Put your alternate content here
Today Visitor :
Total Visitor :


ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के खिलाफ क्या थी टीम इंडिया की रणनीति      |      क्रिकेटर मोहम्मद सिराज को पिता की कब्र पर देख भावुक हुए धर्मेंद्र      |      अच्छी सोच और स्वास्थ्य के लिए जरूरी है खेल: राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की उदगम स्थल पर माँ नर्मदा की पूजा अर्चना      |      माँ नर्मदा के आशीर्वाद से मध्यप्रदेश में आती है सुख- समृद्धि : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      लसिथ मलिंगा ने कर दी संन्यास की घोषणा      |      सुशांत सिंह राजपूत के जन्मदिन से पहले फैंस ने किया दिवंगत एक्टर को याद      |      पात्र शासकीय सेवकों को शीघ्र दी जाए पदोन्नति : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      प्रदेश में कोरोना टीकाकरण का कार्य सुचारू      |      प्रदेश में लैंड टाइटलिंग के लिए कानून बनाया जाएगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      भारतीय क्रिकेट फैन पर सिडनी में सुरक्षाकर्मी ने की थी नस्ली टिप्पणी      |      नोरा फतेही ने सोशल मीडिया पर शेयर की दिलचस्प तस्वीरें      |      सीवरेज परियोजनाओं का कार्य तीव्र गति से किया जाए      |      स्वदेशी वैक्सीन का निर्माण गर्व का विषय : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      सिंगरौली में 2024 तक हर गरीब को मिलेंगे पक्के आवास : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      नवदीप सैनी गेंदबाजी करते हुए अचानक से इंजर्ड हो गए      |      अभिनेत्री प्रणिता सुभाष ने राम मंदिर निर्माण के लिए दिए एक लाख      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान सिंगरौली से करेंगे प्रदेश में कोरोना वैक्सीन टीकाकरण का शुभारंभ      |      मुरैना कलेक्टर, एस.पी. को हटाने के निर्देश      |      वन्यप्राणी संरक्षण और विकास में संतुलन हो : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      भारतीय टीम का चौथे टेस्ट में कैसा होगा प्लेइंग इलेवन      |      अनूप जलोटा ने अपनाया सत्य साईं बाबा का भेष      |      भोपाल आयी कोरोना वैक्सीन      |      डॉ. कुँवर बैचेन एवं डॉ. शिवओम अम्‍बर को राष्‍ट्रीय कवि प्रदीप सम्‍मान      |      राज्यमंत्री श्री परमार ने किया उमंग किशोर हेल्पलाइन की वीडियो फिल्म का विमोचन      |      रहाणे की कप्तानी का कायल हुआ यह ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर      |      कार्तिक आर्यन ने 10 दिनों में पूरी की फिल्म 'धमाका' की शूटिंग      |      जरूरत के अनुसार ही बनायें विद्युत उप-केन्द्र, इनकी पूरी क्षमता का हो उपयोग      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने युवा दिवस पर स्वामी विवेकानंद को नमन किया      |      श्री महाकाल विकास योजना को मंजूरी      |      

आनंद की बात

दुनिया में अब तक 211597 लोगों की जान ले चुका है। अभी तक जितने शोध सामने आए हैं उनमें ये बात सामने आ चुकी है कि कुछ मरीजों में इस वायरस के शुरुआती लक्षण दिखाई नह
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य-दिव्य मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन तो बुधवार को होना है लेकिन इससे पहले मंगलवार को ही नए मॉडल की तस्वीर सामने आ गई है।... ...
आगे पढ़ें
भारतीय धर्म और संस्कृति में भगवान गणेशजी सर्वप्रथम पूजनीय और प्रार्थनीय हैं। ...
आगे पढ़ें
प्रमुख लोक नृत्य

 

 

 

 


लोकगीतों में माँ का दुलार,पिता का प्यार, सब कुछ तो था।
विड़म्बना वश आज लोकगीत बहुत कम बनने और बजने लगे हैं, लोकगीत हमारी संस्कृति के रंगों और त्योहार की उमंग लिए, हमेशा से हमारे जीवन में मौजूद रहे,हमारी खु़शियों, हमारे ग़मों को हर बार शब्द देते रहे।

नन्ही परी का घर में आना हो, या फिर, बाबुल के घर से बिटिया की डोली का उठना, लोकगीत हर भावना और रिश्तों के साथ आपको मोजूद मिलेंगे,ऐसे वक़्त में हमारे भावों और जज़्बात को, लोक गीत ही शब्द दे पाते हैं और इस तरह लोक गीत रिश्तों के गीत बन जाते हैं,











 

अगर बात करें लोकगीतों में प्रयोग होने वाले वाद्यों की, तो हर राज्य के अपने-अपने अलग वाद्य रहे, जिन्हें लोकगीतों में अकसर प्रयोग किया जाता रहा,और ये वाद्य इन गीतों को एक अलग ही रंग में रंगते चले गए । कहीं बाँसुरी,तो कहीं हारमोनियम, चिमटा, ढ़ोलक ,और उस ढ़ोलक पर ज़ोर ज़ोर से थपकाने के तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाला चम्मच। ढ़ोलक की थाप ख़ुशी का एहसास करा जाती,और पूरे आस पड़ोस को इस बात का अंदाज़ा हो जाता, कि किसी के घर में ख़ुशियाँ…. दस्तक दे रही हैं……



यहाँ तक कि घर के बर्तनों को भी कई बार वाद्यों के साथ इस्तेमाल कर लिया जाता, जैसे घर में मिलने वाली पीतल की गागर.........






