Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


आशा नेगी अनुराग बासु की फिल्म मेट्रो 2 से रखेंगी बॉलीवुड में कदम      |      शांडिल्य महाराज की पालकी यात्रा में शामिल हुए मंत्री श्री शर्मा      |      पाक से अब सिर्फ पीओके पर बात होगी: राजनाथ      |      मस्सों से आप भी हैं परेशान तो ये उपाय आएंगे बेहद काम      |      उत्कृष्ट सेवाओं के लिये सम्मानित व्यक्ति इतिहास बनाता है : राज्यपाल श्री टंडन      |      राजभवन में स्वतंत्रता दिवस पर हुआ स्वागत समारोह       |      मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने 63 कर्तव्यनिष्ठ अधिकारियों को प्रदान किए राष्ट्रपति पदक      |      धमाकेदार विदाईः आखिरी मुकाबले में भी दिखाया 'गेल वाला क्रिकेट      |      सशस्त्र सेना बलों में युवाओं की भागीदारी बढ़ाने के प्रयास होंगे : मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ       |      रक्षा बंधन पर पाएं सेलेब्स जैसा क्लासी लुक      |      स्‍वतंत्रता दिवस पर सुनिए कुमार विश्‍वास की कविता       |      स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया देश को संबोधित, तीन तलाक-370 का किया जिक्र      |      भारत की आजादी के लिए क्यों चुनी गई 15 अगस्त की तारीख?      |      महिला टी20 क्रिकेट को बर्मिंघम 2022 कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में किया गया शामिल      |      बटला हाउस की रिलीज को दिल्ली हाईकोर्ट से मिली हरी झंडी      |      विधान की मूल भावना है सभी वर्गों को न्याय मिले      |      राजभवन में स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर कवि सम्मेलन       |      जियो के 'फर्स्ट डे फर्स्ट शो' सर्विस से क्या डरे हुए हैं मल्टीप्लेक्स मालिक?      |      मौसम विज्ञान विभाग की तरफ से देश के हर राज्य में अच्छी बारिश की आशंका जताई       |      वीरेंद्र सहवाग बोले- मुझे सलेक्टर बनना है      |      दिशा वकानी की वापसी पर नया ट्विस्ट,दिलीप जोशी ने किया खुलासा      |      मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने सुश्री मेघा परमार को बधाई दी      |      जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान घबराया हुआ      |      विराट कोहली शतक ठोककर आउट      |      शिवानी शिवाजी रॉय के रूप मे नजर आईं रानी      |      मंत्री श्री शर्मा द्वारा 20 लाख के विकास कार्यों का भूमि-पूजन      |      राज्यपाल श्री लालजी टंडन का प्रदेश में पहला स्वतंत्रता दिवस      |      अमित शाह ने कर्नाटक में बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया      |      मंत्री श्री शर्मा ने छात्र-संघ को दिलाई शपथ      |      मैरीकाॅम के सिलेक्शन पर खेल मंत्रालय ने बॉक्सिंग फेडरेशन से जवाब मांगा      |      

आनंद की बात

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) हर साल 15 अगस्त को मनाया जाता है. 15 अगस्त (15 August) 1947 को भारत को अंग्रेजों के शासन से आजादी मिली थी और यही कारण है कि
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
भारत में 15 अगस्त बहुत उत्साह और गौरव के साथ मनाया जाता है। 15 अगस्त 1947 को भारत को अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी। तब से हमारे देश में हर वर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। ...
आगे पढ़ें
कल देश आजादी की सालगिरह के जश्न के साथ-साथ रक्षाबंधन का त्योहार भी मनाएगा। भाई और बहन के लिए ये सबसे बड़ा त्योहार है।...
आगे पढ़ें
प्रमुख लोक नृत्य

 

 

 

 


लोकगीतों में माँ का दुलार,पिता का प्यार, सब कुछ तो था।
विड़म्बना वश आज लोकगीत बहुत कम बनने और बजने लगे हैं, लोकगीत हमारी संस्कृति के रंगों और त्योहार की उमंग लिए, हमेशा से हमारे जीवन में मौजूद रहे,हमारी खु़शियों, हमारे ग़मों को हर बार शब्द देते रहे।

नन्ही परी का घर में आना हो, या फिर, बाबुल के घर से बिटिया की डोली का उठना, लोकगीत हर भावना और रिश्तों के साथ आपको मोजूद मिलेंगे,ऐसे वक़्त में हमारे भावों और जज़्बात को, लोक गीत ही शब्द दे पाते हैं और इस तरह लोक गीत रिश्तों के गीत बन जाते हैं,











 

अगर बात करें लोकगीतों में प्रयोग होने वाले वाद्यों की, तो हर राज्य के अपने-अपने अलग वाद्य रहे, जिन्हें लोकगीतों में अकसर प्रयोग किया जाता रहा,और ये वाद्य इन गीतों को एक अलग ही रंग में रंगते चले गए । कहीं बाँसुरी,तो कहीं हारमोनियम, चिमटा, ढ़ोलक ,और उस ढ़ोलक पर ज़ोर ज़ोर से थपकाने के तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाला चम्मच। ढ़ोलक की थाप ख़ुशी का एहसास करा जाती,और पूरे आस पड़ोस को इस बात का अंदाज़ा हो जाता, कि किसी के घर में ख़ुशियाँ…. दस्तक दे रही हैं……



यहाँ तक कि घर के बर्तनों को भी कई बार वाद्यों के साथ इस्तेमाल कर लिया जाता, जैसे घर में मिलने वाली पीतल की गागर.........






