Today Visitor :
Total Visitor :


फीफा वर्ल्ड कप 2018-तोते की भविष्यवाणी- जापान नहीं जीत पाएगा अपना पहला मुकाबला      |      पापा के साथ मजबूती से खड़ी रहती हूं : दीपिका पादुकोण      |      ट्रेन हुई लेट तो यात्रियों के लिए फ्री खाने-पीने की व्यवस्था करेगा रेलवे      |      पंजाब की एलिजा बंसल ने किया टॉप      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान केन्द्रीय वित्त मंत्री श्री पीयूष गोयल से मिले      |      पसीने की बदबू से हैं परेशान तो इन घरेलू तरीकों      |      राज्यपाल श्रीमती पटेल पहुँची टिमरनी आँगनवाड़ी केन्द्र; बच्चों से की बातचीत      |      सार्बिया ने कोस्‍टा रिका को 1-0 से हराया      |      गाड़ी से कूड़ा फेंकने वाले शख्स ने माफी मांगते हुए कहा- अनुष्का थोड़ी तहजीब सीख लो      |      नीति आयोग की बैठक में राज्यों ने रखी मांग      |      Father's Day पर गूगल ने बनाया डूडल      |      आइसलैंड के गोलकीपर ने नहीं चलने दिया मेसी का जादू      |      'पलटन' में दिखेंगी दीपिका      |      प्रधानमंत्री ने आरएसएस, बीजेपी पदाधिकारियों के रात्रिभोज की मेजबानी की      |      दिल्ली वालों को आज होने वाली बारिश से मिल सकती है राहत      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ईदगाह पहुँच कर दी ईद की शुभकामनाएँ      |      रूस के खिलाफ मिली हार के बाद मुश्किल में सऊदी अरब      |      आज रिलीज हुई फिल्म 'रेस 3'       |      CIA ने वीएचपी, बजरंग दल को बताया 'धार्मिक आतंकी संगठन'      |      कल देशभर में मनाई जाएगी ईद      |      गाँव, गरीब और किसान की बेहतरी में नियम-कानून बाधक नहीं होंगे : मुख्यमंत्री      |      फीफा वर्ल्ड कप 2018 रूस ने किया दूसरा गोल      |      राज ठाकरे का मुंबईकरों को बर्थडे ऑफर      |      संजीव श्रीवास्तव ने सलमान खान के शो 'दस का दम' में दिखाया अपना किलर स्टेप      |      केला उत्पादक किसानों को देय मुआवजा राशि में होगी साढ़े सात गुना वृद्धि      |      बारिश से असम, त्रिपुरा-मणिपुर में आई भारी बाढ़      |      विश्वकप फुटबाल -स्पेन के कोच लोपेतेगुई की छुट्टी      |      'बदला' की शूटिंग तापसी पन्नू ने शुरू की      |      पूर्व पीएम वाजपेयी की सेहत में लगातार सुधार      |      ताज होटल में आज कांग्रेस ने इफ्तार पार्टी दी      |      

आनंद की बात

गर्मियों के मौसम में पसीना आना एक आम समस्या है। मगर कुछ लोगों की पसीने की स्मैल इतनी गंदी होती है। उसके पास बैठना भी मुश्किल हो जाता है। इस समस्या के कारण कई बा
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
गलत खान-पान के कारण लोगों की हेल्थ प्रॉब्लम्स भी बढ़ती जा रही है। जिसके कारण लोगों को हर तीसरे दिन अस्पतालों में चक्कर निकालने पड़ रहे हैं। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसे पौधे के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे इस्तेमाल करके आप घर पर कई समस्याओं से छुटकारा ...
आगे पढ़ें
गर्मी के तपते मौसम में खुद का ख्याल रखना बहुत जरूरी है। खान-पान में जरा-सी गड़बड़ी होने पर सेहत से संबंधित बहुत-सी परेशानियां होने लगती हैं। इस मौसम में लोगों को सबसे ज्यादा जिस समस्या का सामना करना पड़ता है, वह है शरीर में गर्मी पड़ना। शरीर यानि पेट...
आगे पढ़ें
प्रमुख लोक नृत्य

