Today Visitor :
Total Visitor :


ICC पुरूष ओडीआई रैंकिंग में विराट कोहली बने नंबर 1 बल्लेबाज      |      ओपनिंग डे पर 'राज़ी' से आगे निकली 'धड़क'      |       दिल्ली-एनसीआर में भारी बारिश से जगह-जगह पानी भरा, ओडिशा में बारिश      |      भाजपा अगर 2019 के आम चुनाव के लिए संपर्क करे तब भी टीडीपी एनडीए में शामिल नहीं होगी      |      मध्यप्रदेश में विकास का विजन स्पष्ट है - मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      सांची बौद्ध विश्वविद्यालय परिसर में स्थापित होंगे अन्य देशों के अध्ययन केन्द्र      |      टेस्ट सीरीज के लिए टीम इंडिया का हुआ एलान      |      'बिग बॉस 12' के जल्द ऑनएयर होने की वजह से 'खतरों के खिलाड़ी 9' हो जाएगा पोस्टपोन      |      लोकसभा में अब तक लाए गए हैं 27 अविश्वास प्रस्ताव, बीते 15 सालों में है पहला      |      शिवसेना ने कहा- राहुल गांधी ने पीएम मोदी को झप्पी नहीं झटका दिया है      |      शिवसेना ने कहा- राहुल गांधी ने पीएम मोदी को झप्पी नहीं झटका दिया है      |       विश्व विजेता फ्रांस फुटबॉल टीम को मिलेगा देश का सबसे बड़ा सम्मान      |      फैशन वीक 2018: कंगना रनौत, अदिति राव हैदरी करेंगी रैंपवाक      |      भ्रष्टाचार निवारण संशोधन विधेयक राज्यसभा में पास      |      कवि गोपाल दास नीरज का लंबी बीमारी के बाद निधन      |      कवि गोपाल दास नीरज का लंबी बीमारी के बाद निधन      |      सतना में 287 करोड़ 75 लाख की लागत से बनेगा मेडिकल कॉलेज      |      अब रणवीर सिंह के साथ नजर आएंगी करिश्मा तन्ना      |      इंग्लैंड ने भारत को आठ विकेट से हराकर सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली.      |      उच्चतम न्यायालय ने दिल्ली में अवैध निर्माण और अतिक्रमण धडल्ले से होने देने को लेकर बुधवार को अधिकारियों को फटकार लगाई      |      राहुल गांधी ने कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) का गठन किया      |      महात्‍मा गांधी की 150वीं जयंती पर कैदियों की सजा माफी होगी      |      फीफा वर्ल्ड कप विजेता टीम फ्रांस ने 18 कैरेट सोने की ट्रॉफी और 260 करोड़ रुपये किए अपने नाम      |      स्नेहा वाघ ने 'मेरे साईं' में अपने किरदार का किया खुलासा      |      प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संसद की कार्यवाही सुचारू रूप से चलाने के लिए सभी दलों का सहयोग मांगा      |      जल्द बाजार में आएगा 100 का नया नोट      |      स्टार्ट अप की नई राह पर चलकर नई सृष्टि की रचना करें - मुख्यमंत्री श्री चौहान      |      कांग्रेस-बीएसपी में गठबंधन की पहल तेज      |      फिनलैंड के हेलसिंकी पहुंचे ट्रंप      |      फ्रांस ने जीता वर्ल्ड कप      |      

आनंद की बात

तनावपूर्ण जिंदगी में डिप्रैशन एक आम समस्या हैं। इस बीमारी का शिकार कब कौन हो जाए कोई कुछ नहीं कहा जा सकता हैं। व्यक्ति किसी भी वजह से डिप्रैशन का शिकार हो सकता
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
दूध का ज्यादा फायदा लेने के लिए आप अक्सर उसमें बादाम, चॉकलेट पाउडर या अन्य पौष्टिक चीजें डालकर पीते हैं। मगर आज हम आपको दूध में तुलसी डालकर पीने के फायदे बताने जा रहे हैं। रोजाना तुलसी वाला दूध पीने से आपकी माइग्रेन और किडनी स्टोन की समस्या दूर हो जा ...
आगे पढ़ें
हैल्दी रहने के लिए पौष्टिक आहार, फलों-सब्जियों का सेवन करते हैं। बहुत से लोग एप्पल या एप्पल जूस को सेहत के लिए काफी फायदेमंद मानते हैं लेकिन केवल एप्पल जूस ही नहीं एप्पल साइडर विनेगर भी सेहत के लिए काफी फायदेमंद हैं। इसके सेवन से कई रोगों से छुटकारा ...
आगे पढ़ें
किसानों के लिये बजट में 20 हजार करोड़ की व्यवस्था : मुख्यमंत्री श्री चौहानBookmark and Share

 मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि किसानों के लिये बजट में 20 हजार करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है। यह राशि किसानों के बैंक खातों में विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत पहुँचाई जायेगी। मुख्यमंत्री ने यह जानकारी सीहोर जिले की नसरुल्लागंज तहसील के गोपालपुर में 516 करोड़ 11 लाख की लागत की छीपानेर माइक्रो उद्वहन सिंचाई योजना के शिलान्यास और किसान सम्मेलन में दी। श्री चौहान ने 21 करोड़ 69 लाख की लागत की समूह नल-जल योजना तथा 2 करोड़ की लागत के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के भवन का भी लोकार्पण किया।

मुख्यमंत्री ने बताया कि किसानों की खेती से आय बढ़ाने के लिये ही प्रदेश में सिंचाई का रकबा बढ़ाया जा रहा है। जहाँ नहरों के माध्यम से सिंचाई संभव नहीं है, वहाँ उद्वहन सिंचाई योजनाएँ बनाकर किसानों के खेतों तक पानी पहुँचाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार किसान की मेहनत का सम्मान करती है। इसलिये किसानों के हित संरक्षण के लिये हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं।

श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में यह पहला मौका है, जब राज्य सरकार ने किसानों को पिछले वर्ष बेची गई गेहूँ की फसल के लिये 200 रुपये प्रति क्विंटल प्रोत्साहन राशि देने का निर्णय लिया। आगामी 16 अप्रैल को शाजापुर में राज्य-स्तरीय समारोह में 10 लाख किसानों के खातों में 16 करोड़ की राशि जमा करवाई जायेगी। इसी दिन हर जिला मुख्यालय पर किसानों के खातों में प्रोत्साहन राशि जमा कराने का कार्य किया जायेगा। उन्होंने बताया कि इस बार भी किसानों को मण्डियों में गेहूँ बेचने पर 265 रुपये प्रति क्विंटल प्रोत्साहन राशि दी जायेगी। श्री चौहान ने कहा कि चना, मसूर और सरसों की समर्थन मूल्य पर खरीदी पर भी किसान को समर्थन मूल्य के अलावा 100 रुपये प्रति क्विंटल प्रोत्साहन राशि दी जायेगी। उन्होंने कहा कि मण्डी के बाहर गेहूँ और चने की बिक्री करने वाले किसानों को भी भावांतर योजना का लाभ दिया जायेगा। श्री चौहान ने बताया कि ऋण समाधान योजना में किसानों के कुल ऋण पर ब्याज और चक्रवृद्धि ब्याज का भुगतान राज्य सरकार करेगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री असंगठित श्रमिक कल्याण योजना में अभी तक पौने दो करोड़ से अधिक श्रमिकों ने पंजीयन करवाया है। पंजीकृत श्रमिकों को विभिन्न शासकीय योजनाओं का लाभ, घर बनाने के लिये जमीन का पट्टा और आर्थिक सहायता तथा 200 रुपये मासिक फ्लेट रेट पर बिजली भी उपलब्ध करवायी जायेगी।

छीपानेर माइक्रो उद्वहन सिंचाई योजना

छीपानेर माइक्रो उद्वहन सिंचाई योजना से सीहोर जिले की नसरुल्लागंज तहसील और देवास जिले की खातेगाँव तहसील में 35 हजार 62 हेक्टेयर कृषि भूमि में सिंचाई सुविधा उपलब्ध होगी। योजना के निर्माण के लिये 516 करोड़ 11 लाख रुपये की प्रशासकीय स्वीकृति जारी की गई है। योजना के अंतर्गत नर्मदा नदी के तट पर 5 विभिन्न स्थान पर कुल 12.64 क्यूमेक्स जल का उद्वहन किया जायेगा। ग्राम चीचली, करोंदमाफी, पीपलनेरिया, छीपानेर तथा चौरसाखेड़ी के पास पम्पिंग स्टेशन बनाये जायेंगे। पम्पिंग स्टेशन से 6 राइजिंगमेन द्वारा नर्मदा जल खेतों तक पहुँचेगा।

 

योजना की विशेषता यह है कि जल वितरण प्रणाली पाईप आधारित होगी। पाईप से जल प्रत्येक ढाई हेक्टेयर चक तक किसान को 20 मीटर दबाव पर उपलब्ध होगा। दाबयुक्त जल से किसान ड्रिप अथवा स्प्रिंकलर से सिंचाई कर सकेंगे। इस पद्धति से सिंचाई पर किसान को खेत समतल करने की आवश्यकता नहीं होगी। कम पानी से अधिक और उपयोगी सिंचाई का लाभ मिलेगा। यह योजना प्रधानमंत्री के 'पर ड्राप मोर क्राप'' अर्थात पानी की बूँद-बूँद का उपयोग कर न्यूनतम जल से अधिकतम सिंचाई करने पर आधारित है। जल वितरण प्रणाली पाईप आधारित होने से भूमि का स्थाई अर्जन नहीं होगा। पम्प हाउस के लिये केवल लगभग छ: हेक्टेयर भूमि के स्थाई अर्जन की आवश्यकता होगी।