशक पहले १९९१ में महाराष्ट्र सरकार ने इस मंदिर के भव्य निर्माण के लिए २० हजार वर्गफीट की जमीन प्रदान की। वर्तमान में सिद्धि विनायक मंदिर की इमारत पांच मंजिला है और यहां प्रवचन ग्रह, गणेश संग्रहालय व गणेश विापीठ के अलावा दूसरी मंजिल पर अस्पताल भी है, जहां रोगियों की मुफ्त चिकित्सा की जाती है। इसी मंजिल पर रसोईघर है, जहां से एक लिफ्ट सीधे गर्भग्रह में आती है। पुजारी गणपति के लिए निर्मित प्रसाद व लड्डू इसी रास्ते से लाते हैं।

नवनिर्मित मंदिर के 'गभारा ’ यानी गर्भग्रह को इस तरह बनाया गया है ताकि अधिक से अधिक भक्त गणपति का सभामंडप से सीधे दर्शन कर सकें। पहले मंजिल की गैलरियां भी इस तरह बनाई गई हैं कि भक्त वहां से भी सीधे दर्शन कर सकते हैं। अष्टभुजी गर्भग्रह तकरीबन १० फीट चौड़ा और १३ फीट ऊंचा है। गर्भग्रह के चबूतरे पर स्वर्ण शिखर वाला चांदी का सुंदर मंडप है, जिसमें सिद्धि विनायक विराजते हैं। गर्भग्रह में भक्तों के जाने के लिए तीन दरवाजे हैं, जिन पर अष्टविनायक, अष्टलक्ष्मी और दशावतार की आकृतियां चित्रित हैं।

वैसे भी सिद्धिविनायक मंदिर में हर मंगलवार को भारी संख्या में भक्तगण गणपति बप्पा के दर्शन कर अपनी अभिलाषा पूरी करते हैं। मंगलवार को यहां इतनी भीड़ होती है कि लाइन में चार-पांच घंटे खड़े होने के बाद दर्शन हो पाते हैं। हर साल गणपति पूजा महोत्सव यहां भाद्रपद की चतुर्थी से अनंत चतुर्दशी तक विशेष समारोह पूर्वक मनाया जाता है।

अन्य सुर्खिया
- सिद्धिविनायक मंदिर, मुंबई 13-Sep-18
- भगवान कृष्ण की जन्मभूमि मथुरा 03-Sep-18
- हरमंदिर साहिब , अमृतसर 11-Aug-18
- भारत की रहस्यमयी गुफाएं 08-Jul-18
- जगन्नाथ मंदिर से जुड़ी ये 10 रहस्यमयी बातें 24-Jun-18
- अलिबाग 29-May-18
- ओरछा 02-Apr-18
- चमत्कारिक मेहंदीपुर बालाजी मंदिर 30-Mar-18
- हनुमान जी की अध्ययन करती हुई तस्वीर लगाएं 30-Mar-18
- अंडमान और निकोबार 24-Mar-18
- काली माता मंदिर 18-Mar-18
- बांके बिहारी जी मन्दिर 02-Mar-18
- माउंट आबू: रेगिस्तान में हिल स्टेशन 12-Jan-18
- अक्सा बीच ,मुम्बई 09-Dec-17
- कन्‍याकुमारी 20-Nov-17
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...