 

 

 

 


लोकगीतों में माँ का दुलार,पिता का प्यार, सब कुछ तो था।
विड़म्बना वश आज लोकगीत बहुत कम बनने और बजने लगे हैं, लोकगीत हमारी संस्कृति के रंगों और त्योहार की उमंग लिए, हमेशा से हमारे जीवन में मौजूद रहे,हमारी खु़शियों, हमारे ग़मों को हर बार शब्द देते रहे।

नन्ही परी का घर में आना हो, या फिर, बाबुल के घर से बिटिया की डोली का उठना, लोकगीत हर भावना और रिश्तों के साथ आपको मोजूद मिलेंगे,ऐसे वक़्त में हमारे भावों और जज़्बात को, लोक गीत ही शब्द दे पाते हैं और इस तरह लोक गीत रिश्तों के गीत बन जाते हैं,











 

अगर बात करें लोकगीतों में प्रयोग होने वाले वाद्यों की, तो हर राज्य के अपने-अपने अलग वाद्य रहे, जिन्हें लोकगीतों में अकसर प्रयोग किया जाता रहा,और ये वाद्य इन गीतों को एक अलग ही रंग में रंगते चले गए । कहीं बाँसुरी,तो कहीं हारमोनियम, चिमटा, ढ़ोलक ,और उस ढ़ोलक पर ज़ोर ज़ोर से थपकाने के तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाला चम्मच। ढ़ोलक की थाप ख़ुशी का एहसास करा जाती,और पूरे आस पड़ोस को इस बात का अंदाज़ा हो जाता, कि किसी के घर में ख़ुशियाँ…. दस्तक दे रही हैं……



यहाँ तक कि घर के बर्तनों को भी कई बार वाद्यों के साथ इस्तेमाल कर लिया जाता, जैसे घर में मिलने वाली पीतल की गागर.........






लोकगीत ज़बान पर इस क़दर चढ़ जाते हैं कि, भले ही उनके शब्द हमें याद ना रहे, पर उनकी धुन हमारे ज़हन में रच बस जाती है । और जब कभी घर में कोई पावन पर्व होता,जिसमें घर की महिलाएँ उन गीतों को गातीं, तो बच्चे, बूढ़े ,जवान सभी, उन गीतों के साथ जुड़ से जाते ।इसी तरह लोकगीतों की ये परम्परा एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक जा पाती ।
पर आज, जैसे मानो लोक गीतों की तरह इस परम्परा के भी पाँव थम से गए हों ।
 
जन्म से लेकर मृत्यु तक के तमाम संस्कार में से एक, विवाह संस्कार ,एक ऐसा मौक़ा जहाँ रस्म है रिवाज है ,जिसमें गाना है नाच,और धमाल है ।इन सब के साथ है लोकगीत,
अगर बात करें उत्तर प्रदेश के लोकगीतों ख़ास तौर से विवाह गीतों की तो,मेहंदी, सेहरा,कंगना, बन्ना,बन्नी,बिदाई,
ये तमाम शब्द इन लोकगीतों में समाये हैं। ब्रज अवधी,खड़ी बोली का मिश्रण आप इन लोक गीतों में साफ़ तौर पर देख पाते हैं।
इन गीतों में इस्तेमाल होने वाले साज़ों की बात करें तो शुरुआत होती है शहनाई से, और साथ गाए जाते हैं मंगल गीत,जिसमें मूल तत्व होता है बन्नी(दुलहन) के वस्त्रों का, आभूषणों का विवरण करना, उसकी सुंदरता का वर्णन करना, घरवालों की खु़शी का बयान, बन्ने (दूलहे) की वेशभूषा का गुणगान करना, बारातियों का स्वागत,बदाई का आदान प्रदान और दूल्हे के आने की ख़बर कुछ इस तरह से देना






अपने बच्चों की शादी का मोक़ा कई मायनों में ख़ास होता है, जीवन के कुछ ख़ास पलों में से एक पल । माँ
, जब अपने बेटे को दूल्हे (बन्ने ) के रुप में देखती है तो उसकी खु़शी का ठिकाना नहीं रहता....और तब वो एहसास लोकगीतों के माद्यम से तरंगित होते हैं........