लोकगीत ज़बान पर इस क़दर चढ़ जाते हैं कि, भले ही उनके शब्द हमें याद ना रहे, पर उनकी धुन हमारे ज़हन में रच बस जाती है । और जब कभी घर में कोई पावन पर्व होता,जिसमें घर की महिलाएँ उन गीतों को गातीं, तो बच्चे, बूढ़े ,जवान सभी, उन गीतों के साथ जुड़ से जाते ।इसी तरह लोकगीतों की ये परम्परा एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक जा पाती ।
पर आज, जैसे मानो लोक गीतों की तरह इस परम्परा के भी पाँव थम से गए हों ।
 
जन्म से लेकर मृत्यु तक के तमाम संस्कार में से एक, विवाह संस्कार ,एक ऐसा मौक़ा जहाँ रस्म है रिवाज है ,जिसमें गाना है नाच,और धमाल है ।इन सब के साथ है लोकगीत,
अगर बात करें उत्तर प्रदेश के लोकगीतों ख़ास तौर से विवाह गीतों की तो,मेहंदी, सेहरा,कंगना, बन्ना,बन्नी,बिदाई,
ये तमाम शब्द इन लोकगीतों में समाये हैं। ब्रज अवधी,खड़ी बोली का मिश्रण आप इन लोक गीतों में साफ़ तौर पर देख पाते हैं।
इन गीतों में इस्तेमाल होने वाले साज़ों की बात करें तो शुरुआत होती है शहनाई से, और साथ गाए जाते हैं मंगल गीत,जिसमें मूल तत्व होता है बन्नी(दुलहन) के वस्त्रों का, आभूषणों का विवरण करना, उसकी सुंदरता का वर्णन करना, घरवालों की खु़शी का बयान, बन्ने (दूलहे) की वेशभूषा का गुणगान करना, बारातियों का स्वागत,बदाई का आदान प्रदान और दूल्हे के आने की ख़बर कुछ इस तरह से देना






अपने बच्चों की शादी का मोक़ा कई मायनों में ख़ास होता है, जीवन के कुछ ख़ास पलों में से एक पल । माँ
, जब अपने बेटे को दूल्हे (बन्ने ) के रुप में देखती है तो उसकी खु़शी का ठिकाना नहीं रहता....और तब वो एहसास लोकगीतों के माद्यम से तरंगित होते हैं........


 
और जब दूल्हा आ जाए तो उससे और बारातियों से थोड़ा हँसी मज़ाक़, कुछ छेड़छाड़ न हो तो शादी का मज़ा भला पूरा कहाँ से होगा ...? और थोड़ी छे़डछाड़ कुछ इस तरह से......




 
लोकगीतों में जहाँ एक ओर हँसी मज़ाक़,छेड़छाड़, रिश्तों की गहराई होती, वहीं जीवन की समझ,उसकी हक़ीक़त भी आसानी से ब्याँ कर दी जाती ।




लोकगीत किसी क़ीमती आभूषण की तरह हैं, जिन्हें प्रयोग में लाने के कुछ समय बाद, जब फिर से सुना जाए, तो भी वही आकर्षण, वही जोश लिए होते हैं।

ये लोकगीतों की ताक़त
, उनकी अहमियत ही कही जाएगी कि, कई संगीतकारों ने अपने संगीत में लोकगीतों, या लोकधुनों का ख़ूब इस्तेमाल किया । ऐसे संगीतकारों में चितलकर, नौशाद साहब,ओ.पी नैयर,ख़य्याम जैसे नाम शामिल रहे । कुछ ऐसे फ़िल्मी गीत भी रहे, जो लोकधुनों, शब्दों, के चलते अलग ही बन पड़े हों

लोक धुनों पर आधारित ये गीत कुछ अलग समा बांध देते हैं,हमारी आँखों के आगे उस राज्य,क्षेत्र की तस्वीर बरबस ही बनने लगती है । जैसे की इस गीत को सुनकर,
ऐसा लगता है मानो कि रेगिस्तान की तपती रेत पर क़दमों के कुछ निशान छोड़ती एक औरत चलती जा रही है.......।


ये धुन फिल्म सिलसिला के इस गीत की याद नहीं दिलाता

 
आज हमारे सिनेमा से गाँव, वहाँ के रिवाज और साथ ही लोकगीत .....दूर हो चले हैं, और कभी-कभी तो लोकगीतों के नाम पर ओछापन तक परोसा जाता है ।
पर जब कभी लोकगीतों की झलक लिए कोई गीत सुनाई देता है तो उसे पसंद ज़रुर किया जाता है...
लोकगीत, त्यौहारों,परम्पराओं को समझने और उन्हें जीवित रखने का एक ज़रिया हैं।फिर चाहे होली की उमंग हो या बैसाखी का धमाल



अपनी इस कोशिश में कितने कामयाब रहे ,ये जानने का बेसब्री से इंतज़ार रहेगा...।(अनुशुमान भैया का शुक्ररिया कुछ चित्रों को बांटने के लिए,कुछ गीत indianraga से लिए गए हैं)



यहाँ भी लोक रंग बिखरे पड़े हैं



अगर आप कोई सुझाव,या कुछ जोड़ना चाहते हैं,कोई जानकारी जो हमारी परम्परा को दर्शाती हो या कोई लोक गीत जिसे आप मुझ तक पहुँचा सकें तो आप इस ई-मेल पर भेज सकते हैं
vikaszutshisn@rediffmail.com

जाते -जाते इस शख़्स से भी मिल लीजिये जिसने बिसरे साज़ों को सहेजने का संकल्प ले रखा है

अन्य सुर्खिया
- लोक गीत 03-Dec-12
- लोकनृत्य 25-Aug-12
- Lok Nrty 06-Mar-12
- प्रमुख लोक नृत्य 25-Feb-12
- पपीते खाने के फायदे 27-Sep-11
1