Today Visitor :
Total Visitor :


पहले 2 वनडे मैचों के लिए भारतीय टीम का ऐलान      |      परिणिती की 10 इंडो-वैस्टर्न ड्रेसेज      |      देश को ‘बकबक करने वाले ब्लॉगर नहीं, वित्त मंत्री की जरूरत: कांग्रेस      |      मैं नीरव मोदी से कभी नहीं मिला: अरुण जेतली      |      मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने मीडिया मॉनीटरिंग कक्ष का निरीक्षण किया      |      मी टू-सुष्मिता सेन ने कहा- आपको सुनना होगा, उस पर विश्वास करना होगा      |      जब हम पृथ्वी शाॅ की उम्र के थे तो हम उसके 10 प्रतिशत भी नहीं थेः कोहली      |      उद्धव ठाकरे का भाजपा पर तंज      |      चुनाव के समय ही पेट्रोल-डीजल पर विचार करते हैं मोदी : कांग्रेस      |      मतदाता पर्चियों का अनाधिकृत वितरण और कब्जे में पाये जाने पर दण्डनीय कार्यवाही होगी - मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी      |      INDvsWI: दूसरे टेस्ट में शानदार जीत के साथ टीम इंडिया का सीरीज पर कब्जा      |      डिफरेंट एक्सेसरीज से बनाएं स्टाइल स्टेटमेंट      |      सिद्धू के पाक प्रेम पर भाजपा का तंज      |      मी टू: दिल्ली में पत्रकारों का प्रदर्शन      |      24 घंटे में तीन गुना बढ़ा दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण      |      पंजाबी सिंगर गुरु के साथ रैंप पर उतरी उर्वशी रौतेला      |      IND vs WI 2nd Test: भारत ने बनाए 4 विकेट खोकर 308 रन      |      सबसे बड़ा रक्षा घोटाला है राफेल सौदा : प्रशांत भूषण      |      रावण पर लगा GST का ग्रहण, छोटा हुआ कद      |      सम्पत्ति विरूपण के 5 लाख 12 हजार से अधिक प्रकरण दर्ज      |      MeToo: दिल्ली HC ने कहा, सोशल मीडिया पर न करें पहचान उजागर      |      आईसीसी ने शुरू की महिला टी20 टीम रैंकिंग, भारत पांचवें स्थान पर      |      घोड़े पर सवार माता रानी के दर्शन करने पहुंची सारा अली खान      |      अन्य चुनावों से कम नहीं है स्थानीय निर्वाचन की चुनौतियाँ-श्री परशुराम      |      सबको शाकाहारी बनने का आदेश नहीं दे सकते: सुप्रीम कोर्ट      |      मुख्य चयनकर्ता ने तोड़ी चुपी- बताया क्यों पंत को चुना वनडे टीम में      |      रैंप पर ब्लैक ड्रेस पहनकर उतरी सोनाक्षी      |      भारत के साथ जल्द होंगी और डील- रूस      |      सम्पत्ति विरूपण के 3 लाख 44 हजार से अधिक प्रकरण दर्ज      |      राज्यपाल ने राजभवन में गरबा महोत्सव का उदघाटन किया      |      

आनंद की बात

इम्यून सिस्टम यानि रोग प्रतिरोधक क्षमता हमें कई बीमारियों से सुरक्षित रखती है। छोटी-मोटी इंफैक्शन से शरीर खुद ही निपट लेता है लेकिन अगर प्रतिरोधक क्षमता ही कमज
आगे पढ़ेंअन्य विविध समाचार
नवरात्रि के छठे दिन माता दुर्गा के कात्यायनी स्वरूप की पूजा की जाती है। इस दिन माता की पूजा शाम के समय करने का विशेष विधान है। माता की पूजा में पीले वस्त्र, पीले फूल और शहद चढ़ाया जाता है। मिट्टी या चांदी के बर्तन में शहद रखकर माता को भोग लगाना चाहिए ...
आगे पढ़ें
मूली का इस्तेमाल हर घर में स्लाद, सब्जी या परांठे बनाने के लिए किया जाता है। बेशक खाने में यह थोड़ी तीखी हो लेकिन सेहत के लिए यह किसी औषधि से कम नहीं है। आयुर्वेद में तो इसे लीवर और पेट के लिए 'प्राकृतिक प्यूरीफायर' माना गया है। इतना ही नहीं, इसका से...
आगे पढ़ें
देश को समर नहीं, समरसता की जरूरत : राष्ट्रपति श्री कोविंदBookmark and Share

 राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने कहा है कि आज देश को समर नहीं, समरसता की जरूरत है। श्री कोविंद ने कहा कि बाबा साहेब ने हमेशा शांति, करूणा और अंहिसा का रास्ता चुना। राष्ट्र की अखण्डता के संदर्भ में बाबा साहेब कहते थे कि 'वे पहले भारतीय हैं, बाद में भी भारतीय हैं और अंत में भी भारतीय हैं।' उन्होंने नागरिकों से बाबा साहब के सपनों के भारत का निर्माण करने में योगदान देने का आव्हान किया। राष्ट्रपति ने नागरिकों से कहा कि जीवन को सार्थक बनाने के लिये बाबा साहेब के समरसता के संदेश को अपनाने का संकल्प लें।

राष्ट्रपति आज इंदौर के समीप बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जन्मस्थली महू में आयोजित 127वें जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे। राष्ट्रपति ने भीम जन्म भूमि स्मारक जाकर भारत रत्न डॉ. भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा पर श्रद्धा-सुमन अर्पित किये और अनुयायियों के बीच बैठकर भोजन ग्रहण किया।

राष्ट्रपति श्री कोविंद ने महू में हर साल अम्बेडकर महाकुंभ आयोजित करने के लिये मध्यप्रदेश सरकार की सराहना की। उन्होंने कहा कि डॉ. अम्बेडकर की जन्म स्थली महू नागरिकों के लिये प्रेरणास्त्रोत है। नई पीढ़ी को यह समझना होगा कि आधुनिक भारत के निर्माण की नींव बाबा साहेब ने रखी थी। दामोदर वैली, हीराकुंड जैसे बांध और वृहद बिजली परियोजनाएं लागू करने जैसे बड़े कामों के पीछे बाबा साहेब की प्रगतिशील सोच थी। डॉ. अम्बेडकर ने महिलाओं को मतदान का अधिकार दिलवाया। मजदूरों के काम के घंटे बारह से घटाकर आठ किये। महिलाओं को संपत्ति में बराबरी का अधिकार दिलवाया। भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना में भी उनका महत्वपूर्ण योगदान है।

श्री कोविंद ने कहा कि बाबा साहेब ने हमेशा भगवान बुद्ध के शांति और अंहिसा का मार्ग अपनाया। वे कहते थे कि जब विरोध के संवैधानिक उपकरण उपलब्ध हैं, तो हिंसात्मक तरीकों की कोई जरूरत नहीं है। वे महान विधिवेत्ता, विद्वान और समाज सुधारक थे। उनके बनाये संविधान की शक्ति से प्रजातंत्र जीवंत हुआ। कमजोर, वंचित और पिछडे लोगों को आगे बढ़ने का मौका मिला, जिससे वे देश की प्रगति में योगदान देने में सक्षम बने हैं। श्री कोविंद ने कहा कि राष्ट्रपति के रूप में अम्बेडकर जन्म-स्थली महू में यह उनकी पहली यात्रा है। उल्लेखनीय है कि अम्बेडकर जयंती पर बाबा साहेब की जन्म-स्थली महू में भ्रमण पर आने वाले वे पहले राष्ट्रपति हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि बाबा साहेब ने जो संविधान दिया है, वह समानता का मूल अधिकार देता है। इसके बाद सबसे बड़ा अधिकार मतदान का अधिकार है जो लोकतंत्र का आधार है। वे कहते थे शिक्षित बनो, संगठित रहो और संघर्ष करो। बाबा साहेब एक असाधारण विद्यार्थी थे। उन्होंने कहा कि समझदारी के बिना शिक्षा अधूरी है। जब पहला मंत्रिमंडल बना, तो डॉ. अम्बेडकर विधि मंत्री के रूप में शामिल हुए । वे उस समय मंत्रिमंडल के सदस्यों में सर्वाधिक डिग्री प्राप्त मंत्री थे। उन्होंने शिक्षा पर पूरा ध्यान केन्द्रित किया। उनका जीवन युवाओं के लिये अत्यंत प्रेरणास्प्रद है।

श्री कोविंद ने बताया कि बाबा साहेब ने मात्र 27 साल की उम्र में 'स्माल होल्डिंग इन इंडिया एण्ड रेमेडीज' शीर्षक से आलेख लिखकर स्वयं को उच्च-कोटि का अर्थशास्त्री साबित कर दिया था। उन्होंने हमेशा अहिंसा और करूणा का मार्ग अपनाया। राष्ट्रपति ने कहा कि जय भीम बोलने का अर्थ है बाबा साहब के बनाये संविधान का सम्मान करना, उनकी वैचारिक विरासत का सम्मान करना ।

राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा कि भारत रत्न डॉ. भीमराव अम्बेडकर न केवल भारतीय संविधान के निर्माता थे, बल्कि उनका आधुनिक भारत के निर्माण, कमजोर वर्गों और महिलाओं की उन्नत्ति में तथा सामाजिक समरसता में महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार कमजोर वर्गों और महिलाओं के उत्थान के लिये निरंतर कार्य कर रही है। केन्द्र सरकार ने भी 'सबका साथ-सबका विकास' के मार्ग पर चलते हुये सामाजिक न्याय और कौशल विकास के लिये ठोस कदम उठाये हैं।

श्रीमती पटेल ने कहा कि बाबा साहेब के सपनों को पूरा करने के लिये सरकार द्वारा समाज के कमजोर वर्ग, अनुसूचित जाति और जनजाति के कल्याण, शिक्षा, रोजगार के क्षेत्र में सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। उन्होंने सभी से समाज में एकता, समरसता बनाये रखने तथा देश के नव-निर्माण में सहभागी बनने की अपील की।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि डॉ अम्बेडकर के जीवन और उनकी स्मृति से जुड़े पाँच स्थानों को मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में शामिल किया जायेगा। यह तीर्थ स्थान हैं बाबा साहब की जन्म-स्थली महू, लंदन स्थित वह मकान जहां उन्होंने शिक्षा ग्रहण की थी, दीक्षा भूमि नागपुर, परि-निर्वाण स्थल अलीपुर रोड बंगला, नई दिल्ली और चैत्य भूमि, मुम्बई जहाँ उनका अंतिम संस्कार हुआ था। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार डॉ अम्बेडकर के आदर्शों पर चल रही है। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब के संविधान को कोई खतरा नहीं है।

श्री चौहान ने कहा कि बाबा साहेब उच्च कोटि के समाज सुधारक थे। वे सम्पूर्ण समाज के आदर्श थे, जो वंचितों, शोषितों और पीड़ितों के लिये जीवनभर संघर्ष करते रहे। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब के सिद्धांतों पर चलते हुये असंगठित क्षेत्रों के मजदूरों के लिये अभूतपूर्व निर्णय लिये गये हैं। अब प्रदेश में कोई भी गरीब बिना मकान और जमीन के नहीं रहेगा। बच्चों को पहली कक्षा से लेकर पीएचडी तक मुफ्त शिक्षा दी जायेगी। उनका मुफ्त इलाज होगा। बिजली उन्हें फ्लेट रेट पर मिलेगी। मजदूर बहनों को गर्भावस्था के दौरान चार हजार रूपये मिलेंगे और प्रसव के बाद बारह हजार रूपये अपने स्वास्थ्य और बच्चे की देखरेख के लिये दिये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार कमजोर वर्गों के सामाजिक, आर्थिक, शैक्षणिक और राजनैतिक उत्थान के लिये प्रतिबद्ध है।

केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री श्री थावरचंद गेहलोत ने कहा कि डॉ. अम्बेडकर की स्मृति को जीवंत बनाये रखने के लिये प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्‍व में महत्वपूर्ण कार्य सम्पन्न हुए। उन्होंने बताया कि बाबा साहेब की शिक्षा स्थली लंदन का घर खरीदने से लेकर परि-निर्वाण स्थल अलीपुर रोड को राष्ट्रीय स्मारक घोषित करने एवं महू को भव्य स्मारक के रूप में विकसित करने जैसे कार्य हुए हैं। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब के आदर्शों पर चलते हुये केन्द्र सरकार ने अनूठी योजनाएं और परियोजनाएं बनाई हैं, जिससे कमजोर और वंचित वर्गों को आगे बढ़ने में मदद मिल रही है।

महू के विधायक श्री कैलाश विजयवर्गीय ने स्वागत भाषण में डॉ अम्बेडकर की तुलना भगवान शिव से करते हुये कहा कि जिस प्रकार शिव ने विष पिया और अमृत दिया, उसी प्रकार बाबा साहेब डॉ. अम्बेडकर ने समाज को संविधानरूपी अमृत दिया।

राज्यपाल ने राष्ट्रपति को इंदौर के सुप्रसिद्ध राजवाड़े की प्रतिकृति, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शौर्य स्मारक भोपाल की प्रतिकृति और भंते संघशील ने भगवान बुद्ध की प्रतिमा भेंट की।

इस अवसर पर वन मंत्री डॉ गौरीशंकर शेजवार, अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण मंत्री श्री लाल सिंह आर्य, जेल एवं पशुपालन मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, क्षेत्रीय सांसद श्रीमती सावित्री ठाकुर, राज्य अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष श्री भूपेन्द्र आर्य, अम्बेडकर स्मारक समिति के अध्यक्ष श्री भंते सदानंद और श्री भंते संघशील और विशाल संख्या में देशभर से आये बाबा साहब के अनुयायी उपस्थित थे।