लोकगीत ज़बान पर इस क़दर चढ़ जाते हैं कि, भले ही उनके शब्द हमें याद ना रहे, पर उनकी धुन हमारे ज़हन में रच बस जाती है । और जब कभी घर में कोई पावन पर्व होता,जिसमें घर की महिलाएँ उन गीतों को गातीं, तो बच्चे, बूढ़े ,जवान सभी, उन गीतों के साथ जुड़ से जाते ।इसी तरह लोकगीतों की ये परम्परा एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक जा पाती ।
पर आज, जैसे मानो लोक गीतों की तरह इस परम्परा के भी पाँव थम से गए हों ।
 
जन्म से लेकर मृत्यु तक के तमाम संस्कार में से एक, विवाह संस्कार ,एक ऐसा मौक़ा जहाँ रस्म है रिवाज है ,जिसमें गाना है नाच,और धमाल है ।इन सब के साथ है लोकगीत,
अगर बात करें उत्तर प्रदेश के लोकगीतों ख़ास तौर से विवाह गीतों की तो,मेहंदी, सेहरा,कंगना, बन्ना,बन्नी,बिदाई,
ये तमाम शब्द इन लोकगीतों में समाये हैं। ब्रज अवधी,खड़ी बोली का मिश्रण आप इन लोक गीतों में साफ़ तौर पर देख पाते हैं।
इन गीतों में इस्तेमाल होने वाले साज़ों की बात करें तो शुरुआत होती है शहनाई से, और साथ गाए जाते हैं मंगल गीत,जिसमें मूल तत्व होता है बन्नी(दुलहन) के वस्त्रों का, आभूषणों का विवरण करना, उसकी सुंदरता का वर्णन करना, घरवालों की खु़शी का बयान, बन्ने (दूलहे) की वेशभूषा का गुणगान करना, बारातियों का स्वागत,बदाई का आदान प्रदान और दूल्हे के आने की ख़बर कुछ इस तरह से देना






अपने बच्चों की शादी का मोक़ा कई मायनों में ख़ास होता है, जीवन के कुछ ख़ास पलों में से एक पल । माँ
, जब अपने बेटे को दूल्हे (बन्ने ) के रुप में देखती है तो उसकी खु़शी का ठिकाना नहीं रहता....और तब वो एहसास लोकगीतों के माद्यम से तरंगित होते हैं........


 
और जब दूल्हा आ जाए तो उससे और बारातियों से थोड़ा हँसी मज़ाक़, कुछ छेड़छाड़ न हो तो शादी का मज़ा भला पूरा कहाँ से होगा ...? और थोड़ी छे़डछाड़ कुछ इस तरह से......




 
लोकगीतों में जहाँ एक ओर हँसी मज़ाक़,छेड़छाड़, रिश्तों की गहराई होती, वहीं जीवन की समझ,उसकी हक़ीक़त भी आसानी से ब्याँ कर दी जाती ।




लोकगीत किसी क़ीमती आभूषण की तरह हैं, जिन्हें प्रयोग में लाने के कुछ समय बाद, जब फिर से सुना जाए, तो भी वही आकर्षण, वही जोश लिए होते हैं।

ये लोकगीतों की ताक़त
, उनकी अहमियत ही कही जाएगी कि, कई संगीतकारों ने अपने संगीत में लोकगीतों, या लोकधुनों का ख़ूब इस्तेमाल किया । ऐसे संगीतकारों में चितलकर, नौशाद साहब,ओ.पी नैयर,ख़य्याम जैसे नाम शामिल रहे । कुछ ऐसे फ़िल्मी गीत भी रहे, जो लोकधुनों, शब्दों, के चलते अलग ही बन पड़े हों

लोक धुनों पर आधारित ये गीत कुछ अलग समा बांध देते हैं,हमारी आँखों के आगे उस राज्य,क्षेत्र की तस्वीर बरबस ही बनने लगती है । जैसे की इस गीत को सुनकर,
ऐसा लगता है मानो कि रेगिस्तान की तपती रेत पर क़दमों के कुछ निशान छोड़ती एक औरत चलती जा रही है.......।


ये धुन फिल्म सिलसिला के इस गीत की याद नहीं दिलाता

 
आज हमारे सिनेमा से गाँव, वहाँ के रिवाज और साथ ही लोकगीत .....दूर हो चले हैं, और कभी-कभी तो लोकगीतों के नाम पर ओछापन तक परोसा जाता है ।
पर जब कभी लोकगीतों की झलक लिए कोई गीत सुनाई देता है तो उसे पसंद ज़रुर किया जाता है...
लोकगीत, त्यौहारों,परम्पराओं को समझने और उन्हें जीवित रखने का एक ज़रिया हैं।फिर चाहे होली की उमंग हो या बैसाखी का धमाल



अपनी इस कोशिश में कितने कामयाब रहे ,ये जानने का बेसब्री से इंतज़ार रहेगा...।(अनुशुमान भैया का शुक्ररिया कुछ चित्रों को बांटने के लिए,कुछ गीत indianraga से लिए गए हैं)



यहाँ भी लोक रंग बिखरे पड़े हैं



अगर आप कोई सुझाव,या कुछ जोड़ना चाहते हैं,कोई जानकारी जो हमारी परम्परा को दर्शाती हो या कोई लोक गीत जिसे आप मुझ तक पहुँचा सकें तो आप इस ई-मेल पर भेज सकते हैं
vikaszutshisn@rediffmail.com

जाते -जाते इस शख़्स से भी मिल लीजिये जिसने बिसरे साज़ों को सहेजने का संकल्प ले रखा है

अन्य सुर्खिया
- लोक गीत 03-Dec-12
- लोकनृत्य 25-Aug-12
- Lok Nrty 06-Mar-12
- प्रमुख लोक नृत्य 25-Feb-12
- पपीते खाने के फायदे 27-Sep-11
1