 
और जब दूल्हा आ जाए तो उससे और बारातियों से थोड़ा हँसी मज़ाक़, कुछ छेड़छाड़ न हो तो शादी का मज़ा भला पूरा कहाँ से होगा ...? और थोड़ी छे़डछाड़ कुछ इस तरह से......




 
लोकगीतों में जहाँ एक ओर हँसी मज़ाक़,छेड़छाड़, रिश्तों की गहराई होती, वहीं जीवन की समझ,उसकी हक़ीक़त भी आसानी से ब्याँ कर दी जाती ।




लोकगीत किसी क़ीमती आभूषण की तरह हैं, जिन्हें प्रयोग में लाने के कुछ समय बाद, जब फिर से सुना जाए, तो भी वही आकर्षण, वही जोश लिए होते हैं।

ये लोकगीतों की ताक़त
, उनकी अहमियत ही कही जाएगी कि, कई संगीतकारों ने अपने संगीत में लोकगीतों, या लोकधुनों का ख़ूब इस्तेमाल किया । ऐसे संगीतकारों में चितलकर, नौशाद साहब,ओ.पी नैयर,ख़य्याम जैसे नाम शामिल रहे । कुछ ऐसे फ़िल्मी गीत भी रहे, जो लोकधुनों, शब्दों, के चलते अलग ही बन पड़े हों

लोक धुनों पर आधारित ये गीत कुछ अलग समा बांध देते हैं,हमारी आँखों के आगे उस राज्य,क्षेत्र की तस्वीर बरबस ही बनने लगती है । जैसे की इस गीत को सुनकर,
ऐसा लगता है मानो कि रेगिस्तान की तपती रेत पर क़दमों के कुछ निशान छोड़ती एक औरत चलती जा रही है.......।


ये धुन फिल्म सिलसिला के इस गीत की याद नहीं दिलाता

 
आज हमारे सिनेमा से गाँव, वहाँ के रिवाज और साथ ही लोकगीत .....दूर हो चले हैं, और कभी-कभी तो लोकगीतों के नाम पर ओछापन तक परोसा जाता है ।
पर जब कभी लोकगीतों की झलक लिए कोई गीत सुनाई देता है तो उसे पसंद ज़रुर किया जाता है...
लोकगीत, त्यौहारों,परम्पराओं को समझने और उन्हें जीवित रखने का एक ज़रिया हैं।फिर चाहे होली की उमंग हो या बैसाखी का धमाल



अपनी इस कोशिश में कितने कामयाब रहे ,ये जानने का बेसब्री से इंतज़ार रहेगा...।(अनुशुमान भैया का शुक्ररिया कुछ चित्रों को बांटने के लिए,कुछ गीत indianraga से लिए गए हैं)



यहाँ भी लोक रंग बिखरे पड़े हैं



अगर आप कोई सुझाव,या कुछ जोड़ना चाहते हैं,कोई जानकारी जो हमारी परम्परा को दर्शाती हो या कोई लोक गीत जिसे आप मुझ तक पहुँचा सकें तो आप इस ई-मेल पर भेज सकते हैं
vikaszutshisn@rediffmail.com

जाते -जाते इस शख़्स से भी मिल लीजिये जिसने बिसरे साज़ों को सहेजने का संकल्प ले रखा है

अन्य सुर्खिया
- लोक गीत 03-Dec-12
- लोकनृत्य 25-Aug-12
- Lok Nrty 06-Mar-12
- प्रमुख लोक नृत्य 25-Feb-12
- पपीते खाने के फायदे 27-Sep-11
1