Today Visitor :
Total Visitor :


मुकाबला जीतकर बेल्जियम ने बनाई अंतिम 16 में जगह      |      अनिल कपूर ने कहा, मैं सिनेमा का आज्ञाकारी शिष्य हूं      |      जम्मू में गरजे शाह, कहा- कश्मीर को नहीं होने देंगे अलग      |      इंडिगो से सफर करना हुआ महंगा      |      मोदी ने दी राजगढ़ को 4 हजार करोड़ की सौगात      |      ब्राजील ने कोस्टा रिका को 2-0 से हराया      |      ‘मुन्ना भाई’ बने रणबीर कपूर      |      इंदौर में प्रधानमंत्री का 23 जून को कार्यक्रम होगा       |      बीजेपी के कई विधायकों के टिकट कटेंगे-राकेश सिंह      |      कांग्रेस नेता ने किया कश्मीर की आजादी का समर्थन      |      फीफा वर्ल्ड कप- रोनाल्डो के गोल से खुला पुर्तगाल की जीत का खाता      |      रणबीर कपूर ने की सलमान खान की तारीफ      |      मोदी ने देहरादून में 55 हजार लोगों के साथ किया योग      |      योग कर रामदेव ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड      |      मुख्यमंत्री ने "योगा फॉर आल" पुस्तक का विमोचन किया      |      बेल्जियम और पनामा के मैच में ऋषि तेज ने बॉल बॉय बनकर इतिहास रच दिया       |      ‘रेस 3’ की आलोचना पर बोले बॉबी      |      कल पूरे भारत में मनाया जाएगा योग दिवस,      |      पराक्रम, पुरुषार्थ और शिक्षा के साथ संस्कार भी जरूरी - राज्यपाल      |      गरीबी हटाना मेरा संकल्प है, इसे अवश्य पूरा करूँगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      फीफा विश्व कप:बेल्जियम ने 3-0 से पनामा को हरा दिया      |      सोमवार को बॉक्स ऑफिस पर दीपिका की ‘पद्मावत’ से पिछड़ी ‘रेस 3’      |      भाजपा ने महबूबा मुफ्ती से तोड़ा गठबंधन      |      कुपोषण एवं टीबी निवारण में विश्वविद्यालय भी करें योगदान – राज्यपाल श्रीमती पटेल      |      गौ-संरक्षण के लिये गौ-शालाओं को 17 रुपये प्रति गाय अनुदान दिया जायेगा      |      फीफा वर्ल्ड कप 2018-तोते की भविष्यवाणी- जापान नहीं जीत पाएगा अपना पहला मुकाबला      |      पापा के साथ मजबूती से खड़ी रहती हूं : दीपिका पादुकोण      |      ट्रेन हुई लेट तो यात्रियों के लिए फ्री खाने-पीने की व्यवस्था करेगा रेलवे      |      पंजाब की एलिजा बंसल ने किया टॉप      |      मुख्यमंत्री श्री चौहान केन्द्रीय वित्त मंत्री श्री पीयूष गोयल से मिले      |      

आनंद की बात

गर्मियों के मौसम में पसीना आना एक आम समस्या है। मगर कुछ लोगों की पसीने की स्मैल इतनी गंदी होती है। उसके पास बैठना भी मुश्किल हो जाता है। इस समस्या के कारण कई बा
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
गलत खान-पान के कारण लोगों की हेल्थ प्रॉब्लम्स भी बढ़ती जा रही है। जिसके कारण लोगों को हर तीसरे दिन अस्पतालों में चक्कर निकालने पड़ रहे हैं। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसे पौधे के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे इस्तेमाल करके आप घर पर कई समस्याओं से छुटकारा ...
आगे पढ़ें
गर्मी के तपते मौसम में खुद का ख्याल रखना बहुत जरूरी है। खान-पान में जरा-सी गड़बड़ी होने पर सेहत से संबंधित बहुत-सी परेशानियां होने लगती हैं। इस मौसम में लोगों को सबसे ज्यादा जिस समस्या का सामना करना पड़ता है, वह है शरीर में गर्मी पड़ना। शरीर यानि पेट...
आगे पढ़ें
अद्वैतवाद दर्शन में दुनिया की सभी समस्याओं का समाधान निहितBookmark and Share

 मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भौतिकता की अग्नि में दग्ध दुनिया को शांति का दिगदर्शन अद्वैत दर्शन ही करायेगा। भारतीय सांस्कृतिक एकता एवं सामाजिक समरसता के ध्वज वाहक आदि गुरू शंकराचार्य द्वारा बताए गए अद्वैतवाद दर्शन में दुनिया की सब समस्याओं का समाधान निहित है। श्री चौहान आज ग्वालियर में आदि गुरू शंकराचार्य की प्रतिमा के लिये धातु संग्रहण एवं जन-जागरण के उद्देश्य से आई एकात्म यात्रा के जन-संवाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंहउच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैयामहापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकरजिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मनीषा भुजवल सिंह यादवविधायक सर्वश्री नारायण सिंह कुशवाहभारत सिंह कुशवाहसामान्य निर्धन वर्ग कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री बालेन्दु शुक्लसाडा अध्यक्ष श्री राकेश सिंह जादौनजीडीए के अध्यक्ष श्री अभय चौधरीमहामण्डलेश्वर स्वामी परमानंद जी महाराजमहामण्डलेश्वर राधे-राधे बाबा जीसंत श्री रामदास महाराज दंदरौआ सरकारसंत श्री रामसेवकदास महाराज गंगादास की शालासंत श्री दादा रमेशलाल जी धर्मपुरी धाम व राजयोगिनी ब्रम्हाकुमारी अवधेश दीदीसंत कृपाल सिंह जी महाराज सहित अन्य संतजनयात्रा संयोजक श्री राजेश सोलंकी एवं अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय संस्कृति में भगवान को प्राप्त करने के तीन मार्ग ज्ञानमार्गभक्तिमार्ग एवं कर्ममार्ग बताए गये हैं। आदि गुरू शंकराचार्य ज्ञानभक्‍ति एवं कर्म मार्ग के त्रिवेणी संगम थे। जिस समय भारतीय समाज विभिन्न मत-मतांतर एवं कर्मकाण्डों में उलझा हुआ थाऐसी विपरीत परिस्थितियों में आदि गुरू शंकराचार्य भारतीय सनातन संस्कृति के प्रणेता के रूप के सामने आए। उन्होंने भारत को चारों दिशाओं में जोड़ने का काम किया। आदि गुरू ने भारत के चारों कोनों में चार मठों की स्थापना की और अद्वैत दर्शन को जन-जन तक पहुँचाया। आदि गुरू शंकराचार्य ने मानव मात्र में एकात्मता का उदघोष किया। उन्होंने संदेश दिया कि मानव मात्र सहित प्रत्येक जीव में एक ही चेतना है और हम सब एक ही परमात्मा की संतान हैं।